4 राज्यों में कांग्रेस को मिले 4.9 करोड़, भाजपा को 4.81 करोड़ मत

4 राज्यों में कांग्रेस को मिले 4.9 करोड़, भाजपा को 4.81 करोड़ मत

4 राज्यों में कांग्रेस को मिले 4.9 करोड़, भाजपा को 4.81 करोड़ मत। मीडिया ऐसा बता रहा, जैसे विपक्ष लुट गया, सब बर्बाद हो गया। सच्चाई का दूसरा पक्ष देखिए-

आज पटना से प्रकाशित प्रभात खबर की हेडिंग है मोदी-मोदी-मोदी। अखबारों और न्यूज चैनलों पर केवल एक ही नाम सुनाई पड़ रहा है-मोदी। मीडिया ऐसा प्रचारित कर रहै है, जैसे देश में विपक्ष लुट गया, विपक्ष के लिए कुछ नहीं बचा। सब कुछ बर्बाद हो गया। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। एक आंकड़ा देखिए जिन चार राज्यों में चुनाव हुए, उनमें कांग्रेस को कुल चार करोड़ 90 लाख मत मिले, जबकि भाजपा को चार करोड़ 81 लाख वोट मिले।

चार राज्यों के चुनाव परिणाम पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि तीन प्रदेशों में हमारी जीत 2024 लोकसभा जीत की गांरटी है। दरअसल प्रधानमंत्री की इसी बात को विभिन्न अखबार और मीडिया समूह प्रतिध्वनित कर रहे हैं। वे हवा बनाने में लग गए है कि विपक्ष खत्म हो गया, जबकि सच्चाई यह है कि कांग्रेस को हर प्रदेश में 40 प्रतिशत से ज्यादा या उसके आसपास वोट मिले। एक और भी बात ध्यान देने की है कि मीडिया तेलंगाना पर बात ही नहीं कर रहा या कर रहा तो बस छूकर निकल जाने के लिए।

इस बीच कांग्रेस के कई नेताओं ने हताशा पैदा करने तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अजेय छवि पेश करने की कोशिशों के सामने चुनाव रिजल्ट के दूसरे पक्ष को सामने लाने की कोशिश की है। कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रीया श्रीनेत ने कहा कि लड़ाई लड़नी क्यों ज़रूरी है? इसलिए कि इस देश ने 4 राज्यों में कांग्रेस को भाजपा से 10 लाख ज़्यादा वोट दिये और जिन राज्यों में भाजपा जीती वहाँ भी हमें औसतन 40% से ऊपर लोगों ने अपना वोट दिया।

4 राज्यों में BJP-कांग्रेस के वोट कांग्रेस: 4 करोड़ 90 लाख से ऊपर भाजपा: 4 करोड़ 81 लाख से ऊपर। तेलंगाना वोट प्रतिशत कांग्रेस – 39.40% भाजपा – 13.90%। छत्तीसगढ़ वोट प्रतिशत कांग्रेस – 42.23% भाजपा – 46.27%। राजस्थान वोट प्रतिशत कांग्रेस – 39.53% भाजपा – 41.69%। मध्यप्रदेश वोट प्रतिशत कांग्रेस – 40.40% भाजपा – 48.55% हार जीत चुनावी राजनीति का हिस्सा है. लेकिन इतने सारे लोगों के इस विश्वास के भी कुछ मायने हैं – आँकड़ों तो यही बताते हैं।

जहरीला भाषण : इसे गिरफ्तार क्यों नहीं करती बिहार सरकार