कांग्रेस ने योगी आदित्यनाथ को, राजद ने शाहनवाज को घेरा

कांग्रेस ने योगी आदित्यनाथ को, राजद ने शाहनवाज को घेरा

आज उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कांग्रेस के बड़े नेताओं ने घेरा, तो बिहार में राजद ने प्रदेश के मंत्री शाहनवाज हुसैन पर उठाया बड़ा सवाल।

कुमार अनिल

आज कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से डाले गए एक मैसेज पर सवाल उठाया। कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा- मुख्यमंत्री जी के आधिकारिक अकाउंट से दुर्गेश चौधरी नामक व्यक्ति का एक वीडियो डाला गया, जिसमें उसने लेखपाल की पारदर्शी भर्ती के लिए योगी जी को धन्यवाद दिया।

पवन खेड़ा ने आगे कहा कि अब पता चला कि पिछले पांच साल से लेखपाल की कोई भर्ती ही नहीं आई है। पोल खुलते ही ट्विट डिलिट कर दिया गया। खेड़ा ने पूछा-मुख्यमंत्री का यह स्तर। खेड़ा ने उस ट्विट को भी साझा किया, जिसमें दुर्गेश नामक युवा मुख्यमंत्री को धन्यवाद दे रहा है।

मंत्री के स्कूल से शराब बरामद, तेजस्वी ने कहा असल माफिया नीतीश

ललित शर्मा ने ट्विट किया- मुख्यमंत्री जी राजस्व लेखपाल की भर्ती कब हुई? एक बार 2019-20 में नोटिफिकेशन आया था। मैंने फॉर्म भरा था, लेकिन भर्ती रद्द हो गई। फॉर्म फीस तक वापस नहीं की गई।

इधर, बिहार में राजद ने भाजपा नेता और मंत्री शाहनवाज हुसैन की एक बड़ी होर्डिंग पर सवाल उठाया है। यह होर्डिंग पटना में मौर्यलोक कॉम्प्लेक्स के निकट लगाई गई है। विशाल होर्डिंग में सिर्फ इतना ही लिखा है कि 10 मार्च को शैयद शाहनवाज हुसैन, माननीय उद्योग मंत्री के साथ संवाद। संवाद स्थल-बिहार चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज, पटना।

राजद ने क्यों कहा जदयू -भाजपा गठबंधन बेमेल है

होर्डिंग की तस्वीर के साथ राजद ने कहा- धरातल पर कोई कार्य (उद्योग) नहीं हो रहा। जेडीयू और भाजपा की अंदरूनी लड़ाई तथा मंत्रियों में वर्चस्वता (कौन बड़ा) कायम करने के लिए होर्डिंग-बैनर लगाने के सिवा कुछ नहीं हो रहा।

उद्योग मंत्री शाहनावज हुसैन ने संवाद के बाद एक ट्विट किया है, जिसमें उन्होंने कहा है- आज चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के संवाद कार्यक्रम में शामिल हुआ। उद्योग की समस्याओं और सुधार को लेकर सुझावों पर चर्चा हुई। सभी सदस्य आत्मनिर्भर बिहार के लिए जुड़ने को तैयार हैं।

राजद प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा कि उद्योग की समस्याओं को जानने भर के लिए इतने प्रचार की क्या जरूरत है। समस्याओं को जानने के लिए मंत्री अपने दफ्तर में भी उद्योग प्रतिनिधियों के साथ वार्ता कर सकते थे।

अगर राजद का आरोप सही है, तो आनेवाले दिनों में ऐसी और भी होर्डिंग दिखेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*