Cong ने नड्डा से कहा, आज माफी न मांगी, तो कोर्ट में घसीटेंगे

Cong ने नड्डा से कहा, आज माफी न मांगी, तो कोर्ट में घसीटेंगे

कांग्रेस ने भाजपा अध्यक्ष नड्डा को कड़ा पत्र लिखा। कहा आपके ये-ये नेता राहुल गांधी के खिलाफ झूठ फैला रहे। आज माफी न मांगी तो कोर्ट में घसीटेंगे।

केरल में राहुल गांधी

Zee न्यूज ने दो अलग-अलग बातों को काट कर राहुल गांधी को उदयपुर के आतंकियों का दोस्त साबित कर दिया। इसे भाजपा के कई सांसदों, पूर्व केंद्रीय मंत्रियों, विधायकों ने सोशल मीडिया पर न सिर्फ फैलाया, बल्कि अपनी तरफ से भी राहुल के खिलाफ बातें लिखीं। अब कांग्रेस ने इस पर कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है। अरसे बाद आज कांग्रेस ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखा और दो टूक शब्दों में नाम लेकर कहा कि आपके ये-ये नेता राहुल गांधी के खिलाफ झूठ फैला रहे हैं। आप उनकी तरफ से आज माफी मांगें। अगर माफी नहीं मांगते हैं, तो भाजपा नेताओं को कोर्ट में घसीटेंगे।

जेपी नड्डा को लिखे पत्र में कांग्रेस ने कहा कि वह यह जानकर स्तब्ध है कि आपकी पार्टी के कुछ सहयोगी जानबूझकर और अत्यंत उत्साह से ज़ी न्यूज़ की झूठी खबर साझा कर रहे हैं। राहुल गांधी के वास्तविक वीडियो में उनके वायनाड कार्यालय पर एसएफआई द्वारा की गई हिंसा के संबंध में टिप्पणी कर रहे थे लेकिन एक चैनल द्वारा उसे जानबूझकर शरारतपूर्ण ढंग से काट-छांट करके इस प्रकार से प्रस्तुत किया गया, जैसे यह टिप्पणी उदयपुर में कन्हैया लाल लाल की जघन्य हत्या के संबंध में थी। इस बात को हमारी ओर से तुरंत सभी लोगों को ध्यान में लाया गया कि यह रिपोर्ट नितांत झूठी है और भ्रम की स्थिति पैदा करने के लिए जानबूझकर इसे प्रसारित किया गया है। इससे भी बड़ी चिंता की बात यह है कि आपकी पार्टी के कई सहयोगी राजवर्धन राठौर, सांसद, सुब्रत पाठक, सांसद कमलेश सैनी, विधायक और अन्य शामिल हैं, उन्होंने बड़े उत्साहपूर्वक और कोई सत्यापन किए बिना जानबूझकर इस रिपोर्ट को सोशल मीडिया पर प्रकाशित और शेयर किया।

मेरी पार्टी के सहयोगी द्वारा चेतावनी दिए जाने के बावजूद दुर्भावना पूर्ण रूप से राठौर ने इसे प्रचारित करना जारी रखा। पहले इसे हटा दिया और फिर इसे दोबारा अपलोड कर दिया। इससे कोई संदेह नहीं रह जाता कि उनके द्वारा जानबूझकर किए गए इन कार्यों का उद्देश्य पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को बदनाम करना, कांग्रेस को बदनाम करना और पहले से ही संवेदनहीन बनी हुई सांप्रदायिक स्थिति का ध्रुवीकरण करना था, जो आपकी पार्टी का रणनीतिक हिस्सा है। यह कोई बहाना नहीं हो सकता कि आपके सहयोगियों ने पहले इस रिपोर्ट को अपलोड किया था और इस झूठी रिपोर्ट को साझा करने के बाद फिर इसे हटा दिया, क्योंकि वास्तविकता यह है कि जो नुकसान पहुंचाना चाहते थे, उसे डिलीट करने से पहले पहुंचा चुके थे।

इस झूठी खबर को फैलानेवाले मूल जी-न्यूज पर उचित कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी गई है। हम आशा करते हैं कि आप और आपके पार्टी के सहयोगी इस तरह के झूठ फैलाना बंद करेंगे और ऐसी हरकतों से बाज आएंगे। इसके अतिरिक्त मुझे आशा है कि आप अपने सहयोगियों की ओर से तुरंत माफीनामा जारी करेंगे, जिन्होंने सच्चाई का इस तरह से घोर अपमान किया। अगर माफीनामा आज जारी नहीं किया जाता है, तो हम आपकी पार्टी और उन नेताओं के विरुद्ध उचित कानूनी कानूनी कार्रवाई करेंगे जो इस तरह से गैर जिम्मेदार और आपराधिक तरीके से सोशल मीडिया का दुरुपयोग करने पर जोर देते हैं।

Zee News ने थूक कर चाटा, पर चुपके-चुपके, ताकि कोई देखे नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*