CBI निदेशक का सनसनीखेज दावा, PMO, राकेश अस्थाना व सुशील मोदी ने लालू को फंसाया

CBI निदेशक का सनसनीखेज दावा, PMO, राकेश अस्थाना व सुशील मोदी ने मिल कर लालू  फंसाया.

CBI निदेशक के पद से हटाये जा चुके आलोक वर्मा ने सेंट्रल विजिलांस कमीशन CVC  के एक सवाल के जवाब में यह सनसनीखेज खुलासा किया है कि बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना और प्रधान मंत्री कार्यालय ने एक साथ मिल कर काम किया और रेलवे के IRCTC  मामले में लालू प्रसाद को फंसाने का खेल रचा.

 

 पढ़ें-  अस्थाना पर बरसे लालू, सृजन घपले में नीतीश को बचाने का लगाया आरोप

दर असल सुप्रीम कोर्ट ने, आलोक वर्मा और राकेश अस्थाना के बीच चल रहे आरोप प्रत्यारोप की सच्चाई की तह तक जाने के लिए CVC को जिम्मेदारी सौंपी है. सीबीआई के दोनों वरिष्ठतम अधिकारियों के बेच आपस में भ्रष्टाचार का विवाद है.

इस मामले में CVC ने एक रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंपी है.

द वायर वेबसाइट ने इस खबर में बताया है कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने CVC को कहा है कि वह अपनी तमाम जानकारियां सीबीआई से निस्काषित निदेशक आलोक वर्मा के साथ साझा करे ताकि वह अपनी बात रख सकें.

इतना ही नहीं आलोक वर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी इस मामले में गंभीर आरोपों के चपेटे में लिया है औऱ कहा है कि वह इस संस्था के स्वायित्तता को समाप्त करना चाहते हैं.

तेजस्वी ने कहा नीतीश पर आ रही है दया

सीबीआई निदेशक पद से हटाये जा चुके आलोक वर्मा के इस खुलासे के बाद तेजस्वी यादव ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि

CBI निदेशक आलोक वर्मा ने CVC को बताया नीतीश कुमार “हमारे परिवार” पर हो रही CBI कारवाई से पूर्णत: अवगत थे। CBI छापे नीतीश जी की सहमति से ही हुए थे इसलिए वो छापे से पहले दिन ही राजगीर भाग गए थे। यह रिपोर्ट पढ़ नीतीश जी पर दया आ रही है।

 

CVC ने इस मामले में आलोक वर्मा से भी कड़े सवाल पूछे. उसने पूछा कि  राकेश अस्थाना रेलवे आवंटन मामले में रेेगुलर जांच करना चाहते थे तो उन्होंने इस मामले में संसदीय जांच करने को क्यों कहा. इसके जवाब में वर्मा ने कहा कि  तबके सीबीआई के अतिरिक्त निदेशक ने इसी मामले को सीबीआई में जांच करने के दौरान 2013-14 में बंद कर दिया था.

वर्मा ने यह भी कहा कि इस मामले में राजनीतिक इंटरफियरेंस भी था. इस मामले में राकेश अस्थाना, बिहार भाजपा के नेता सुशील मोदी और प्रधानमंत्री कार्यालय के वरिष्ठ अधिकारी लगातार फालोअप कर रहे थे.

 

उधर राजद के नेता मनोज झा ने इस मामले को भयानक बताते हुए कहा है कि अब फिर से साफ हो गया है कि लालू निर्दोष हैं. उन्होंने आलोक वर्मा द्वारा लगाये के इन आरोपों को गंभीर बताया है.

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*