Amit Shah ने बेगूसराय समेत बिहार में की तीन रैलियां, कहीं नहीं दिया कन्हैया के सवालों के जवाब

Amit Shah ने बेगूसराय समेत बिहार में की तीन रैलियां,कहीं नहीं दिया कन्हैया के सवालों के जवाब

Amit Shah ने मंगलवार को बेगूसराय, समस्तीपुर व मुंगेर में चुनावी रैलिया कीं लेकिन कहीं भी उन्होंने कन्हैया के 5 सवालों का जवाब नहीं दिया.

Amit Shah ने भाजपा के बेगूसराय के प्रत्याशी गिरिराज सिंह, उजियारपुर के प्रत्याशी नित्यानंद राय और मुंगेर के प्रत्याशी ललन सिंह के लिए चुनाव प्रचार किया. इन तमाम रैलियों में उन्होंने भारत माता की जय के साथ अपने भाषण की शुरुआत की और लोगों से भी ये नारे लगवाये. शाह ने कहा कि पूरे देश में मोदी-मोदी की गूंज है. और फिर भाजपा सत्ता में आ रही है. उन्होंने दावा किया कि 2014 से भी ज्यादा सीट इस बार एनडीए को मिलेगी.

Amit Shah ने बिहार में की तीन रैलियां

भारतीय जनता पार्टी ने देश को सुरक्षित करने का काम किया है। एक वह समय था जब पाकिस्तान के आतंकवादी हमारे देश के सैनिकों के सिर काटकर ले जाते थे और आपके मौनी बाबा मनमोहन सिंह कुछ नहीं करते थे। पुलवामा हमला हुआ तो हमने दिखा दिया कि अभी कांग्रेस की सरकार नहीं, भाजपा की सरकार है जो दुश्मनों को जवाब देना जानती है।

यह भी पढ़ें- लफ्फाजी नहीं, आंकड़ों में समझे बिहार में अमित शाह की पार्टी का हाल

Amit Shah  ने कहा कि महागठबंधन वाले चुनाव लड़ने चले हैं। उनका कोई नेता है क्या? एक कार्यकर्ता के मैसेज की चर्चा करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि इस महागठबंधन में सोमवार को मायावती प्रधानमंत्री, मंगलवार को अखिलेश यादव, बुधवार को लालू यादव, गुरुवार को देवगौड़ा जी, शुक्रवार को चंद्रबाबू नायडू और शनिवार को छुट्टी? क्या ऐसी सरकार देश का भला कर सकती है कभी? भीड़ से जवाब आया-नहीं।

 

Amit Shah ने नहीं दिया जवाब

इससे पहले कन्हैया ने अमित शाह के बिहार दौरे के पहले उनसे पांच सवाल किये थे. कन्हैा के पांच सवाल ये थे.

1. जब देश में बेरोज़गारी ने पिछले 45 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है और उद्योग-धंधों में भारी मंदी दिख रही है, तब आपके बेटे की कंपनी का राजस्व मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने के एक साल के भीतर 50 हज़ार रुपये से बढ़कर 80 करोड़ रुपये कैसे हो गया? जय शाह ने कौन-सी तरकीब अपनाकर अपनी आय में 16,000 गुना बढ़ोतरी कर ली?

2. अहमदाबाद ज़िला सहकारी बैंक, जिसके आप डायरेक्टर थे, उसमें नोटबंदी के बाद केवल पांच दिन में 745 करोड़ रुपये कैसे जमा हो गए?

3. नोटबंदी के बाद देश के कई हिस्सों में भाजपा के 600 से ज़्यादा आलीशान ऑफ़िस कैसे बने?

4. क्या आपकी पार्टी मुंबई आतंकवादी हमले में शहीद हेमंत करकरे का अपमान करने वाली प्रज्ञा ठाकुर का बचाव करने के लिए भारत की जनता से माफ़ी मांगेगी?

5. क्या आपकी पार्टी जज लोया की संदेहास्पद मृत्यु की निष्पक्ष जांच कराने के पक्ष में है? उम्मीद है भाजपा अध्यक्ष बेगूसराय की जनता को सिर्फ़ जुमले गिराकर निराश नहीं करेंगे और ऊपर लिखे सवालों का जवाब ज़रूर देंगे.

 

अमित शाह ने कन्हैया के किसी भी सवाल का जवाब नहीं  दिया.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*