EC के निर्देश पर तेलंगाना के DGP सस्पेंड, नए ने पद संभाला

EC के निर्देश पर तेलंगाना के DGP सस्पेंड, नए ने पद संभाला

EC के निर्देश पर तेलंगाना के DGP सस्पेंड, नए ने पद संभाला। चुनाव आयोग ने आचार संहिता उल्लंघन के मामले में लिया एक्शन। डीजीपी को सस्पेंड करने का पहला मामला।

तेलंगाना में डीजीपी ही सस्पेंड कर दिए गए। चुनाव आयोग के निर्देश पर तेलंगाना के डीजीपी को सस्पेंड कर दिया गया। उन पर चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप था। इसके बाद नए डीजीपी ने सोमवार को कार्यभार भी संभाल लिया। अभी नई सरकार ने शपथ ग्रहण भी नहीं किया है।

चुनाव आयोग के निर्देश पर तेलंगाना के डीजीपी अंजनी कुमार को कल सस्पेंड कर दिया गया। उन्होंने चुनाव परिणाम के दिन ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ए रेवंथ रेड्डी से मुलाकात करके उन्हें जीत की बधाई दी थी। उनके साथ एडीजीपी संजय कुमार जैन भी थे। डीजीपी ने रेवंथ रेड्डी के गुलदस्ता भी भेंड किया था। चुनाव आयोग ने मतों की गिनती के दिन ही इस प्रकार कांग्रेस अध्यक्ष से मिलने के बाद उन्हें सस्पेंड कर दिया।

डीजीपी के सस्पेंशन के दूसरे दिन सोमवार को 1990 बैच के IPS अधिकारी रवि गुप्ता ने नए डीजीपी का पदभार संभाल लिया। वे राज्य के चौथे डीजीपी बनाए गए हैं। चुनाव आयोग की इस सख्त कार्रवाई को पर्यवेक्षक अप्रत्याशित कदम बता रहे हैं। चुनाव आयोग द्वारा सीधे डीजीपी को सस्पेंड किए जाने का शायद यह देश में पहला मौका है।

अब बड़ा सवाल यह है कि क्या सस्पेंड किए गए डीजीपी के साथ ही कांग्रेस के संभावित मुख्यमंत्री रेवंथ रेड्डी पर भी कोई मुकदमा दायर होगा? ऐसा सवाल इसलिए उठ रहा है क्योंकि चुनाव आयोग ने इसे आचार संहिता का उल्लंघन माना है। अभी तक नई सरकार ने शपथ ग्रहण नहीं की है। इसलिए यह भी सवाल उठ रहा है कि शपथ लेने के बाद क्या नए मुख्यमंत्री रेवंथ रेड्डी फिर से नया डीजीपी नियुक्त करेंगे।

इतना तो तय है कि नई सरकार अभी बनी भी नहीं है, लेकिन उसे एक अजीब स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। सवाल यह भी है कि क्या आनेवाले दिनों में यह कोई राजनीतिक मुद्दा बन जाएगा?

बिहार बोर्ड मैट्रिक-इंटर परीक्षा की तारीखें घोषित, तेज करें तैयारी