राजद को सिर्फ बोनलेस यादव और मुस्लिम नेता चाहिए: अली अशरफ फातमी

राजद को सिर्फ बोनलेस यादव और मुस्लिम नेता चाहिए: अली अशरफ फातमी

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के पूर्व नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री मोहम्मद अली अशरफ फातमी ने राजद पर बड़ा हमला बोला है. उन्होंने कहा की राजद को रीढ़ वाले नेता नहीं चाहिए उन्हें सिर्फ बोनलेस नेता चाहिए।

अली अशरफ फातमी (Md. Ali Ashraf Fatmi) ने जहाँ राजद की आलोचना की वही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तारीफ भी की. उन्होंने कहा कि नीतीश के कार्यकाल में मुस्लिम समाज में शिक्षा के क्षेत्र में तरक्की हुई है. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का धन्यवाद करते हुए कहा कि दरभंगा में AIIMS (All India Institute of Medical Sciences) और एयरपोर्ट बनाकर दरभंगा की प्रगति के लिए काम किया है.

नौकरशाही डॉट कॉम से खास बातचीत में अली अशरफ फातमी ने राष्ट्रीय जनता दल (RJD) को निशाना बनाते हुए कहा कि “एक दिन लालू यादव का कोई नाम लेने वाला नहीं बचेगा”. उन्होंने कहा कि राजद को बोलने वाले नेता नहीं चाहिए। उन्हें सिर्फ ऐसे दलित,यादव और मुस्लिम नेता चाहिए जो बोनलेस हों. जो बोले नहीं बल्कि सिर्फ पार्टी का हुक्म माने। उन्होंने नीतीश कुमार, रामविलास पासवान, पप्पू यादव, अनवारुल हक़ और खुद अपना उदाहरण देते हुए कहा कि जो नेता बोलते है उन्हें बर्दाश्त नहीं करती है.

नीतीश के ‘ड्रीम प्रोजेक्ट’ पटना मेट्रो पर काम शुरू

हालांकि जब उनसे पूछा गया कि क्या वह बिहार चुनाव लड़ सकते है ? तब उन्होंने कहा कि मैं लोक सभा चुनाव लड़ता हूँ. लेकिन मेरे बेटे की दरभंगा के कोटि (Keoti) विधान सभा सीट से जदयू के टिकट पर चुनाव लड़ने की सम्भावना है.

अली अशरफ फातमी ने क्यों छोड़ी राजद ?

बता दें कि अली अशरफ फातमी दरभंगा लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र से चार बार सांसद रह चुके है. उन्होंने अप्रैल 2019 में पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. उन्होंने तेजस्वी यादव पर आरोप लगाते हुए कहा था कि तेजस्वी ने उनके साथ अत्यंत अशोभनीय व्यव्हार किया था. बताया जाता है कि फातमी मधुबनी लोक सभा सीट से चुनाव लड़ना चाह रहे थे. इसके बाद राजद के पूर्व वरिष्ठ नेता अशरफ अली फातमी ने जुलाई 2019 में जदयू ज्वाइन कर लिया था.

शाहीन बाग़ की ‘बिलकिस दादी’ TIME मैगज़ीन की विश्व की 100 हस्तियों में

फातमी के बेटे भी छोड़ चुके है RJD

हाल ही में अली अशरफ फातमी के बेटे फ़राज़ फातमी ने भी चार और विधायकों के साथ राजद छोड़कर जदयू में शामिल हो गए थे. फ़राज़ फातमी दरभंगा विधान सभा क्षेत्र से राजद के विधायक थे. पार्टी छोड़ने के बाद उन्होंने कहा था कि मेरे पिता ने 30 साल तक पार्टी (RJD) की खिदमत की लेकिन पैसे के कारण टिकट किसी और उम्मीदवार को दे दिया गया। उन्होंने यहां तक आरोप लगाया कि राष्ट्रीय जनता दल मुस्लिम नेताओं को एक षड़यंत्र के तहत शोषण कर रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*