हेल्थ इंस्टिच्युट में मनाया गया विश्व विकलांग दिवस समारोह

हेल्थ इंस्टिच्युट में मनाया गया विश्व विकलांग दिवस समारोह

हेल्थ इंस्टिच्युट में मनाया गया विश्वविकलांग दिवस समारोह,

दिव्यांगों के बीच वितरित की गई चलकुर्सियाँश्रवणयंत्र और बैशाखी 

पटना । प्रत्येक व्यक्ति में कोई न कोई विशेष गुण होता है। दिव्यांग जनों में यह और भी विकसित रूप में होता है। इनमें आत्मबल भर करइनके विशेष गुणों को और विकसित कर हम उनका हीं नहीं समाज का भी भला कर सकते हैं। राष्ट्र के विकास में दिव्यांग जनों की भी भागीदारी हो सकती हैयदि हम मिलकर अपना दायित्व निभाएँ।

यह बातें मंगलवार कोइंडियन इंस्टिच्युट औफ़ हेल्थ एजुकेशन ऐंड रिसर्चबेउर मेंविश्व विकलांग दिवस परभारत सरकार के समेकिट पुनर्वास केंद्रपटना के सौजन्य से आयोजित दिव्यांग पुनर्वास शिविर का उद्घाटन करते हुएबिहार के सहकारिता मंत्री राणा रणधीर सिंह ने कही। श्री सिंह नेसमारोह में उपस्थित बिहार विकलांग जनाधिकार मंच के अध्यक्ष डा सुनील कुमार सिंह के आग्रह परअपने सहकारिता विभाग में विकलांग जनों के लिए सहकारितासमूह बनाने का आश्वासन भी दिया।

उन्होंने कहा किहम सबको अपने समाज और राष्ट्र के समुचित विकास के लिएअपने से कमज़ोर व्यक्तियों की सहायता और अपने पर्यावरण की रक्षा भी करनी चाहिए। 

समारोह के मुख्य अतिथि और मगध विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति मेजर बलबीर सिंह भसीन‘ ने कहा कि,  विकलांगजनों के प्रति जो व्यक्ति या समाज हिक़ारत की नज़र रखता हैवह ख़ुद मानसिक विकलांग है। 

समारोह की अध्यक्षता करते हुएसंस्थान के निदेशकप्रमुख डा अनिल सुलभ ने कहा किविकलांग जनों के प्रति शेष समाज के ध्यानाकर्षण के लिएपूरी दुनिया में प्रत्येक ३ दिसम्बर को विश्व विकलांग दिवस मनाया जाता है। इसका बहुत हीं गहरा प्रभाव पड़ा है। विकलांग जनों में आत्मबल का विकास हुआ है। अब ग़रीब विकलांग भी भीख माँगने के स्थान पर स्वयं को आत्मनिर्भर बना रहे हैं। उन्होंने नौजवानों से आग्रह किया कि वे दया की भावना से नहीं बल्कि प्रेम और सहानुभूति की भावना से विकलांग जनों को अपना सहयोग और समर्थन दें। उन्होंने बिहार सरकार में एक अलग से विकलांग पुनर्वास विभाग सृजित करने की माँग भी दुहराई।

बिहार नेत्रहीन परिषद के महासचिव डा नवल किशोर शर्माबिहार विकलांग अधिकार मंच के अध्यक्ष डा सुनील कुमार सिंहसी आर सी के शिविर प्रभारी विनोद कुमारस्पीच पैथोलौजिस्ट डा विकास कुमार सिंहआभास कुमारप्रोस्थेटिक इंजीनियर प्रवीण कुमार तथा विशेष शिक्षा विभाग के अध्यक्ष कपिल मुनि दूबे ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

शिविर में १७ दिव्यांगों को चलकुर्सीश्रवणयंत्र और बैशाखी निःशुल्क प्रदान की गई । इनके अतिरिक्त १५२ दिव्यांगो को सहाय्यसामग्रियों के लिए चिन्हित किया गया जिन्हें एक अन्य वितरण शिविर में तिपहिया साइकिलचलकुर्सीकृत्रिमअंगउपांगश्रवणयंत्रबैशाखी आदि निःशुल्क दी जाएँगी। सी आर सी के नैदानिक मनोवैज्ञानिक प्रियंका कुमारीएन एन सेट्टीसुमन कुमारी तथा अविनाश कुमार ने भी शिविर में अपनी सेवाएँ प्रदान की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*