Civil Service परीक्षा:मुसलमानों ने फिर बनाया सफलता का कीर्तिमान: विश्लेषण

Civil Service परीक्षा: मुसलमानों ने फिर बनाया सफलता का कीर्तिमान: विश्लेषण

UPSC Civil Service परीक्षा: मुसलमानों ने फिर बनाया सफलता का कीर्तिमान

UPSC Civil Service प्रतियोगी परीक्षा 2019 का परिणाम घोषित हो चुका है. इस परीक्षा में मुस्लिम प्रतियोगियों ने सफलता का कीर्तिमान स्थापित किया है.

कुछ वर्ष पहले तक महज 2.5 प्रतिशत कामयाबी हासिल करने वाले मुसलमानों में शिक्षा के क्षेत्र में मौन क्रांति देखी जा रही है और अब उनकी सफलता दर 5 प्रतिशत यानी दो गुनी हो गयी है.

Naukarshahi.Com
Irshadul Haque, Editor naukarshahi.com

कुछ वर्ष पहले तक की परीक्षाओ में जहां औसत 2.5- 3.5 प्रतिशत मुस्लिम प्रत्याशियों को सफलता मिलती थी वहीं इस बार 5.06 प्रतिशत मुस्लिम प्रतियोगियों ने सफलता अर्जित करके कीर्तिमान बनाया है.

गौरतलब है कि UPSC Civil Service प्रतियोगी परीक्षा देश की सर्वाधिक चुनौतिपूर्ण परीक्षाओं में से एक है और इसमें चयन होने वाले देश की नीति निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

इस परीक्षा में प्रतदीप सिंह ने टॉप रैंक प्राप्त किया है जबकि जतिन किशर दूसरे और प्रतिभा वर्मा तीसरे स्थान पर रही हैं.

बोर्ड परीक्षा में खराब रिजल्ट वालों के लिए इस IAS ने शेयर किया अपना रिजल्ट

मेधा सूची में मुस्लिम समाज में सबसे ऊपर सफना नजरुद्दीन 45 वें रैंक पर और शेख मोहम्मद जायेब जाकिर हैं जो 153वें रैंक पर रहे हैं.

काबिले जिक्र है कि इस प्रतिष्ठित प्रतियोगी परीक्षा में मुसलमानों का अनुपात लगातार कम रहा है. और यह आंकड़ा बमुश्किल 2.5 प्रतिश के आस पास रहा है. लेकिन विगत कुछ वर्षों में मुसलमानों की सफलता दर में इजाफा देखने को मिल रहा है.

पिछले वर्ष 759 सफल प्रतियोगियों में 28 मुसलमान थे जो करीब चार प्रतिशत है.

2015 के बाद से मुसलमानों की सफलता दर 4-5 प्रतिशत के करीब पहुंच गयी है. जबकि उससे पहले यह दर 2.5 प्रतिशत के करीब रहती थी. इस सफलता की एक बड़ी वजह जहां मुस्लिम युवाओं में शिक्षा के प्रति लगातार बढ़ते रुझान और हीन भावना से नकलने की ललक है तो दूसरी तरफ देश भर में प्रतिभावान छात्रों को फ्री कोचिंग दे कर उनकी योग्यता को निखारने के प्रयास संस्थानिक तौर पर किये जाने लगे हैं. रिटायर्ड आईएएस अधिकारी जफर महमदू ( Zafar Mahmood) जकात फाउंडेशन के बैनर तले इस तरह की कोशिश करते हैं. उनके अलावा बिहार, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना आदि राज्यों में भी अनेक कोचिंग संस्थान मुस्लिम छात्रों को निखारने में लगे हैं. तो वहीं जामिया मीलिया इस्लामिया में रिटायर्ड आईएएस अफसर एमएफ फारूकी ( M.F. Farooqui (IAS Retd.) भी इसी प्रयास में लगे हैं.

माना जाता है कि उच्च शिक्षा के साथ साथ इस प्रतिष्ठित प्रतियोगी परीक्षा में मुसलमान शामिल होने का साहस ही कम करते हैं जिसके कारम उनके चयन की संभावनायें भी काफी कम रही हैं. लेकिन इस बार के घोषित परिणाम का अध्ययन करने से साफ पतला चलता है कि अब मुस्लिम युवाओं में इस परीक्षा के प्रति लगन और उत्साह बढ़ा है. जिसका परिणाम है कि इस बार की परीक्षा में उन्हें अच्छी सफलता मिली है.

हालांकि देश की आबादी का कुल 14.5 प्रतिशत आबादी के लिहाज से अगर उन्हें 4.82 प्रतिशत सफलता मिली है तो यह भी कम है. लेकिन पिछले वर्षों में मुस्लिमों की सफलता दर के लिहाज से इस बार की सफलता दर उत्साहजनक है.

सफल प्रत्याशियों की कुल संख्या 829

सफल मुस्लिम प्रत्याशियों की कुल संख्या 40

सफलता प्रतिशत 4.82

SL NO. RANK NAME
01 45 SAFNA NAZRUDDIN
02 153 SAIKH MOHD ZAIB ZAKIR
03 185 RUMAIZA FATIMA
04 193 SAMIR AHMAD
05 209 SUTHAN ABDULLA
06 241 SOFIYA
07 248 ASRAR AHMAD
08 252 NOORUL QUMAR
09 254 AJMAL SHAHJAD
10 258 FARMAN AHMAD
11 292 MOHD SHAFIQ
12 303 SUFIYAN AHMAD
13 315 AZHARUDDIN
14 328 ASIF YOUSUF
15 332 AHMAD BELAL
16 350 NADIYA BAIG
17 385 S MOHD YAKOOB
18 388 SHAHUL HAMEED
19 396 SHAEEN C
20 403 MD SABBIR ALAM
21 412 AFTAB RASOOL
22 460 AHMAD ASHIK
23 461 MOHD NADEEMUDDIN
24 476 SAYED ZAHID ALI
25 487 MOHD DANISH K
26 511 MD QAMRUDDIN
27 529 MAAZ AKHTAR
28 542 HASAN USAID
29 579 MOHD AQUIB
30 596 REHAN KHATRI
31 611 FAISAL KHAN
32 623 SAIFULLA
33 628 SABZAR AHMAD
34 638 MAJID IQBAL
35 645 FIROJ ALAM
36 718 RUHEENA TUFAIL
37 747 RAYES HUSSAIN
38 778 MOHD NAWAS
39 823 SHAIKH SOIB
40 824 SAYED JUNAID.

2 more candidates in the list
TOTAL= 42 CONDIDATES

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*