ढह गया भूमिहारों का किला, JDU ने हेगड़े को रास का दिया टिकट

भूमिहारों की एक सीट गई, JDU ने हेगड़े को रास का दिया टिकट

जदयू ने किंग महेंद्र के निधन से खाली हुई राज्यसभा की सीट के लिए आज नाम की घोषणा कर दी। अनिल हेगड़े को दिया टिकट। भूमिहारों की एक सीट गई।

टिकट मिलने की घोषणा के बाद पार्टी नेताओं के साथ अनिल हेगड़े

आज जदयू ने महेंद्र प्रसाद उर्फ किंग महेंद्र के निधन से खाली हुई राज्यसभा की सीट के लिए नाम की घोषणा करके सबको चैंका दिया। पार्टी ने अनिल हेगड़े को राज्यसभा का टिकट दे दिया। राजनीतिक क्षेत्र में माना जा रहा था कि किंग महेंद्र के निधन से खाली हुई सीट पर JDU अपने किसी भूमिहार जाति के नेता को टेकट देगा। टिकट मिलने की संभावना वालों नामों में केसी त्यागी का नाम सबसे आगे चल रहा था। लेकिन पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं देकर अनिल हेगड़े को टिकट दे दिया। इसी के साथ यह तय हो गया कि राज्यसभा में भूमिहारों का।

किंग महेंद्र सात बार राज्यसभा के सदस्य रहे। उनके प्रभाव का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि एक बार जदयू ने तय किया किसी नेता को राज्यसभा में लगातार दूसरी बार नहीं भेजा जाएगा। तब किंग महेंद्र ने कहा कि वे तो राज्यसभा जाएंगे, चाहे जो हो। इसके बाद पार्टी को अपना नियम बदलना पड़ा। उन्हें दुबारा भेजा गया। इसका फायदा अली अनवर को भी हुआ। उन्हीं के साथ अली अनवर को भी दुबारा राज्यसभा भेजा गया।

नौकरशाही डॉट कॉम ने जदयू के कई नेताओं ने इस सिलसिले में संपर्क किया। सबने यही कहा कि अनिल हेगड़े पार्टी के लिए लंबे समय से समर्पित कार्यकर्ता रहे हैं। आसानी से मिलने-जुलने वाले नेता रहे हैं। उन्हें चुनाव आचार संहिता सहित चुनाव आयोग के नियमों आदि की विशेष जानकारी है। वे राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी चुनाव पदाधिकार रहे हैं। राष्ट्रीय महासचिव रहे। हमेशा राष्ट्रीय कमेटी में किसी पद पर जिम्मेवारी निभाते रहे।

इधर, राजनीतिक क्षेत्र में किंग महेंद्र की सीट पर किसी भूमिहार को न भेजना बोचहा इफेक्ट भी माना जा रहा है। बोचहा उपचुनाव में भूमिहारों ने बड़ी तादाद में राजद को समर्थन दिया था।

अररिया डीएम इनायत खान ने चढ़ाया बाबा भोलेनाथ को जल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*