सरकार के गले की फांस बन गया है NPR, अखिलेश ने सैकड़ों समर्थकों के साथ फार्म न भरने की ली प्रतिज्ञा

सरकार के गले की फांस बन गया है NPR, अखिलेश ने सैकड़ों समर्थकों के साथ फार्म न भरने की ली प्रतिज्ञा

File Photo ( Twitter yadavakhilesh)

NRC और CAA के बाद अब NPR मोदी सरकार के गले की फांस बनता जा रहा है. अब तक सैकड़ों सामाजिक कार्यकर्ताओं राजनेताओं के बाद अब अखिलेश यादव ने ऐलान कर दिया है कि वह भी NPR का फार्म नहीं भरेंगे.

अखिलेश यादव ने कहा है कि हम एनपीआर का फॉर्म नहीं भरेंगे. ये बीजेपी वाले तय नहीं कर सकते हैं कि हम भारतीय हैं या नहीं. अखिलेश यादव ने कहा है कि एनपीआर नहीं रोजगार चाहिए. विशेषज्ञों का कहना है कि अर्थव्यवस्था आईसीयू में पहुंच गई है.

आरजेडी पहले ही ले चुका है शपथ

इसके पहले राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने अपने सैकड़ों पार्टी समर्थकों के साथ शपथ ले चुके हैं कि वे अपनी नागरिकता साबित करने के लिए किसी भी तरह के कागजात जमा नहीं करायेंगे.

इसके पहले आईएएस के ओहदे से त्यागपत्र दे चुके कन्न गोपीनाथन, सामाजिक कार्यकर्ता अरुणधती राय समेत सैकड़ों लोगों ने कहा है कि नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर या नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजेन का बॉयकाट किया जायेगा.

देशव्यापी आंदोलन

आप को बता दें कि पिछले 11 दिसम्बर से नागरिकता संशोधन विधेयक को रद्द किये जाने के लिए देश भर में आंदोलन व विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. इन प्रदर्शनों में लाखों की संख्या में लोग जुट रहे हैं. ये आंदोलन बड़े शहरों के बाद अब छोटे कसबों तक पहुंच चुके हैं. इन आंदोलनों में हुई हिंसा में अब तक 30 लोगों की जान जा चुकी है जबकि सैकड़ों लोगों समेत पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं.

Alsor Read

मुसलमानों के बहाने मूलनिवासी बहुजनों को गुलाम बनाने का षड्यंत्र है NRC

ऐसे में अखिलेश यादव द्वारा भी एनपीआर में ना दर्ज न कराने की घोषणा मोदी सरकार के लिए बड़ा सरदर्द बनता जा रहा है.

गौरतलब है कि हाल ही में केंद्र सरकार ने नेशनल पापुलेशन रजिस्ट्रेशन बनाने के लिए अधिसूचना जारी की है. हालांकि गृहमंत्री अमित शाह ने कई बार सफाई देते हुए कहा है कि एनपीआर का एनआरसी से कोेई संबंध नहीं है. लेकिन गृह मंत्रालय की अधिसूचना में साफ कहा गया है कि एनपीआर, एनआरसी का प्रथम पड़ाव है. ऐसे में विपक्षी दल आम लोगों को यह समझाने में सफल रहे है ंकि केंद्र सरकार लोगों को धोखा दे रही है.

 

अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी सरकार जनता से घबरा रही है. ये लोग सच्चाई जनता तक नही पहुंचने देना चाहते. हमें एनपीआर नहीं रोजगार चाहिए. अन्याय इतना बढ़ गया है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट तक नहीं दे रहे हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि अर्थव्यवस्था आईसीयू में पहुंच गई है.

प्रदर्शनकारियों को लेकर सपा प्रमुख ने कहा कि निर्दोष लोगों की जान गई है समाजवादी पार्टी उनकी मदद करेगी. अखिलेश यादव ने पार्टी के यूथ कार्यकर्ताओं की मीटिंग में कहा कि हम NRC का फॉर्म ही नहीं भरेंगे. हम NPR का फॉर्म नहीं भरेंगे. महात्मा गांधी ने अपने पहले आंदोलन में कागजात जला दिया था. हम भी ऐसा ही करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*