एडवांटेज की ‘शायरी व गजल की शाम’ का आयोजन 24 नवम्बर को प्रेमचंद रंगशाला में

 एडवांटेज की ‘शायरी व गजल की शाम’ का आयोजन 24 नवम्बर को प्रेमचंद रंगशाला में

 

 

बॉलीवुड के मशहूर लेखक, गीतकार व शायर मनोज मुंतशिर व बॉलीवुड के सूफी गाने तथा गजल गायक मो. वकील शिरकत करेंगे.

एडवांटेज की ‘शायरी व गजल की शाम’ का आयोजन 24 नवम्बर को प्रेमचंद रंगशाला में

 

 

 

प्रेमचंद रंगशाला में होगा आयोजन, प्रवेश निशुल्क पर आमंत्रण कार्ड पर ही मिलेगा प्रवेश.

 

एडवांटेज साहित्यिक उत्सव के तीसरी कड़ी के तहत आयोजन, अगली कड़ियों में नामवर शायर मनौव्वर राणा, शबीना अदीब. शकील आजमी, नुसरत मेहंदी तथा दुष्यंत भी आएंगे.

 

 

एडवांटेज साहित्यिक उत्सव के तीसरी कड़ी के तहत ‘शायरी व गजल की शाम’ का आयोजन पटना के सैदपुर,राजेंद्र नगर स्थित प्रेमचंद रंगशाला में आगामी 24 नवम्बर दिन रविवार शाम 4:30 बजे होगा.

इसमें बॉलीवुड के मशहूर लेखक, गीतकार व शायर मनोज मुंतशिर व बॉलीवुड के सूफी गाने तथा गजल गायक मो. वकील पटना के दर्शकों को अपनी गजल व शायरी से रूबरू करायेगे. कलाकार मुबई तथा जयपुर से आ रहे हैं. हाँल में प्रवेश निशुल्क पर आमंत्रण कार्ड पर ही मिलेगा प्रवेश.

 

उपेंद्र कुशवाहा मोमिन की गजल क्यों बन गये हैं जो ‘साफ छुपते भी नहीं, सामने आते भी नहीं’

एडवांटेज ग्रुप के एम.डी तथा एडवांटेज सपोर्ट के सचिव श्री खुर्शीद अहमद ने यह जानकारी देते हुए बताया कि पुराने पटना अजीमाबाद के बड़े जैसे शाद अजीमाबादी शायर कलीम अजीज साहब की रवायत को आगे बढ़ाना हीं एडवांटेज सपोर्ट के साहित्यक धारावाहिक का मुख्य मकसद है. उस ज़माने के अदब और तहजीब पर भी विस्तार से चर्चा की जाएगी. उन्होंने कहा कि साहित्यिक  धारावाहिक की अगली कड़ियों में लखनऊ के नामवर शायर मनौव्वर राणा, दिल्ली की शबीना अदीब, मुंबई से शकील आजमी, भोपाल से श्रीमती नुसरत मेहंदी तथा वाराणसी से दुष्यंत भी आएंगे.

उन्होंने कहा कि कार्यक्रम को सफल बनने के लिए एक कोरे कमिटी बनाई गई है जिसमे फैजान अहमद, ओबेदुर रहमान, अनवारुल होदा, फहीम अहमद, अनवर जमाल तथा एजाज अहमद शामिल हैं. कोर कमिटी के सदस्य कार्यक्रम की सफलता के लिए काम कर रहे हैं.

एडवांटेज सपोर्ट के अध्यक्ष तथा बिहार के प्रसिद्ध सर्जन डॉक्टर ए.ए. हई ने कहा कि साहित्य ऐसी चीज है जो एक-दुसरे को जोड़ने का काम करता है. इसी सोच के तहत हमलोगों ने साहित्यिक धारावाहिक उत्सव की शुरुवात की है. पुराने पटना अजीमाबाद के समृद्ध साहित्य पर मंथन से कई बात सामने निकलकर आती हैं, जो आज की तारीख के लोगों के लिए सीख बन सकती है. पुराना साहित्य हमे कुछ न कुछ सृजन करने को  प्रोत्साहित करता है.

मनोज मुंतशिर : एक नजर में

वे अब तक बॉलीवुड के कई गाने लिख चुके हैं जिनमे तेरी गलियां, तेरे संग यारा, कौन तुझे यूँ, मै फिर भी तूमको चाहूँगा आदि शामिल है. वे आशिकी 2 तथा बाहुबली के लिए भी गाने लिख चुके हैं. इसके अलावा अक्षय कुमार की केशरी , रुस्तम के लिए भी गाने लिख चुके हैं.

मोहम्मद वकील : एक नजर में

इनका ताल्लुक जयपुर घराने से है. 1997 के सारेगामा के विजेता के कई अलबम हिट हुए हैं जिसमे ‘कह –दो-कह-दो’ ने तहलका मचाया था. वे शाहरुख़ खान की फिल्म वीर-जारा के लिए भी गाने गा चुके  हैं.

अभी हाल ही में उनका एक एलबम खुदा करे काफी हिट हुआ है. वे लता मंगेशकर, जगजीत सिंह तथा पंकज उधास के साथ गा चुके हैं. वे बॉलीवुड के सूफी सिंगर के नाम से मशहूर हैं.

 

साहित्य सम्मेलन में पावस काव्योत्सव: गीतों व गजलों से झूम उठे श्रोता

 

एडवांटेज साहित्यिक की पहली कड़ी का आयोजन इसी साल जून में की गई जहाँ अमेरिका में रहने वाले शायर फरहत शहजाद ने शिरकत की थी. उन्ही के नाम पर ‘एक शाम फरहत सहजाद के नाम ‘ पर पहली कड़ी हुई थी. इसका आयोजन खुदा बख्स लाइब्रेरी के पास उर्दू भवन में किया गया था , जिसकी शानदार कामयाबी से साहित्य प्रेमी दूसरी कड़ी जो बिहार म्यूजियम में अगस्त में ‘एक शाम ए.एम.तुराज के साथ’ आयोजित किया गया था, उसमे खींचे चले आयें.

इन दो आयोजनों की सफलता ने एडवांटेज सपोर्ट को तीसरी कड़ी करने पर मजबूर कर दिया. ए.एम.तुराज भी बॉलीवुड के मशहूर शायर, लेखक और गीतकार है.

एडवांटेज सपोर्ट

यह एडवांटेज ग्रुप की कार्पोरेट सोशल रिस्पोंसिब्लिटी (CSR) के तहत आयोजन किए जाने वाले कार्यक्रमों का संचालन करती है. एडवांटेज सपोर्ट जन कल्याण के लिए अब तक कई कार्यक्रम आयोजित कर चुकी है. गरीब तथा मेधावी छात्रों के बिच कपडे व जुते भी बटवाने का काम करती है. इस साल के लोकसभा चुनाव में ‘आओ वोट करें’ नाम से एक कार्यक्रम भी चलाया था. आज से 10 साल पहले हीं पटना में मेट्रो कि शुरुवात की मांग की थी जो आज आकार लेता नजर आ रहा है. इसके अलावा और भी कई  महत्वपूर्ण कार्यक्रम जैसे अपना पटना सुन्दर पटना, पोलीथिन बैग पर रोक, माई ड्रीम फॉर मई स्टेट, बिहार 3.0, उम्मीद की उड़ान आदि.

सभी आयोजन सफलता पूर्वक  सम्पन्न हुआ तथा इसकी सराहना सरकार और ए.पी.जे अब्दुल कलाम तथा लोगों ने भी की थी.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*