स्पेशल आलेख

एडिटोरियल कमेंट: ये वही अफसर थे जो प्रकाश पर्व पर सम्मानित हुए, ये वहीं हैं जिनकी लापरवाही से 27 डूब मरे

died-in.ganga.makarsankranti

बस दस दिन पहले की ही तो बात है. प्रकाश पर्व की कामयाबी पर अफसरों की पीठ थपथपायी गयी थी. सम्मानित किया गया था. वे इसके हकदार भी थे. पर मक्रसंक्रांति पर 27 लोग इन्हीं अफसरों की लापरवाही से गंगा में विलीन हो गये. अब इन अफसरों के साथ क्या बर्ताव हो?   इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम पूरा ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट:बिहार ने रच दिया इतिहास, अब पिछड़ों के बेटा/बेटी भी बनेंगे जज

Lalu.nitish

ऐसे ही फैसलों को इतिहास गढ़ना कहते हैं, जो बिहार की महागठबंधन सरकार ने  27 दिसम्बर 2016 को गढ़ा. अब किसी पिछड़ी या अतिपिछड़ी जाति की बेटी या बेटा डायरेक्ट जिला जज या अतिरिक्त जिला जज बन सकता/ सकती है. यह संभव हो सका है न्यायिक सेवा में आरक्षण का दायरा बढ़ाने से. इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम वरना ...

Read More »

बनारस: मोक्ष की नगरी अब विषैली हवाओं की जकड़न में

बनारस गंगा घाट( फोटो टॉक्सिक लिंक)

 बनारस भले ही अध्यात्म व मोक्ष की नगरी मानी जाती हो पर एक ताजा अध्ययन बताता है कि यहां फैलती जहरीली हवा इस शहर को देश का सबसे प्रदूषित जगह बना चुका है. रिपोर्ट के अनुसार वायु में जहीरेले कण पीएम 2.5 खतरनाक स्तर तक पहुंच गया है. यह स्थिति बनारस के अलावा इलाहाबाद में भी है. रिपोर्ट के मुताबिक ...

Read More »

पढ़िये पूरी कहानी कि कैसे भाजपा ने रुपयाबंदी से पहले करोड़ों की जमीनें खरीदी और हुई बेनकाब

modi.new

बिहार में भाजपा ने रुपयाबंदी के ठीक पहले बिहार समेत देश के विभिन्न हिस्सों में करोड़ों की जमीन खरीद कर और राजस्व की चोरी करके बेनकाब हो गयी है. तो पढ़िये इस काले घोटाले की पूरी दास्तान. संतोष सिंह, वरिष्ठ पत्रकार बीजेपी बिहार के 25 जिलों में पार्टी कार्यालय खोलने के लिए जमीन की खरीदारी की है,,,,मेरा सवाल जमीन खरीददारी ...

Read More »

झारखंड धार्मिक उन्मादियों का गढ़ व मानवता का कत्लगाह बनता जा रहा है

हत्या आरोपी दारोगा हरीश पाठक( फोटो फारूक मोहम्मदे जुनैद के एफ वाल से

व्हाट्सएप्प पर ज़ारी एक तस्वीर के गोमांस होने के संदेह में अभी कुछ ही दिनों पहले आधी रात को झारखण्ड के जामताड़ा जिले के दिघारी गांव के बाईस वर्षीय मिन्हाज़ अंसारी के घर पहुंचकर नारायणपुर थाने के दारोगा हरीश पाठक ने उसे गिरफ्तार किया और पीटते हुए थाने ले गया। ध्रुव गुप्त ख़बर के अनुसार पुलिस हिरासत में मोबाइल की ...

Read More »

मनमोहन ने भी किया था सर्जिकल स्ट्राइक पर वह चुप रहे क्योंकि देशभक्ति चिल्लाने का नाम नहीं

manmohan-modi-_647_060915023629

एक प्रशासक की डायरी का पन्ना जो बता रहे हैं कि सर्जिकल स्ट्राइक मनमोहन ने भी किया था लेकिन वह चुप रहे लेकिन मोदी ने शोर किया. मनमोहन की खामोशी मोदी के शोर से जरूरी थी. आप भी पढ़िये. नोट- वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी ने यह पेज सार्वजनिक किया है लेकिन उस प्रशासक का नाम नहीं बताया है. (एक प्रशासक ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट: हमारे मन-मस्तिष्क में जाति की यही परिभाषा है तो थूक है ऐसे समाज के चेहरे पर

बायें तालाब से गुजरती शवयात्र, दाहीने कांधे पर शव रख कर चलने की बेबसी

अगर जातिवाद का विष हमारे मन और शरीर को इतना जहरीला बना दे कि हम कथित नीची जाति के लोगों को शवयात्रा के लिए भी रास्ता न दें तो ऐसे समाज के मुंह पर थूक देना भी कम है. मध्य प्रदेश के पनागर तहसील में दलित समुदाय के लोगों को कथित तौर पर खुद को ऊंची जाति  होने का दावा ...

Read More »

जरा याद उन्हें भी कर लें: बिहारी होके भी बिसमिल्लाह खान की रूह में बनारस क्यों बसता था?

bismillah.khan

भारत रत्न उस्ताद बिसमिल्लाह खान की पुण्य तिथि पर वरिष्ठ पत्रकार निराला उनकी शख्सियत के एक पहलू को याद कर रहे हैं जिसमें वह बता रहे हैं कि बिहार के इस रत्न को बिहार ने कैसे भुला दिया लेकिन बनारस के गंगा तट पर उनके रियाज ने अंतरराष्ट्रीय ख्याति दिला दी.   मेरा सवाल था ”उस्ताद आप बिहार के हैं और बिहार ...

Read More »

संघ द्वारा आदिवासियों का धर्म परिवर्तन कराने के मुद्दे को बेनकाब करने वाले सम्पादक हुए बर्खास्त

इस खबर से पिछले दिनों हड़कम्प मच गया था

असम की आदिवासी लड़कियों का संघ परिवार द्वारा धर्म परिवर्तन करनाने की सनसनीखेज रिपोर्ट प्रकाशित करने वाले आउटलुक के सम्पादक कृष्ण प्रसाद को बर्खास्त कर दिया गया है. ओम थानवी एक और श्रेष्ठ सम्पादक को आज घर का रास्ता दिखा दिया गया। आउटलुक के सम्पादक कृष्ण प्रसाद को पत्रिका के मालिकों (बिल्डर राहेजा) ने बर्खास्त कर दिया।   प्रतिष्ठित पत्रिका ...

Read More »

भारत के जनमानस की नब्ज पकड़नेवाले वाले साहित्यकार थे प्रेमचन्द

DSC_3474

  कथा-लेखन की हृदय-स्पर्शी प्रतिभा के लिए संसार के महान लेखकों में परिगणित होने वाले हिन्दी और उर्दु के महान लेखक प्रेमचन्द देश के पहले साहित्यकार हैं, जिन्होंने भारत के जनमानस का नब्ज पकड़ा था, और कहानियों का विषय आमजन और उसके सरोकार को बनाया था। उसके पात्र भी पाठकों के जाने-पहचाने से लगते थे। प्रेमचन्द की कहानियाँ और उपन्यास ...

Read More »