मनरेगा में मजदूरी करते बन गयी विधायक, खूब हो रही चर्चा

मनरेगा में मजदूरी करते बन गयी विधायक, खूब हो रही चर्चा

Chandana Bauri, wins Assembly election

भारतीय जनता पार्टी पूरी ताकत झोंक कर भी पश्चिम बंगाल हार गयी लेकिन भाजपा से एक ऐसी महिला जीती हैं जो झोपड़ी में रहने वाली, मजदूर की पत्नी और तीन बकरियों की मालिक हैं.

भाजपा के टिकट पर सालतोरा सीट से चुनाव लड़ने वाली चंदना बाउरी ने टीएमसी के संदीप मंडल को पछाड़ दिया है। 

चंदना बाउरी की जीत इसलिए भी चर्चा में है क्योंकि वो एक साधारण परिवार से आती हैं और संपत्ति के नाम पर उनके पास एक झोपड़ी और कुछ पैसे हैं।

भाजपा नेता सुनील देवधर ने ट्वीट कर चंदना बाउरी ( Chandana Bauri) के बारे में संक्षेप में जानकारी दी है. उन्होंने चंदा बाउरी की तस्वीर भी शेयर की है.

चंदना बाउरी की जमापूंजी कुल 31,985 रुपये है। वह गाय और बकरियां पालती हैं. खुद पति और पत्नी मनरेगा में पंजीकृत मजदूर हैं.

 सुनील देवधर ने बताया कि चंदना अनुसूचित जाति समाज से आती हैं, एक झोपड़ी में रहती हैं, वह एक मजदूर की पत्नी हैं और संपत्ति के नाम पर उनके पास तीन गाय और तीन बकरियां हैं। चुनाव आयोग में दिए गए शपथ पत्र में चंदना के बैंक खाते में सिर्फ 6335 रुपये हैं।

भाजपा की हार के जख्म पर जदयू ने छिड़का नमक

चंदना बाउरी के पति सरबन मजदूरी करते हैं। वह राजमिस्त्री का काम करते हैं। पति और पत्नी दोनों मनरेगा में पंजीकृत मजदूर हैं। उनके तीन बच्चे भी हैं। चंदना पिछले सात-आठ साल से भाजपा से जुड़ी हुई हैं। टीएमसी ने चंदना के खिलाफ संतोष मंडल को चुनावी मैदान में उतारा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*