मोदी का आयुष्मान भारत स्वास्थ्य बीमा भी निकला दस करोड़ परिवारों के साथ फ्रॉड

मोदी का आयुष्मान भारत स्वास्थ्य बीमा भी निकला दस करोड़ परिवारों के साथ फ्रॉड

आयुष्मान भारत नामक दस करोड़ परिवारों के लिए मुफ्त इलाज की योजना भयंकर धोखाधड़ी है.

हाल ही में मोदी सरकार ने आयुष्मान भारत योजना की घोषणा की थी.

दावा किया गया था कि इस योजना में शामिल दस करोड़ लोगों को मुफ्त इलाज की सुविधा मिलेगी.

लेकिन  इस योजना की धोखाधड़ी को कांग्रेस के नेता जय राम रमेश ने बेनकाब कर दिया है. जय राम रमेश ने दिल्ली में एक पत्रकार सम्मेलन किया. इस सम्मेलन में रमेश ने इस योजना की महाधोखधड़ी को बपर्दा करते हुए कई महत्वपूर्ण तथ्यों से पर्दा उठा दिया है.

जय राम रमेश के अनुसार;-

  •  इस योजना का लाभ आउट डोर पेसेंट को देने का कोई जिक्र नहीं है. यानी अगर कोई पेशेंट अस्पताल जाता है और डाक्टर से सलाह लेता है तो उसे फीस अदा करनी पड़ेगी. दवा भी खरीदनी पड़ेगी.
  • पांच लाख रुपये की बीमा के नाम पर सरकार ने सालाना  प्रिमियम 1100 रुपये रखा है. इतना प्रिमियम से मात्र 50 हजार रुपये तक का इलाज संभव है. कोई भी बीमा कम्पनी इससे ज्यादा रुपये का इलाज वहन नहीं करेगी.
  • चूंकि आयुष्मान भारत योजना में आउट डोर पेशेंट का इलाज नहीं होगा, बल्कि उन मरीजों को ही इसका लाभ मिलेगा जो अस्पताल में भर्ती हों. लिहाजा 85 प्रतीशत मरीजों को इस योजना से वंचित होना पड़ेगा. क्योंकि अस्पताल में भर्ती हो कर इलाज कराने वाले मरीजों की संख्या मात्र 15 प्रतिशत ही है.
  • इस योजना की एक और सबसे बड़ी धोखा धड़ी यह है कि इस बीमा योजना में उन बीमारियों के मरीजों का इलाज शामिल नहीं है जिसके मरीज दुनिया भर में सबसे ज्यादा भारत में हैं. ये बीमारियां हैं डायब्टिड या सुगर से जुड़ी बीमारी  और ब्लडप्रेशर.
  • सरकार की तरफ से कहा गया है कि आयुष्मान भारत में 5 तरह के घोटाले हैं और हर घोटाले में कंपनियों को 2 बार मौका मिलेगा। 2 बार कोई सजा नहीं होगी तीसरी बार घोटाला होने पर कंपनियों को हटाया जायेगा; यानी ये सीधा-सीधा धोखाड़ी करने का निमंत्रण है

जय राम रमेश ने ये तमाम दावे उन आंकड़ों के आधार पर किये हैं जो उन्हें छत्तीसगढ़ की सरकार ने मुहैया कराये हैं. याद रहे कि छत्तीसगढ़ में हाल ही में भाजपा को हरा कर कांग्रेस ने सत्ता संभाली है.

 

  • महाधोखा

जय राम रमेश के दावे से यह साफ जाहिर होता है कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जिस आयुष्मान भारत योजना के स्वास्थ्य बीमा को गरीबोंं के लिए दुनिया की सबसे बड़ी योजना करार दे रहे हैं वह सरासर छलावा है-

 पढ़ें-  मोदी ने जन आरोग्य योजना को किया लॉंच

भाजपा के नेता इस योजना को चुनाव अभियान में अपनी बड़ी उपलब्धि के तौर पर पेश करके वोट लेना चाहते हैं. लेकिन अगर जय राम रमेश के तर्कों की कसौटी पर इस योजना को परखें तो देश की दस करोड़ जनता के साथ यह बड़ा छलावा है.

रमेश ने यहां तक दावा किया है कि यह योजना निजी बीमा कम्पनियों को माल कमाने का बड़ा हथियार है. और कोई भी बीमा कम्पनी किसी मरीज को पांच लाख का इलाज का खर्च भी वहन नहीं करने वाली है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*