बिहार में बन रही तेजस्वी सरकार: सर्वे पर नहीं जनता की बोली पर करेंगे भरोसा ?

बिहार में बन रही तेजस्वी सरकार: सर्वे पर नहीं जनता की बोली पर करेंगे भरोसा ?

इमेज क्रेडिट – Quora

शाहबाज़ की विशेष रिपोर्ट

बिहार में अंतिम चरण का मतदान ख़त्म होते ही एग्जिट पोल के शुरूआती नतीजे आने लगे हैं. Todays’s Chanakya के एग्जिट पोल में महागठबंधन को स्पष्ट जनादेश मिलने का अनुमान है. इसलिए जनता की बोली पर भरोसा करते हुए माना जा रहा है कि राज्य में तेजस्वी सरकार बनना तय है.

Todays’s Chanakya के एग्जिट पोल में राष्ट्रीय जनता दल को 180 सीटें और कांग्रेस को 11 सीटें मिलने का अनुमान है. जबकि अन्य के खाते में 4-8 सीटें मिलने की सम्भावना है.

लेकिन सभी न्यूज़ चैनलों के एग्जिट पोल में अलग तस्वीर पेश की जा रही है. पहले टाइम्स नाउ (Times Now) न्यूज़ चैनल के एग्जिट पोल में एनडीए गठबंधन को 116 सीटें, महागठबंधन को 120 और लोजपा को 1 सीट मिलने की सम्भावना जताई जा रही है. बता दें की बहुमत के लिए 122 सीटों पर कब्ज़ा होना ज़रूरी है.

एबीपी न्यूज़ के C Voter एग्जिट पोल की बात करें तो इसमें एनडीए को 104-128 और महागठबंधन को 108-131 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है. वही अन्य के खाते में 4-8 सीटें मिलने की सम्भावना बताई गयी है.

इसके आलावा NDTV के एग्जिट पोल (pollofpolls) के अनुसार महागठबंधन को 124 सीटें और एनडीए को 110 सीटें मिलने का अनुमान है.

जबकि आज तक न्यूज़ चैनल द्वारा मुख्यमंत्री पद के लिए लोकप्रिय चेहरे पर ताज़ा सर्वे में बताया गया है कि 44 % लोग तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री बनाना चाहते हैं. जबकि नीतीश कुमार को 35 % लोग मुख्यमंत्री बनाने की इच्छा जाता रहे हैं. वही चिराग पासवान और उपेन्द्र कुशवाहा को क्रमशः 7 % और 4 % लोग मुख्यमंत्री बनाना चाहते हैं.

अगर चुनाव से पहले आये ओपिनियन पोल सर्वे के नतीजो की बात करें तो इससे पहले C Voter सर्वे और CSDS के लोकनीति सर्वे में भी एनडीए को बढ़त मिलने और जनता द्वारा नीतीश कुमार को दुबारा मुख्यमंत्री बनाने की सम्भावना जताई जा रही थी.

दरअसल अगर ज़मीनी हकीकत की बात करें तो समस्त बिहार में बदलाव की लहर देखी गई. बिहार के वर्तमान मुख्यमंत्री के खिलाफ स्पष्ट नाराज़गी दिखाई. इस बार सभी चरणों युवाओं एवं महिलाओं ने आक्रामक वोटिंग की है और बेरोज़गारी, पलायन, शिक्षा और स्वस्थ्य जैसे मुद्दों घर-घर की चर्चा का हिस्सा दिखे.

अगर मीडिया के सामने जितने लोगों ने अपनी बात रखी उसकी बात करें तो बिहार में इस तेजस्वी सरकार बनना तय माना जा रहा है. तेजस्वी ने समस्त बिहार में 250 जनसभाएं की जिसमें जनता का अपार जनसैलाब उमड़ा था. ऐसे में जनता के संकेतों के देखते हुए तेजस्वी सरकार बनने की प्रबल सम्भावना बताई जा रही है.

अगर बिहार में 2015 विधानसभा चुनावों के परिणामों की बात करें तो राष्ट्रीय जनता दल (RJD) 82 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी थी जबकि जदयू – 71, भाजपा – 53, कांग्रेस 27, रालोस्पा – 2, सीपीआई माले – 3 और हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा ने 1 सीट पर विजय हासिल किया था.

बिहार चुनाव 2020 में कुल 243 विधानसभा सीटों पर चुनाव हुए. पहले चरण में 55.69 % (71 सीट), दुसरे चरण में 54.05 % (94 सीट) और आखिरी चरण में सबसे ज्यादा 57.91 % (78 सीट) वोटिंग हुई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*