तो क्या अनंत सिंह के साम्राज्य का अंत करीब है?

तो क्या अनंत सिंह के साम्राज्य का अंत करीब है?

मोकामा के विधायक अनंत सिंह के ऊपर सरकारी शिकंजा कसता जा रहा है. एक तरफ सुपारी दे कर हत्या के मामले में उनकी आवाज की तकनीकी जांच चल रही है तो दूसरी तरफ अब उनके घर से AK-47 बरामद हुआ है.

नौकरशाही मीडिया डेस्क

शुक्रवार को उनके नदावां स्थित घर पर पुलिस छापेमारी में AK-47 बरामद की गई है. गामीण पुलिस अधीक्षक कांतेश कुमार मिश्र  ने इस बात की पुष्टि की है. छापेमारी के दौरान AK-47 रायफल के साथ मैगजीन और गोलियां बरामद की है.
उनके घर के आसपास भारी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है.
 
इस बीच पुलिस ने विधायक का घर तोड़े जाने से स्पष्ट इनकार किया है. विधायक का घर पूरी तरह सही सलामत स्थिति में है. ग्रामीण एसपी कांतेश मिश्रा ने बताया कि संदिग्ध वस्तुओं के जमावड़े की सूचना मिलने के बाद छापामारी की गई है. विधायक के घर के केयरटेकर द्वारा ही घर का ताला खोला गया था.
 
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस को सूचना मिली थी कि विधायक के घर से और दूसरे ठिकानों से हथियारों का मूवमेंट किया जाना है. कुछ दिनों पहले भी हथियारों का मूवमेंट किया गया था. प्रतिबंधित हथियारों के मूवमेंट की जानकारी मिलने के बाद पुलिस द्वारा की कार्रवाई के दौरान एके 47 और मैगजीन बरामद किया गया.
 
अंत सिंह पर जांच की दबिश तबसे और मजबूत कसती जा रही है जब से कथित तौर पर उनके फोन कॉल का ऑडियो वायरल होने के बाद उन पर दो लोगों की हत्या की साजिश रचने का आरोप लगा है. इसी सिलसिले में वह FSL के समक्ष उपस्थित भी हो चुके हैं.

दर्जनों संगीन मामले हैं अनंत सिंह पर

अनंत सिंह के ऊपर पिछले एक दशक में हत्या, हिंसा फैलाने, हत्या की साजिश रचने के अलावा रंगदारी व फिरौती के अनेक मामले दर्ज हैं. हालांकि कुछ मामलों में वह बरी भी हो चुके हैं. लेकिन उनके आवास से एके47 की बरामदगी के बाद अब उनके खिलाफ दबिश बढ़ती जा रही है.
यह याद रखने की बात है कि अनंत सिंह पहले जदयू में थे. उन्होंने जदयू को छोड़ कर जेल के अंदर से 2015 में निर्दलीय चुनाव लड़ा और जीत हासिल कि.

अनंत सिंह पर कितने मामले, कितने में बरी

2019 के लोकसभा चुनाव में अनंत सिंह कांग्रेस के करीब हुए. लेकिन उनके खिलाफ अनेक संगीन मामले होने के कारण उन्हें लोकसभा का टिकट नहीं मिला. हालांकि कांग्रेस ने उनकी पत्नी को टिकट दिया और उन्होंने चुनाव लड़ा पर वह हार गयीं.
ताजा घटनाक्रम पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए अनंत सिंह ने आरोप लगाया है कि जदयू के दो नेता नीरज कुमार और ललन सिंह ने साजिश के तहत उन्हें फंसाया है.

जब एसपी से हुई थी अनंत की हाथपाई.. पूरी कहानी

उधर अनंत सिंह ने यह भी आरोप लगाया है कि पुलिस ने उनके घर को तोड़ा है. हालांकि पुलिस का कहना है कि पुलिस ने उनके केयरटेकर से उनके घर का दरवाजा खुलवाया.

अनंत सिंह का बेबाक इंटर्व्यू- बाबू जी संत थे, कुतियो नहीं मारे कभी

फिलहाल पुलिस ने घर घेर कर रखा है. पुलिस को शक है कि अभी और भी घर के अंदर कुछ संदिग्ध वस्तु मौजूद है. बम निरोधक दस्ता को बुलाया गया है. बाढ़ पुलिस को सूचना मिलने के बाद वरीय पुलिस पदाधिकारियों को सूचना से अवगत कराया गया. जिला पुलिस मुख्यालय की सूचना के बाद राज्य पुलिस मुख्यालय भी हरकत में आया.
एके 47 बरादमदगी मामल में अनंत सिंह के ऊपर गंभीर धाराओं पर केस हो सकता है. हालांकि माना जा रहा है कि अनंत सिंह हर बार सधी हुई राणनीति चलते हैं और इस बार भी वह इस मामले से बच सकते हैं.
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*