दुष्यंत ने सियासी ज़मीर गिरवी रख BJP को समर्थन दिया तो ट्रेंड कर गया #LearnFromLalu

दुष्यंत चौटाला द्वारा हरियाण में भाजपा को समर्थन की घोषणा होते ही उनके पिता को जेल से 14 दिनों की मुक्ति मिलते ही ट्विटर पर #LearnFromLalu ट्रेंड कर गया।

#LearnFromLalu

लोगों ने लिखा कि अब साफ हो गया है कि लालू प्रसाद को जेल में इस लिए डाला गया है कि उन्होंने भाजपा से समझौता नहीं किया।
ट्विटर यूजर्स ने तेजस्वी यादव के 2017 के उस ट्वीट को जज़ारो शेयर किया जिसमें उन्होंने लिखा तज कि अगर लालूजी ने भाजपा से समझौता कर लिया होता तो वह भी आज राजा हरीशचंद बन जाते और जेल से बाहर होते।

 

काबिले जिक्र है कि जेजेपी लीडर दुष्यंत चौटाला के पिता ओमप्रकाश चौटाला भ्रष्टाचार मामले में तिहाड़ जेल में है। उन्हें 14 दिनों के लिए फिलहाल छुट्टी मिल गयी है।

एक ट्विटर यूज़र ने लिखा कि फिरकापरस्त और जातिवादी भाजपा से लालू कभी हाथ नहीं मिला सकते ।
राजद ने इसके जवाब में अपने हैंडल से लिखा-

जेल, बेल, पैरोल अब न्यायालय नहीं ‘तड़ीपार’ तय करता है!

सबसे बड़ी अदालत अब है- “गुजराती संघी गैंग की अदालत”!!

लालू यह जानते हैं पर हार मानते नहीं!

अरुण कुमार यादव ने रीट्वीट किया कि
अगर लालू जी BJP से हाथ मिला लेते तो वो आज हिंदुस्तान के राजा हरीशचंद्र होते।तथाकथित चारा घोटाला दो मिनट में भाईचारा घोटाला हो जाता अगर लालू जी का DNA बदल जाता।
विक्रम कुमार ने लिखा कि शायद अब लोग समझ सकें कि लालू घोटाले की वजह से जेल में नहीं हैं

तनवीर हसन ने लिखा कि
तमाम परिस्थितियों में भी कभी स्वाभिमान एवं विचारधारा से समझौता ना करना लालू यादव को देश ही नहीं विश्व भर में अति-लोकप्रिय बनाता है।
मनोज झा ने लिखा जिस दौर में हुकूमत खौफ/डर के आधार पर लोगों की राजनीति को कुंद करती हो उस दौर में ज़ुल्मतों के खिलाफ़ लगातार खड़े रहना और लोकोन्मुख सरोकार से पीछे न पलटना सबके बूते की बात नहीं.

आकाश ने ट्वीट किया – “वो मुझे मार कर खुश है कि सारा राज उस पर है..
यकीनन कल है मेरा, आज बेशक आज उस पर है..
उसे ज़िद थी झुकाओ सर, तभी दस्तार बख्शुंगा..
मैं अपना सर बचा लाया, महल और ताज उस पर है..!”
कारी शोहेब ने लिखा- हमारे नेता @yadavtejashwi की रगो में लालू जी का ख़ून है। मर जाएँगे लेकिन वसूलों से समझौता नहीं करेंगे। हम इन फ़ासीवादियों से लड़ेंगे और जीतेंगे।
जबकि सुनील अहीर ने ट्वीट किया आसान नही है @yadavtejashwi बन जाना। पिता जेल में है, ऊपर से CBI, IT, ED का दबाब। फिर भी तेजस्वी ने भाजपा के सामने सरेंडर नही किया।

एक है दुष्यंत चौटाला, भाजपा के खिलाफ लड़े, लेकिन CBI, IT, ED दवाब में और पिता अजय चौटाला को जेल से निकालने के लिए अपने राजनीतिक वसूलों की बलि दे दी।
उधर स्वेता विस्वास ने कहा कुछ लोमड़ी नेताओं ने अफ़वाह फैला रखी थी कि @yadavtejashwi बीजेपी से हाथ मिला लेंगे इस चुनाव में!

जनता के नजर में गिराने की ये योजना थी इनकी!

जिस पिता ने BJP RSS की ‘फूट डालो राज करो’नीति के रथ को बिहार में रोक दिया उनका बेटा उन सिद्धान्तों से कैसे समझौता करेगा!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*