बिहार के पहले ई-मुशायरे से साहित्य जगत में हलचल,मुन्ववर राणा व अनेक शायर 30,31 मई को जूम ऐप पर

विगत एक वर्ष में बिहार की अदबी दुनिया में खास मुकाम हासिल कर चुके Advantage Literary Festival की तैयारी पूरी हो चुकी है. 30,31 मई को जूम ऐप पर मुन्वर राणा व अमेरिकी शायर फरहत शहजाद के साथ अनेक शायर अपनी न्जमें पेश करेंगे.


एडवांटेज लिटरेरी फेस्टिवल और अदबी संगम, नयी दिल्ली द्वारा 30 और 31 मई को डिजिटल प्लेटफॉर्म जूम पर दो दिवसीय इंटरनेशनल ई-मुशयरा का आयोजन किया गया है जिसमें चुनिंदा शायर शिरकत करेंग। यह कार्यक्रम शम के 7-30 बजे से रात 9-00 बजे तक चलेगा.

चुनिंदा शायरों में लखनऊ के मुनव्वर राणा, अमेरिका के फरहत शहजाद तथा डॉ- असरार, भोपाल की नुसरत मेहदी 30 मई को कार्यक्रम में शिरकत करेंगे। इस कार्यक्रम मुम्बई की मॉडरेटर होंगे वकील मोइन।

दूसरे दिन यानी 31 मई के कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के मंसूर उस्मानी, कानपुर की शबीना अदीब, मुम्बई के मो- तुराज, अबुधाबी के सैयद सरो’वर आसिफ, बरेली के तारीक कैफी और अमेरिका के डॉ- नौ’ा असरार शामिल होंगे. इस कार्यक्रम को माडरेट करेंग दिल्ली के अनस फैजी।

पहले दिन 30 मई के कार्यक्रम की सदारत मुनव्वर राणा करेंगे जबकि दूसरे दिन 31 मई के कार्यक्रम की सदारत करेंगे मंसूर उस्मानी।

यह एडवांटेज लिटरेरी फेस्टिवल का चौथा ,एपिसोड है.एडवांटेज ग्रूप की कंपनी ,एडवांटेज सपोर्ट ,डवांटेज लिटरेरी फेस्टिवल का आयोजन कर रही है। इसमें साहित्य, कला और संस्कृति के अदब और तहजीब पर चर्चा की जाती है।


यह जानकारी देते हुए एडवांटेज सपोर्ट के सचिव खुर्शीद अहमद ने बताया कि ई-मुशायरा के टिकटों की बिक्री आरंभ हो चुकी है। कुल 200 में से 50 टिकट बुक हो चुके हैं। जल्द से जल्द अपना टिकट बुक करा लें।

दो दिन के इस कार्यक्रम के लि, रजिस्ट्रेशन पर 500 :पये देय होंगे. कार्यक्रम से प्राप्त राशि जनहित के कार्यों पर खर्च की जायेगी। टिकट बुक करने के लिए आप advantagelit@gmail.com पर सम्पर्क कर सकते है.

उन्होंने कहा कि इस मुशायरा को लेकर लोगों में काफी दिलचस्पी है। इसमें खूबसूरती से टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जायेगा. उन्होंने कहा कि यह मुशायरा जहां एडवांटेज लिटरेरी फेस्टिवल का हिस्सा है, वहीं ईद के मौके पर एंटरटेनमेंट का एक अच्छा अवसर मुहैया करेगा.

गौरतलब है कि एडवांटेज लिटरेरी फेस्टिवल के पिछले एपिसोड में देश के अनेक नामचीन शायर हिस्सा ले चुके हैं इनमें फरहत शहजाद, एम तुराज जैसे अदीबों शायरों ने अजीमाबाद की सरजमीन के अदबी जौक रखने वालों के दिलों को जीत लिया था.

यहां पेश है इस ई-मुशायरे में शामिल होने वाले चंद शायरों के जनमानस पर राज करने वाले शेयर-


लबों पे उसके कभी बददुआ नहीं होती,
बस ,एक मां है कभी जो खफा नहीं होती।
-मुनव्वर राणा


लफ्ज जुदा है बात वही है, दुख और सुख की जात वही है,
अब जिसके सब दिन कहते हैं, किसको बताऊं रात वही है।
-फरहत शहजाद

एक तरफ 30 और 31 मई को ई-मुशायरे का दौर चलेगा वहीं एडवांटेज लिटरेरी फेस्टिवल के दूसरे दौर में 7 जून को शाम 7-30 बजे से रात 9-00 बजे तक डिजिटल प्लेटफॉर्म जूम पर कव्वाली का भी आयोजन किया जायेगा. जिसमें दिल्ली के निजामी ब्रदर्स कव्वाली पेश करेंगे.

मालूम हो कि एडवांटेजे सपोर्ट एडवांटेज ग्रूप की सीएसआर के तहत समाज में जागरूकता फैलाने का काम करती है.


इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए एडवांटेज लिटरेरी फेस्टिवल कोर कमेटी के सदस्य फैजान अहमद, ओबेदुर रहमान, फहीम अहमद, अहमद साद, ,जाज अहमद, अनवारुल होदा, विकास चतुर्वेदी, अनवर जमाल सचिव खुर्द अहमद तथा अध्यक्ष डा. एए हई काफी मेहनत कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*