हड़ताल पर रहे कार्यपालक सहायक, सरकारी कार्य हुआ बाधित

हड़ताल पर रहे कार्यपालक सहायक, सरकारी कार्य हुआ बाधित

बिहार राज्य कार्यपालक सहायक सेवा संघ के आह्वान पर नालंदा के सभी कार्यालयों एवं विभागों तथा अंचल, सभी अनुमंडल कार्यालय में सांकेतिक हड़ताल पर रहे।

संजय कुमार

कार्यपालक सहायकों के हड़ताल के कारण कार्यालयों के कार्यों पर प्रभाव पड़ा है। जिससे आरटीपीएस में प्राप्त एवं वितरण जमा होने वाली प्रमाण पत्र जाति ,आय, निवास ,ईडब्ल्यूएस, ओबीसी, क्रीमी लेयर, अन्य प्रमाण पत्र के अलावा स्वच्छता, पेंशन योजना, पंचायती राज ,पीएमएवाई ,बिजली विभाग, कृषि विभाग, सहकारिता विभाग, आपूर्ति ,लोक शिकायत निवारण कार्यालय, सामाजिक सुरक्षा कोषांग, मनरेगा एवं अन्य कार्यालय प्रभावित रहा।

खेत बचाओ के बाद अब बैंक बचाओ, देश बचाओ

संघ के प्रदेश महासचिव सुधीर कुमार सिंह ने बताया कि 8 और 9 मार्च के सांकेतिक हड़ताल पूरी तरह सफल रहा है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार हमारी मांगे नहीं मानेगी, तो संघ द्वारा अनिश्चितकालीन हड़ताल का निर्णय लिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि कार्यपालक सहायकों की नियुक्ति सरकार के आदेशानुसार जिला स्तर पर जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में बिहार प्रशासनिक सुधार मिशन के दिशा निर्देश में लिखित परीक्षा टंकण एवं साक्षात्कार के उपरांत किया गया था। वर्तमान में सरकार द्वारा साजिश के तहत किसी प्राइवेट संस्थान को ठेका पर देकर कार्य कराने की मंशा रखती है।जबकि पूर्व में कार्यपालक सहायक तथा संविदा कर्मियों को नियुक्ति करने के लिए उच्च स्तरीय स्तरीय समिति का गठन किया गया था।

बॉलीवुड फेल, बंगाल में रिकॉर्ड तोड़ रहा खेला होबे-खेला होबे

समिति कr अनुशंसा होने के बावजूद उसे रद्द किया जा रहा है, जो अत्यंत ही खेद का विषय है। फल स्वरुप सरकार के गलत नीतियों के कारण विरोध प्रदर्शन एवं संघर्ष लगातार जारी हैं। उन्होंने बताया कि समर्थन में जिला अध्यक्ष अमित कुमार, जिला उपाध्यक्ष पिंटू कुमार ,महामंत्री रवि शंकर यादव ,मुकेश कुमार, कमलेश कुमार, रंजन कुमार, विजय कुमार, देवेश कुमार ,सत्येंद्र कुमार चौधरी ,संजीत कुमार, पंकज कुमार, पिंकी कुमारी, सोनी कुमारी, कुमारी ममता, उषा किरण कुमारी, श्रुति कुमारी ,कंचन कुमारी, ममपी कुमारी एवं नालंदा जिला कार्यपालक सहायक संघ के अपनी मांगों के समर्थन में सभी कार्यपालक सहायकों द्वारा दो दिवसीय सांकेतिक हड़ताल में शामिल हुए एवं आगे भी संघर्ष में शामिल रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*