Anaj Mandi Fire: फजिर की नमाज ने बचा ली युवक की, 45 जल मरे थे

Anaj Mandi Fire: फजिर की नमाज ने बचा ली युवक की, 45 जल मरे थे

Delhi Anaj Mandi Fire: बिहार के इस गांव के छह परिवारों के सदस्यों की मौत, कुल 30 बिहारियों की गयी जान

दरभंगा से दीपक कुमार ठाकुर,ब्यूरो प्रमुख,मिथिलांचल

परिवार का दावा है कि अग्निकांड में अखलाक और आदिल की मौत हो गई है, वहीं मोहम्मद परवेज़ और मोहम्मद गुलेज़ की हालत गंभीर है जिसका इलाज़ अस्पताल में चल रहा है.

काबिले जिक्र है कि दिल्ली की अनाज मंडी में भीषण आग सुबह-सुबह लग गयी थी. इस घटना में 45 लोगों के जल के मरने की खबर है. लेकिन वे लोग बच गये जो फजिर की नामज पढ़ने मस्जिद के लिए जा चुके थे.

दिल्ली में हुए भीषण अग्निकांड की लौ ने दरभंगा के भी दो मजदूरों की जिंदगी छीन ली है,जबकि दो और लोगों की हालत चिंताजनक है. फिलहाल उनका इलाज़ दिल्ली के अस्पताल में चल रहा है लेकिन इस घटना में मजदूरों के मौत की पुष्टि न तो दरभंगा प्रशासन ने अब तक की है और न ही दिल्ली सरकार की तरफ से जारी मृतकों की सूचि में भी इन लोगों का नाम दर्ज है.

Delhi Anaj Mandi Fire: बिहार के इस गांव के छह परिवारों के सदस्यों की मौत,30 बिहारियों की गयी जान

परिवार के लोगों ने यह दावा किया है की उनके परिवार के दो लोगों की मौत हो गयी है,जबकि दो की हालत बेहद गंभीर है और इसकी सूचना उन्हें फोन पर मोहल्ले के ही घटना में बचे पांचवे व्यक्तियों ने दी है.

इस हादसे में बिहार के 30 लोगों की मौत होने की बात कही जा रही है.

दरअसल परिवार की बात मानें तो दरभंगा के अलफगंज विशनपुर के पांच लोग घटना के समय वहां मौजूद थे जिसमें एक ही परिवार के चार सदस्य हैं. चार सदस्यों में तीन भाई और उसका एक बहनोई शामिल है. परिवार का का कहना है कि अग्निकांड में अखलाक और आदिल की मौत हो गई है वहीं मोहम्मद परवेज़ और मोहम्मद गुलेज़ की हालत गंभीर है जिसका इलाज़ अस्पताल में चल रहा है.

मृतक अखलाक की उम्र लगभग 32 वर्ष है और वह फैक्ट्री में मजदूरी करता था जबकि मृतक आदिल की उम्र महज 13 साल है और आदिल वहीं अपने भाई के साथ रहकर पढ़ाई करता था. घटना से ठीक पहले वहां रह रहा पांचवा व्यक्ति  फज्न ( सुबह) की  माज़ पढ़ने चला गया था जिससे उसकी जान बच गयी और वहीं पांचवे सदस्य ने दरभंगा के इस परिवार को घटना की पूरी जानकारी दी.

घटना की खबर सुनते ही घरों में मातम छा गया. घर की महिलाएं रो-रो कर विलाप करने लगी. लोगों की भीड़ भी पीड़ित परिवार के यहां जुटने लगी,लेकिन सरकार के किसी भी अधिकारी ने न तो परिजनों से कोई संपर्क किया है और न ही अब तक घटना की पुष्टि की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*