दस महीने से बंद पड़े स्टेडियम कब खुलेंगे, हो गया फैसला

14 के बाद खुलेंगे खेल स्टेडियम, गूंजेगी बास्केटबाल की धप-धप और ताइक्वांडो की से..ज

बिहार में स्कूल खुलने के बाद सवाल उठ रहे थे कि स्टेडियम कब खुलेंगे। खिलाड़ियों के हितों को ध्यान में रखते हुए विभाग ने स्टेडियम खोलने का निर्णय ले लिया है।

स्टेडियम खोलने को लेकर आज खेल विभाग की बैठक हुई। सूत्रों के अनुसार खेल संघों, कोच और खिलाड़ियों के हितों को ध्यान में रखते हुए 14 जनवरी के बाद स्टेडियम खोलने का निर्णय लिया गया। बैठक में एकलव्य ट्रेनिंग सेंटर के सभी कोच से कोविड-19 से बचाव के उपाय करते हुए प्रैक्टिस शुरू करने संबंधी प्रस्ताव मांगे गए। सभी ने कोविड से बचाव के उपाय बताए। विभाग ने कोविड-19 से बचाव के लिए विस्तृत मानदंड तैयार किया है ताकि सभी खिलाड़ी और कोच सुरक्षित रहते हुए सभी तरह के खेल की प्रैक्टिस कर सकें।

मजबूरी में करते रहे गंगा किनारे प्रैक्टिस

वरिष्ठ एथलीट कोच मुकेश कुमार सिंह विभाग के निर्णय से खुश हैं। उन्होंने कहा कि स्टेडियम बंद रहने के कारण हमारे खिलाड़ी मजबूरी में कभी गंगा किनारे, तो कभी गांधी मैदान में प्रैक्टिस करते रहे। स्टेडियम में ट्रैक पर प्रैक्टिस और बिना ट्रैक के गांधी मैदान में प्रैक्टिस में जमीन आसमान का फर्क है।

राजगीर में रोपवे का ट्रायल शुरू, फरवरी से लीजिए आनंद

उन्होंने बताया कि प्रैक्टिस किए बगैर हमारे खिलाड़ी शनी कुमार ने गुवाहाटी में दस दिन पहले हुए ईस्ट जोन नेशनल में न सिर्फ गोल्ड मेडल हासिल किया, बल्कि मीट का सर्वश्रेष्ठ प्लेयर भी चुना गया। उन्होंने विभाग का आभार जताते हुए कहा कि अब बिहार के खिलाड़ी अपनी प्रतिभा को और भी बेहतर करेंगे। राष्ट्रीय खेलों में बिहार का नाम रोशन करेंगे।

 बॊक्सिंग एसोसिएशन आफ बिहार के सचिव राजीव कुमार सिंह ने निर्णय पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि स्टेडियम बंद रहने से बॊक्सर परेशान थे। उनकी प्रैक्टिस लंबे समय से बाधित थी। स्टेडियम खुलने से अब बॊक्सर अपनी प्रैक्टिस शुरू कर पाएंगे।

अंतरराष्ट्रीय महिला एथलीट अंजू कुमारी ने भी स्टेडियम खोलने के निर्णय का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि स्टेडियम बंद रहने से महिला खिलाड़ियों को ज्यादा परेशानी हो रही थी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*