बिहार चुनाव का अंतिम चरण: किसके साथ हैं महिला वोटर ?

बिहार चुनाव का अंतिम चरण: किसके साथ हैं महिला वोटर ?

इमेज क्रेडिट – BBC.com

शाहबाज़ की विशेष रिपोर्ट

बिहार चुनाव के अंतिम चरण के लिए मतदान जारी है. महिला वोटरों में ज़बरदस्त उत्साह है एवं वह वोट देने में अव्वल रहती हैं. राज्य में महिला एवं युवा मतदाताओं द्वारा आक्रामक वोटिंग से ही किसी दल या गठबंधन को निर्णायक जनादेश मिलने का रास्ता साफ़ हो सकता है.

अंतिम चरण में राज्य के कुल 15 जिलों के 78 विधानसभा सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं. इस चरण में कुल 2 करोड़ 35 लाख से अधिक मतदाता 1204 प्रत्‍याशियों की किस्‍मत तय करेंगे। 

राज्य विधानसभा चुनाव के तीसरे और अंतिम चरण में महिलाएं बड़ी संख्या में बूथों पर जाकर वोट दे रही हैं. बिहार चुनाव में महिला वोटरों की बहुत अहमियत है कई जगहों पर महिला मतदाता किसी दल या गठबंधन को को जिताने में निर्णायक भूमिका निभाती हैं. क्यूंकि ऐसा माना जाता है की महिलाएं समूह में किसी एक पार्टी या उम्मीदवार के पक्ष में ही वोट देती हैं. युवा वर्ग के बीच भी ऐसा ही पैटर्न दिखने की सम्भावना है.

अंतिम चरण में एनडीए गठबंधन की बात करें तो बीजेपी ने 35 उम्मीदवार और जेडीयू ने 37 उम्मीदवार खड़े किए हैं. साथ ही मुकेश सहनी की विकासशील इंसान पार्टी के पाँच उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं. वहीं महागठबंधन की बात करें तो राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने 46 और कांग्रेस ने 25 सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं.

2015 के बिहार चुनाव में भी तीसरे चरण में 78 सीटों पर चुनाव हुआ था. जिसमे से 54 सीटें महागठबंधन (जनता दल यूनाइटेड, राष्ट्रीय जनता दल और कांग्रेस गठबंधन) को मिली थी. वहीं एनडीए गठबंधन (बीजेपी, एलजेपी, आरएलएसपी और जीतन राम मांझी की हिंदुस्तान आवाम पार्टी) को कुल 24 सीटें जीत पाए थे. लेकिन इसमें सबसे ज़्यादा 19 सीटें बीजेपी को मिली थी.

तेजस्वी का वार: नीतीश आप थक चुके हैं, नहीं संभल पायेगा बिहार

बिहार विधानसभा चुनाव 2015 में कुल 60 % महिला वोटरों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था. इस बार उनके उत्साह को देखते हुए मत प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद है हलाकि कोरोना काल में हुए चुनाव होते हुए भी महिलाएं बूथों पर समूह बनाकर वोट देने जा रही हैं. हालाँकि अंतिम चरण में महिला उम्मीदवारों की संख्या महज़ 110 है जबकि कुल उम्मीदवारों की संख्या 1204 है.

बिहार चुनाव में महिलाओं आक्रामक वोटिंग को देखकर विभिन्न नेता एवं पार्टियाँ भी महिला वोटरों को लुभाने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे. राष्ट्रीय जनता दल द्वारा मंहगाई जैसे मुद्दों को आक्रामकता के साथ उठाना और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा महिलाओं से बार बार वोट देने की अपील करना महिला वोटरों को आकर्षित करने पर केन्द्रित माना जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी एक जनसभा में महिला वोटरों को लुभाने के लिए कहा था मां तुम छठ की तैयारी करो, दिल्ली में तुम्हारा बेटा बैठा है”.

बिहार चुनाव के सभी चरणों में युवाओं एवं महिलाओं में सरकार चुनने को लेकर ज़बरदस्त उत्साह देखने को मिला है. ऐसा भी कहा जा रहा है कि इस बार महिला एवं युवा वोटर अपने मुद्दों के प्रति अधिक सजग दिखे हैं और आक्रामक वोटिंग कर रहे हैं.

तीसरे चरण के मतदान से पहले नीतीश ने चले कौन से तीन दांव ?

इस बार बिहार में मुद्दों पर आधारित चुनाव लड़ा जा रहा है ऐसे में महिलाओं ने अपने मुद्दे भी साफ़ कर दिए हैं. महिला वोटर बताती हैं कि मंहगाई, परिवारों में बेरोज़गारी के कारण तंगहाल स्थिति, महिला सुरक्षा, शिक्षा, स्वस्थ्य और पलायन जैसे मुद्दों पर वोट डाले जा रहे हैं.

महिला वोटर्स ख़ास तौर से मंहगाई और पलायन का ज़िक्र कर रही हैं. जिसके कारण वह बताती हैं कि एक तो घर चलाना मुश्किल हो गया वहीँ पति एवं भाईओं के दुसरे राज्यों में पलायन से समाज में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता हैं. बातचीत में महिलाएं प्रमुखता से आलू और प्याज के आसमान छूते दामों का ज़िक्र कर रही हैं.

ताज़ा जानकारी के मुताबिक बिहार चुनाव के अंतिम दिन दोपहर 3 बजे तक 45.85 % वोटिंग हो चुकी है. महिला एवं युवा वर्ग में सभी चरणों की तरह आज अंतिम चरण के दिन भी ज़बरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है.

वहीँ कुछ जगहों पर मतदान का बहिष्कार भी किया गया है. हिंदुस्तान की खबर के मुताबिक सुपौल, मोतिहारी, दरभंगा और कटिहार में विभिन्न मांगों को लेकर ग्रामीणों ने वोट का बहिष्कार भी किया है।

बिहार चुनाव का अंतिम चरण अन्य चरणों से अलग होता है इसके दो कारण है. पहला यह कि बिहार के लगभग आधे मुसलमान जिन क्षेत्रों में रहते हैं वहां तीसरे चरण के अंतर्गत मतदान हो रहा है.

दूसरी वजह यह है कि अंतिम चरण में जहाँ मतदान हो रहे हैं वहां त्रिकोणीय मुकाबला हो जाता है. जहाँ अन्य चरणों में मुकाबला महागठबंधन एवं एनडीए के बीच रहता है वहीँ अंतिम चरण में मुकाबला त्रिकोणीय हो जाता है इसमें असदुद्दीन ओवैसी-उपेन्द्र कुशवाहा- मायावती का गठबंधन भी मुकाबले में शामिल हो जाते हैं. इसलिए यह चरण महत्वपूर्ण है.

बिहार के नेता प्रतिपक्ष एवं महागठबंधन के मुख्यमंत्री उम्मीदवार तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर मतदाताओं से मताधिकार का प्रयोग करने अवश्य करने के लिए कहा है. “बिहार में तब्दीली की गंगा, गंडक और कोसी बह रही है। बदलाव उफान पर है। सुनहरे भविष्य, चहुंमुखी विकास, विकसित बिहार, अमन, चैन, क़ायम करने एवं व्यवस्था परिर्वतन और नए दौर में नए बिहार के निर्माण के लिए आज अपने मतदान का प्रयोग अवश्य करे। Cast your vote & Be a companion of change”.

वहीँ वर्तमान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी मतदाताओं से वोट अपने मताधिकार का प्रयोग करने का आग्रह किया है. उन्होंने ट्वीट में कहा “बिहार विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण में आज 78 सीटों पर मतदान है। इन क्षेत्रों के मतदाताओं से मेरी अपील है कि अपनी ज़िम्मेदारी का निर्वहन करते हुए मताधिकार का अवश्य प्रयोग करें। वोट करें। आपका एक वोट बिहार में विकास की गति को जारी रखते हुए इसे एक विकसित प्रदेश बनाएगा”।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*