राज-नीति

साम्प्रदायिक उन्माद का हथकंडा

जब बिहार में बीजेपी और जनता दल ( यू ) के बीच झगडा शुरू हुआ था तो जो डर राजनीतिक जानकारों के मन में था वह सही साबित हो रहा है. शेष नारायण सिंह बिहार में धार्मिक और साम्प्रदायिक बुनियाद पर राजनीतिक मोबिइलाजेशन शुरू हो गया है . देखा यह जा रहा है कि बिहार में दो संप्रदायों के बीच ...

Read More »

15 अगस्त को दलितों की हत्या: हिंदी अखबारों का रुख

आजादी के दिन यानी 15 अगस्त को रोहतास में झंडा फहराने के लिए 3 दलितों की हत्या और तीन दर्जन घायलों की खबर पर बिहार के हिंदी अखबारों का क्या रवैया रहा? यह भी पढ़ें- झंडा फहराने पर हुई हिंसा, दबंगों ने ली 3 दलितों की जान जश्न ए आज़ादी के दिन दलितों पर दरिंदगी दैनिक जागरण बिहार के दूसरे ...

Read More »

सैन्य बलों को टैक्स फ्री दारू: अदालत पहुंचा मामला

सैन्य बलों को मिलने वाली खाने-पीने की सामग्री पर सब्सिडी तो ठीक है पर उनके लिए टेक्स फ्री दारू का क्या कोई औचित्य है? आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने इस मुद्दे को गंभीरतापूर्वक विचार किया है और सरकार द्वारा बीएसएफ, सीआरपीएफ, आईटीबीपी जैसे अर्ध-सैनिक बलों में काफी सस्ती दरों पर दी जा रही शराब के खिलाफ इलाहाबाद हाई कोर्ट, लखनऊ बेंच ...

Read More »

टोपी और तिलक से आगे

ईद आई तो फिर नरेंद्र भाई और टोपी की याद आ गयी. इस बार अभिनेता रजा मुराद ने टोपी की याद दिलायी. उन्होंने कहा कि एक जिम्मेदार व्यक्ति को टोपी पहनने में नहीं हिचकिचाना चाहिए. उन्होंने कहा शिवराज सिंह चौहना ने भी टोपी पहन ली. टोपी तो लालू ने भी पहनी और नीतीश ने भी. तो क्या मुसलमानों के हमदर्द ...

Read More »

क्या सचमुच 2030 तक गरीबी का खात्मा हो जायेगा ?

इकोनॉमिस्ट पत्रिका का यह लेख चर्चा में है कि पिछले 20 वर्षों में वैश्‍विक स्तर पर गरीबी में 50 प्रतिशत तक की कमी आयी है ऐसे में 2030 तक गरीबी का खात्मा संभव है. क्या सचमें यह संभव है? इकोनॉमिस्ट के 16 जून 2013 अंक में छपे लेख “टुआर्ड्स द एंड ऑफ पोवर्टी” का संपादित अंश आप भी पढ़ें, क्या ...

Read More »

राम विलास की उम्मीदों का आख़िरी “चिराग़”

1977 में लोकसभा चुनावी जीत का विश्व इतिहास रचने वाले राम विलास पासवान अपने राजनीतिक जीवन के सर्वाधिक पतनकाल से गुजर रहे हैं. इर्शादुल हक 1969 में जब वह पहली बार विधायक चुने गये तब से अब तक का उनका राजनीतिक जीवन 44 साल का हो चुका है.इतनी लम्बी पारी खेलने के बाद आज उनकी पार्टी का एक भी लोकसभा ...

Read More »

एमपी साहब से पूछिए कितनी पीड़ा है दो पत्नियां रखने में

दो पत्नियां रखने की पीड़ा इन सांसद महोदय से पूछिए. तब चुनाव आयोग को दी गयी सूचना में एक पत्नी का नाम गायब कर चर्चा में थे अब बेटे ने मारपीट के आरोप में केस दर्ज कराया है. मंडल उनकी पहली पत्नी चौठिया देवी के बेटे आशीष रंजन एफआईआर दर्ज कराई है कि मंडल, उनकी दूसरी पत्नी आरती देवी, बेटा ...

Read More »

धर्मनिरपेक्षता पर आघात करने वाले विध्यक में हुआ संशोधन

बिहार विधानसभा ने एक ऐसे संशोधन विध्यक को मंजूरी दे दी है जिसने भारत की धर्मनिरपेक्ष छवि को दशकों से दागदार बना रखा था. इस विध्यक को मंजूरी मिलने के बाद आजादी के बाद पहली बार अब गैर हिंदू भी बोध गया मंदिर प्रबंधन समिति का अध्यक्ष हो सकेगा. सेक्युलरिज्म को कलंकित करने वाले एक्ट में बदलाव की तैयारी अभी ...

Read More »

उत्तर प्रदेश में बनते बिगड़ते समीकरण और मोदी इफैक्ट

लोकसभा के चुनाव अगले साल होने वाले हैं लेकिन लेकिन उत्तर प्रदेश में माहौल में बदलाव की हवा अभी से दिख रही है. यह साफ़ है कि २०१२ के विधान सभा चुनाव में जिस पार्टी की तरफ जाति बिरादरी का बंधन छोड़कर बड़ी संख्या में लोग थे ,वह पार्टी अब लोकप्रियता के पायदान पर बहुत नीचे है , समाजवादी पार्टी ...

Read More »

चरमपंथ से लोहा लेने को तैयार पहली महिला आईपीएस

नाम के. भावनेश्वरी. उम्र 46 साल. तमिलनाडू स्टेट पुलिस की अधिकारी. 2006 में आईपीएस में प्रोमोशन. और अब राज्य की पहली महिला आईपीएस जो इंटेलिजेंस विंग की एसपी बनायी गयी हैं. चेन्नई में सीआईडी की एसपी के रूप में भावनेश्वरी चरमपंथ और आतंकवाद से मुकाबला करने की जिम्मेदारी निभायेंगी. इससे पहले भावनेश्वरी ने सीबी-सीआईडी, निगरानी और भ्रष्टाचार निरोधी विभाग में ...

Read More »