बिहार चुनाव: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने फिर से बोला झूठ

बिहार चुनाव : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने फिर से बोला झूठ

जब नौकरशाही.कॉम ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दावे का फैक्ट चेक किया तब पता चला कि बिहार ने सबसे ज्यादा विकास दर केंद्र में UPA गठबंधन की सरकार रहते हुए हासिल किया था. विपक्ष यह भी पूछ रहा कि PM Modi ने बिहार चुनाव 2015 के समय राज्य के लिए 1.25 लाख करोड़ के पैकेज का ऐलान किया था वह बिहार को क्यों नहीं मिला.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बिहार में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए.

नौकरशाही डॉट कॉम – Fact Check

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने फिर से बिहार चुनाव के समय झूठ बोला है. उन्होंने कहा कि 2014 में केंद्र में भाजपा सरकार बनने के बाद बिहार का विकास हुआ जबकि सच्चाई यह है कि बिहार की अर्थवय्वस्था ने UPA शासनकाल के दौरान सबसे ज्यादा विकास दर (12 %) हासिल किया था.

बिहार चुनाव से ठीक पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने आज बिहार के रोहतास जिले से चुनाव प्रचार शुरू किया. इसके आलावा उन्होंने सासाराम, गया और भागलपुर में भी चुनावी सभा की. प्रधानमंत्री ने सासाराम की सभा में बिहार के विकास का श्रेय लेते हुए दावा किया कि केंद्र में उनकी सरकार बनने के बाद ही बिहार का विकास संभव हो पाया.

” सासाराम में मोदी ने कहा नीतीश सरकार के पहले कार्यकाल में इस परिवार (लालू परिवार) ने केंद्र सरकार में रहते हुए विकास नहीं होने दिया. जब 2014 में मेरी सरकार बनी तब (बिहार का) विकास हुआ “.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की खबर के मुताबिक प्रधानमंत्री का यह दावा सच नहीं है. जिस समय बिहार कि ग्रोथ रेट देश में सर्वाधिक हुआ करती थी उस समय केंद्र में UPA की सरकार थी न कि भाजपा की. बिहार सरकार द्वारा जारी वर्ष 2013-14 के मुताबिक बिहार ने वर्ष 2006-13 के बीच राज्य ने 12 % विकास दर (Bihar’s Average Annual Growth Rate) हासिल किया था. जो देश के सभी राज्यों में सबसे ज्यादा था.

क्या भाजपा के 19 लाख रोज़गार के वादे पर भरोसा करेंगे बिहार के वोटर ?

देश में कांग्रेस के नेतृत्व वाली UPA गठबंधन कि सरकार कुल दस वर्षों तक (2004-09 और 2009-14) तक रही. इसी समय के दौरान बिहार ने सबसे ज्यादा विकास दर हासिल कर पुरे देश को चौंकाया था. इससे पहले बिहार को बीमारू राज्य कहा जाता था.

बिहार सरकार का आर्थिक सर्वे 2013-14 आगे यह भी बताता है कि वित्तीय वर्ष 1990-91 से 2005-06 के दरम्यान बिहार कि वार्षिक विकास दर 5.7 % रही थी. राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव वर्ष 2004 से 2009 तक केंद्र में रेल मंत्री रहे थे. उन्होंने बिहार को केंद्र सरकार से फण्ड दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

बिहार विधान सभा चुनाव 2015 में भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बिहार को 1 लाख 25 हज़ार करोड़ का पैकेज देने का ऐलान किया था. कांग्रेस के महासचिव एवं मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा “प्रधामंत्री के द्वारा वर्ष 2015 में ऐलान किया गया 1. 25 लाख करोड़ का पैकेज सिर्फ झूठ का पुलिंदा था”.

सुरजेवाला ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के उस दावे पर भी कटाक्ष किया जिसमे कहा गया था कि केंद्रीय पैकेज के कारण बिहार काफी प्रगति कर रहा है. सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा के नेतृत्व से लोग क्या उम्मीद करेंगे. भाजपा ने रामायण सर्किट के तहत 100 करोड़ रूपये के पैकेज में एक रुपया भी नहीं दिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*