देशभर में शराबबंदी की मांग करनेवाले नीतीश हेरोइन पर चुप

देशभर में शराबबंदी की मांग करनेवाले नीतीश हेरोइन पर चुप

पीएम मोदी के गृह राज्य गुजरात में 3 टन हेरोइन पकड़ी गई। इसी साल जून में भी हेरोइन की खेप पहुंची है। देशभर में शराबबंदी की मांग करनेवाले नीतीश चुप क्यों हैं?

लगता है भारत के युवाओं को ड्रग्स में डुबो देने की कोई अंतरराष्ट्रीय साजिश की जा रही है। कल ही प्रधानमंत्री के गृह राज्य गुजरात में टैल्कम पावडर के नाम पर तीन हजार किग्रा हेरोइन पकड़ी गई। यह पोर्ट अडानी का है। अभी इस पर बात हो ही रही थी कि पता चल रहा है कि इसी साल जून में भी 25 हजार किग्रा हेरोइन पहुंची है। देश में अडानी के हाथ से पोर्ट वापस लेने की मांग हो रही है। इतनी बड़ी साजिश की जा रही है, लेकिन आश्चर्य है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार चुप हैं।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शराबबंदी कानून को लेकर खूब बातें करते रहे हैं। लेकिन अब तो पूरे देश को ही ड्रग्स के दलदल में धकेल देने की साजिश हो रही है। इसके बावजूद नीतीश कुमार चुप हैं।

शराबबंदी के पक्ष में जो-जो तर्क दिए जाते हैं कि किस प्रकार इससे आम लोग, परिवार बर्बाद होते हैं, वह सारे तर्क हेरोइन के मामले में ज्यादा गंभीर हैं। इसमें अंतरराष्ट्रीय गिरोह काम करते हैं। पूरा देश ही बर्बादी की राह पर जा सकता है, ऐसे में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की चुप्पी से नशे के खिलाफ उनके अभियान पर प्रश्नचिह्न लग गया है।

कांग्रेस ने पूछा- इस साल जून में अडानी मुंद्रा पोर्ट से 25 हजार किग्रा हेरोइन देश में स्मगल की गई है। क्या मोदी सरकार बताएगी कि वह सारा ड्रग्स कहां है? क्या मोदी सरकार को कोई चिंता है ?

कांग्रेस ने यह भी कहा- अफगानिस्तान से ड्रग तस्करी होना राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ खिलवाड़ है, यह कोई साधारण मामला नहीं है।देश में इतनी अधिक मात्रा में हेरोइन पकड़ी जाती है, उसके बाद प्रधानमंत्री का मौन संदिग्ध है। प्रधानमंत्री को जवाब देना ही होगा- यह देश के युवाओं को नशे में धकेलने का षड्यंत्र तो नहीं?

राजद प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की शराबबंदी सिर्फ ढकोसला है। पूरी दुनिया की सबसे बड़ी हेरोइन की खेप भारत में पकड़ी जा रही है, लेकिन नीतीश चुप हैं। साफ है, उनका नशामुक्ति का नारा और शराबबंदी अवैध कमाई का बड़ा जरिया भर है। हेरोइन के जरिये देश के खिलाफ साजिश की जा रही है, लेकिन नीतीश कुमार चुप हैं।

बिहार में ‘नल जल योजना’ बनी ‘नल धन योजना’ : तेजस्वी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*