BJP का झूठ 2024 तक करेगा परेशान, नहीं छोड़ेंगे नीतीश-तेजस्वी

BJP का झूठ 2024 तक करेगा परेशान, नहीं छोड़ेंगे नीतीश-तेजस्वी

भाजपा ने तमिलनाडु में ‘बिहारियों पर हमले’ का खूब प्रचार किया। उसे लगा बैठे-बैठे बड़ा भावनात्मक मुद्दा मिल गया, जो 2024 में हथियार बनेगा, लेकिन अब…

कुमार अनिल

बिहार में भाजपा में बड़े-बड़े नेता हैं। राजनीति के बड़े खिलाड़ी हैं, लेकिन बिहार के राजनीतिक अखाड़े में इतनी बुरी तरह पिटाई शायद ही कभी हुई थी। तमिलनाडु में बिहारी मजदूरों पर हमले का पार्टी ने खूब प्रचार किया और इसमें तेजस्वी को भी लपेटा। संयोग से उसी समय तेजस्वी यादव तमिलनाडु के मुख्यमंत्री स्तालिन के जन्मदिन पर हुए बड़े कार्यक्रम में वहीं मंच पर थे। भाजपा ने तेजस्वी को भी घेरा। उसे लगा कि बैठे-बैठे 2024 में भारी जीत की चाबी मिल गई। भाजपा ने सोशल मीडिया में तूफान ला दिया। दैनिक भास्कर और हिंदुस्तान जैसे अखबारों ने भी वफादारी निभाते हुए भाजपा के एजेंडा को खूब हवा दी।

भाजपा ने मीडिया में मुद्दा बनाने के बाद बिहार विधान सभा में भी खूब हंगामा किया। उसके तेवर बता रहे थे कि वह भीतर कितनी उत्साह से भरी है। नीतीश कुमार को भी घेरने की कोशिश हुई, लेकिन निशाना तेजस्वी यादव को बनाया गया। वही महागठबंधन में भविष्य के बड़े नेता हैं, तो भाजपा को लगा कि वह तो किला ही फतह कर लेगी।

लेकिन बैठे-बैठे सत्ता की चाबी पाने का ख्वाब बैलून साबित हुआ। पहले तमिलनाडु पुलिस ने बिहारियों पर हमले की खबर को फर्जी बताया। तब भी कई लोगों को भरोसा नहीं था। भाजपा ने तमिलनाडु पुलिस को झूठा बताया। दैनिक भास्कर ने भी मोटा शीर्षक लगा कर तमिलनाडु पुलिस को झूठा बताया। लेकिन सच सामने आ गया। सामने आया, तो झूठ के पहाड़ जैसे विशाल बैलून की सारी हवा फुस्स हो गई।

अब बाजी पलट गई है। इसे तेजस्वी यादव छोड़ने वाले नहीं हैं। वे हर मौके पर लोगों को याद दिलाएंगे कि भाजपा जमीन पर बिहार के विकास के लिए कुछ करने के बजाय नफरत की राजनीति करके वोट पाना चाहती है। 2024 लोकसभा चुनाव की हर सभा में तेजस्वी यादव लोगों को भाजपा का झूठ याद दिलाएंगे। भाजपा मतलब बड़का झूठा पार्टी बताएंगे।

अब तो यह भी माना जा रहा है कि बिहार भाजपा की फजीहत को कम करने तथा लोगों का ध्यान हटाने के लिए लालू -राबड़ी से 18 साल पुराने मामले में फिर से पूछताछ की जा रही है। लेकिन इस पूछताछ के बावजूद तमिलनाडु मामले में भाजपा के झूठ को लोग भूल जाएंगे, ऐसा लगता नहीं। तेजस्वी इस मुद्दे को रह-रह कर याद दिलाते रहेंगे और 2024 चुनाव का मुद्दा बनाएंगे।

भाजपा ने जो किया, इसी को कहते हैं ब्लंडर। बिहार में ब्लंडर मिस्टेक भी कहते हैं। अब यह चाहे ‘गलती से मिस्टेक’ हो या भाजपा की रणनीति, लेकिन तमिलनाडु में बिहारियों की पिटाई और हत्या की जिस फर्जी खबर पर भाजपा ने भविष्य का सपना बुना, वही उसके भविष्य पर ग्रहण लगाएगा।

होली से पहले हनुमान जी का अपमान, ये हैं कुछ जबरदस्त कमेंट