कोविड के नाम पर कोचिंग बंद कराने से पहली बार भड़के छात्र

कोविड के नाम पर कोचिंग बंद कराने से पहली बार भड़के छात्र

यूरोप के कई देशों में कोविड के नाम पर लॉकडाउन और मास्क पहनने की अनिवार्यता के खिलाफ प्रदरेशन हुए हैं। अब पहली बार रोहतास और बेतिया में भी भड़के छात्र।

आज देश में पहली बार कोविड के नियमों को तहत कोचिंग बंद कराने पर छात्र भड़क गए और उन्होंने पुलिस पर पथराव कर दिया। रोहतास और बेतिया में छात्रों ने कोचिंग बंद कराने के खिलाफ उग्र प्रदर्शन किया। हंगामा करने के आरोप में कई छत्रों को गिरफ्तार भी किया गया है।

छात्रों का कहना है कि कोविड के रहते हुए विधानसभा का चुनाव हो सकता है, खुद प्रधानमंत्री बड़ी रैलियां कर रहे हैं, तब कोरोना नहीं फैलता है और कोचिंग खोलने से कोरोना फैल जाएगा?

किसानों ने बनाया दुनिया का अनूठा किसान शहीद स्मारक

आज सुबह रोहतास में जब एक कोचिंग संस्थान को कोविड की गाइडलाइन के तहत बंद करने की कोशिश की गई, तो छात्र भड़क गए। उन्होंने पुलिस पर पथराव कर दिया। ऐसी ही घटना बेतिया में भी होने की सूचना है।

एनडीटीवी के मनीष ने रोहतास की घटना से संबंधित कई ट्विट किए हैं। उन्होंने जिले के पुलिस अधीक्षक आशीष भारती का बाइट ट्विट किया है, जिसमें वे कह रहे हैं कि नगर परिषद के कर्मी और पुलिस जब गाइडलाइन को लागू करने गई, तो कुछ लोगों के उकसाने पर छात्रों ने पुलिस पर पथराव किया। कुछ लोगों को गिरफ्तार किया गया है। छात्रों को उकसानेवालों के खिलाफ भी कार्रवाई होगी।

जनांदोलन की पृष्ठभूमि बनाने के लिए तेजस्वी ने स्पीकर को लिखा पत्र

इस बीच राजद के प्रवक्ता चितरंजन गगन ने छात्रों को गिरफ्तार किए जाने की निंदा की है। उन्होंने छात्रों के साथ एकजुटता प्रकट करते हुए कहा कि खुद प्रधानमंत्री अपनी रैलियों का वीडियो ट्विट कर रहे हैं, तब कोविड का खतरा नहीं रहता। उन्होंने यह भी कहा कि सरकारी स्कूल और कॉलेज बंद हैं। अब जब प्राइवेट कोचिंगवाले पढ़ाना चाहते हैं, तो उन्हें रोका जा रहा है, इससे यहां पढ़ानेवाले शिक्षकों के सामने भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*