आइसा ने राज्यपाल को हटाने के लिए शुरू किया आंदोलन

आइसा ने राज्यपाल को हटाने के लिए शुरू किया आंदोलन

छात्र संगठन आइसा ने बिहार में उच्च शिक्षा बचाने के लिए राज्यपाल को हटाने की मांग की है। संगठन ने राज्यपाल और मुख्यमंत्री का पुतला फूंका।

मिथिला विवि में आंदोलन करते आइसा कार्यकर्ता

बिहार में उच्च शिक्षा पढ़ाई के लिए नहीं, भ्रष्टाचार के लिए चर्चा में है। आइसा ने कहा कि राज्य में उच्च शिक्षा की बर्बादी के लिए 15 वर्षों से कुर्सी पर बैठे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजभवन दोनों जिम्मेवार है। संगठन ने राज्यपाल फागु चौहान तथा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला भी फूंका।

आइसा ने पटना विश्वविद्यालय गेट पर बिहार के राज्यपाल फागू चौहान और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला दहन कर राज्यपाल और नीतीश कुमार पर बिहार के उच्च शिक्षा को बर्बाद करने का आरोप लगाया। दरभंगा हाउस से नीतीश कुमार और राज्यपाल फागू चौहान के पुतले के साथ मार्च निकाला तथा वाणिज्य महाविद्यालय से पटना कॉलेज तथा साइंस कॉलेज होते हुए पटना विश्वविद्यालय के गेट पर पुतला दहन किया गया।

बिहार में संस्थाबद्ध तरीके से हुए किताब और कॉपी घोटाले में सीधे तौर पर राजभवन की संलिप्तता सामने आई है। इसके बाद से राज्यपाल फागू चौहान को दिल्ली भी तलब किया गया था।

आइसा राज्य अध्यक्ष विकाश यादव ने राज्यपाल पर हमला बोलते हुए कहा कि बिहार के नौजवानों के भविष्य के साथ राज्यपाल खिलवाड़ कर रहे हैं। बिहार के विश्विद्यालयों में हुए भ्रष्टाचार में राजभवन एवं राज्यपाल की संलिप्तता को नकारा नहीं जा सकता है। विगत 15 सालों से बिहार में नीतीश कुमार भ्रष्टाचार को शह दे रहे है। आइसा मांग करता है कि बिहार के विश्विद्यालयों में हुए भ्रष्टाचार पर अगर नीतीश कुमार जीरो टॉलरेंस की नीति है तो अब तक उच्च स्तरीय जांच क्यों नहीं किया गया? आइसा राज्यपाल की बर्खास्तगी और उच्च स्तरीय जाँच की माँग करता है।

आइसा नेता नीरज यादव ने कहा कि राज्यपाल इस घोटाले में सीधे तौर पर संलिप्त हैं। राज्यपाल पद की गरिमा बचाने के लिए राज्यपाल इस्तीफा दें या केंद्र सरकार इनको पद से बर्खास्त करें।

आइसा राज्य सह सचिव कुमार दिव्यम ने कहा कि पहले से ही जर्जर बना दिए गए बिहार के शैक्षणिक संस्थानों को अब लूट और वसूली का अड्डा बनाया जा रहा है। प्राथमिक शिक्षा को बर्बाद कर चुकी नीतीश सरकार अब केंद्र और राज्यपाल के साथ मिलकर उच्च शिक्षा का गला घोट रही है। बिहार के तमाम विश्विद्यालयों में 75% शिक्षकों एवं शिक्षकेतर पड़ खाली पड़े है।

प्रतिरोध मार्च आइसा राज्य अध्यक्ष विकाश यादव, राज्य सह-सचिव कुमार दिव्यम, राज्य कार्यकारिणी परिसद सदस्य नीरज यादव, शास्वत, पटना कालेज आइसा कन्वेनर आदित्य,साकेत सूर्या, चंदन, पीयूष, कुमार चंदन,समीर, रंजन क्रांति,दीपिका, खुशबू, कृष्णा,निशांत,आशीष,शशांक,सैफ, दिनकर,ओडो, सोमदत्त समेत पटना विश्वविद्यालय के दर्जनों छात्र-छात्राएं मौजूद थे।

यूपी : सपा ने शुरू किया हर घर झंडा, राहुल-प्रियंका करेंगे पदयात्रा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*