एक हजार गाड़ियों के काफिले के साथ हाजीपुर पहुंचेंगे Chirag

एक हजार गाड़ियों के काफिले के साथ हाजीपुर पहुंचेंगे Chirag

पार्टी में टूट के बाद पहली बार Chirag पांच को बिहार आएंगे। एक हजार गाड़ियों के काफिले के साथ हाजीपुर जाएंगे। हाजीपुर में शक्ति प्रदर्शन की तैयारी में लोजपा।

लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान पांच जुलाई को बिहार आएंगे। पटना एयरपोर्ट पर 11 बजे पहुंचेंगे। वहां से एक हजार गाड़ियों के साथ हाजीपुर के लिए रवाना होंगे। पटना हाईकोर्ट के निकट आंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगे। पार्टी प्रवक्ता अमर आजाद ने बताया कि हाजीपुर में बड़ी सभा होगी। यहीं से चिराग पासवान अपने आशीर्वाद यात्रा की शुरुआत करेंगे।

लोजपा प्रमुख चिराग पासवान की हाजीपुर सभा के लिए पूरे राज्य में तैयारी चल रही है। पटना में कल प्रदेश अध्यक्ष राजू तिवारी @rajutiwari1997 की अध्यक्षता में स्व. रामविलास पासवान जी की प्रथम जयंती के अवसर पर हाजीपुर से शुरू होने जा रही आशीर्वाद यात्रा की तैयारियों को लेकर अंतिम चरण की समीक्षा बैठक की। हाजीपुर में संजय पासवान, विनीता सिंह तैयारियों में जुटे हैं।

जिला मुख्यालयों से लेकर प्रखंड स्तर पर बैठकें हो रही हैं। अरवल के जिलाध्यक्ष सत्येंद्र रंजन ने हाजीपुर में स्व रामविलास पासवान की जयंती और आशीर्वाद यात्रा की सफलता के लिए कई गांवों का दौरा किया।

जमुई लोजपा के जिलाध्यक्ष जीवन सिंह की अध्यक्षता में द्वारका विवाह भवन में आशीर्वाद यात्रा की तैयारियों को लेकर बैठक आयोजित हुई। मधुबनी से भी सैकड़ों कार्यकर्ता हाजीपुर आएंगे। जिला अध्यक्ष बचनू मंडल तैयारी में जुटे हैं। मुंगेर, भागलपुर, बेगूसराय सहित प्रायः सभी जिलों में पांच जुलाई के कार्यक्रम में शामिल होने की तैयारी की जा रही है। जिन स्थानों से लोग हाजीपुर नहीं आ पाएंगे, वे अपने यहां ही रामविलास पासवान की जयंती मनाएंगे। शेखपुरा के जिलाध्यक्ष इमाम गजाली की अध्यक्षता में बैठक हुई, जिसमें हाजीपुर के कार्यक्रम को सफल बनाने पर विचार हुआ।

Mob Lynching स्थल से लौटे शकील, कहा-भाजपा ने उकसाया

लोजपा की कोशिश है कि पांच जुलाई को अपनी शक्ति दिखाई जाए, ताकि विरोधी गुट को अप्रसांगिक साबित किया जा सके। उसी दिन साबित हो जाए कि सांसद भले ही चले गए, लेकिन पार्टी और जनाधार चिराग पासवान के साथ है। राजनीतिक प्रेक्षकों की नजर पांच जुलाई पर है कि क्या उस दिन चिराग पासवान प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा से अलग रास्ते का एलान करते हैं या उन्हें अब भी उनसे कोई उम्मीद है।

लोजपा नेता महेश्वर सिंह जदयू में नहीं गए, क्यों थामा राजद का हाथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*