‘नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ कांग्रेस भड़का रही है हिंसा’

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ कांग्रेस भड़का रही है हिंसा अमित शाह का आरोप

अमित शाह का आरोप

झारखंड में एक चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए गृह मंत्री अमित साह ने नागरिकता संशोधन कानून से कांग्रेस को खुब खरी खोटी सुनाई है।

शिवानंद गिरि की रिपोर्ट

गृह मंत्री ने कांग्रेस पर नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हिंसा भड़काने का आरोप लगाया है. वे गिरिडीह में आयोजित एक चुनावी सभा को सम्बोधित कर रहें थे।

उन्होंने कहा कि इस कानून से विपक्षी दल को पेट दर्द होने लगा है. उन्होने आगे कहा कि ‘मैं असम और (अन्य) पूर्वोत्तर राज्यों (के लोगों) को आश्वस्त करना चाहता हूं कि उनकी संस्कृति, सामाजिक पहचान, भाषा, राजनीतिक अधिकारों को नहीं छुआ जाएगा तथा नरेंद्र मोदी सरकार उनकी रक्षा करेगी.’

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर समूचे पूर्वोत्तर में उबाल है. असम से लेकर नगालैंड तक इसका बड़े पैमाने पर विरोध हो रहा है. अमित शाह ने कहा कि मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने इस मुद्दे को लेकर उनसे मुलाकात की है. गृह मंत्री का कहना था, ‘मैंने उन्हें समाधान ढूंढ़ने के लिए सकारात्मक रूप से मुद्दों पर चर्चा करने का आश्वासन भी दिया है।

गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून में अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान में धार्मिक प्रताड़ना के कारण 31 दिसंबर 2014 तक भारत आए हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के शरणार्थियों को नागरिकता देने का प्रावधान है. इन छह समुदायों के शरणार्थियों को पांच साल भारत में निवास करने के बाद भारतीय नागरिकता दी जाएगी. पहले इसके लिए 11 साल देश में बिताने की जरूरत थी. संसद से पारित होने के बाद इस कानून पर इसी हफ्ते राष्ट्रपति की मुहर लगी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*