सीएम ने अधिकारियों को लगाई फटकार

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज राज्य में कानून व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति को लेकर पुलिस अधिकारियों को कड़ी फटकार लगाते हुए लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आदेश दिया ।

श्री कुमार ने यहां एक अणे मार्ग स्थित ‘नेक संवाद’ में कानून व्यवस्था की स्थिति को लेकर 20 दिनों के अंदर दूसरी बार समीक्षा बैठक की और राज्य में अपराध की बढ़ती घटनाओं पर सख्त रुख अपनाते हुए राज्य के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय को आदेश दिया कि जो भी पुलिस अधिकारी या कर्मचारी विधि व्यवस्था के मामले में कोताही बरत रहे हैं चिह्नित कर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाये । उन्होंने वरीय पुलिस अधिकारियों को हर हाल में विधि व्यवस्था को चुस्त-दुरूस्त बनाये रखने का निर्देश दिया ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अपराध नियंत्रण के लिए पुलिस गश्त लगातार करते रहने और सभी गश्ती वाहनों में ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) तकनीक का उपयोग करने का निर्देश दिया। उन्होंने सभी थानों की स्टेशन डायरी मेंटेन रखने, थानों में कम्प्यूटर, डाटा ऑपरेटर और इंटरनेट लगाने का कार्य तेजी से कराने, प्रत्येक थाने में लैंड लाइन फोन की उपलब्धता सुनिश्चित करने तथा कानून व्यवस्था को दुरुस्त बनाए रखने के लिए अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं करने का निर्देश देते हुए कहा कि विशेष शाखा के सदृढ़ीकरण से पुलिस कार्यों की गुणवत्ता में और सुधार आएगा।

बैठक में अपराध नियंत्रण के लिए थानों में वाहन की उपलब्धता, लंबित वारंट एवं कुर्की जब्ती के शीघ्र निष्पादन एवं थाना स्तर पर विधि-व्यवस्था एवं अनुसंधान के पृथक्करण पर चर्चा की गयी । जिन थानों के भवन नहीं हैं, उनके लिए भूमि चयन, भूमि विवाद एवं उससे संबंधित विधि-व्यवस्था और थानों के लिए रिवाल्विंग फंड की भी जानकारी दी गई। साथ ही बैठक में थानावार अपराध विश्लेषण, अनुसंधान गुणवत्ता एवं संवर्द्धन प्रशिक्षण, स्पेशल ब्रांच के सुदृढ़ीकरण एवं पुनर्गठन के लिए पदों के सृजन पर भी चर्चा हुयी।

कुमार ने विधि-व्यवस्था के साथ मद्य निषेध के संबंध में भी समीक्षा बैठक की । इस दौरान मद्य निषेध, मादक पदार्थों की तस्करी के लिए आसूचना संकलन एवं संग्रहण कर उन पर की जा रही कार्रवाइयों के बारे में जानकारी दी गई । साथ ही आर्थिक अपराध के मामले पर भी बैठक में चर्चा हुई ।
मुख्यमंत्री ने इस दौरान कहा, “राज्य में मद्य निषेध को और प्रभावी एवं कारगर ढंग से लागू करने के लिए हम सबको भावनात्मक दृष्टिकोण के साथ काम करना होगा। शराब के अवैध व्यापार की जांच में जो गाडि़यां पकड़ी गई हैं, उन गाडि़यों की स्थिति क्या है और किसकी गाड़ी है ठीक ढंग से पता करने से इस व्यवसाय के विभिन्न बिंदुओं को समझने में सुविधा होगी।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*