एडिटोरियल कमेंट

लालू पर अदालती फैसला की गलत खबर चला कर टीवी चैनलों की भद्द कैसे और क्यों पिट गयी?

रांची की सीबीआई अदालत ने लालू प्रसाद को दोषी करार दे दिया लेकिन उसी वक्त कुछ चैनलों ने लालू को निर्दोष बरी करने की खबर चला दी. ऐसा क्यों और कैसे हुआ ? नीतीश चंद्र, टीवी पत्रकार आज सबक लेने का दिन है रिपोर्टर्स और संपादकों के लिए। रांची में चारा घोटाला मामले में लालू यादव के बरी हो जाने ...

Read More »

विश्लेषण: क्या गुजरात का एक्जिट पोल तुक्केबाज दिमाग वालों के मन की भड़ास थी?

गुजरात चुनाव परिणा घोषित होने के पहले में 9 एक्जिट पोल सामने आये थे .इनके अनुमानों को देखने से पता चलता है 8  सर्वे तुक्केबाजी साबित हुए हैं. तो क्या जिस 9 वें चैनल की बात सही साबित हुई उसकी तुक्केबाजी बाइडिफाल्ट सही हो गयी? पढ़िये हमारे सम्पादक इर्शादुल हक का विश्लेषण अगर 9 एजेंसियों और न्यूज चैनलों  में से एक ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट: मोदी ने सत्ता जीती, राहुल जीते जोश

मोदी को गुजरात में हर कीमित पर जीत चाहिए  थी.मिल गयी. राहुल को गुजरात ने नये जोश से भर दिया है. कांग्रेस ने, हिंदुत्व की प्रोयगशाला में 16 सीटें बढ़ाई है जबकि भाजपा ने इतनी ही सीटें गंवाई है. भाजपा ने सत्ता जीती तो कांग्रेस ने मनोबल. इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम भापजा ने पिछले चुनाव में 116 सीटें ...

Read More »

विश्लेषण: राहुल गांधी ने गुजरात व हिमाचल चुनाव के दौरान ही पार्टी प्रेसिडेंट बनने का जोखिम क्यों उठाया?

जरा सोचिये. राहुल गांधी ने गुजरात चुनाव के दौरान पार्टी प्रेसिडेंट बनने का फैसला क्यों किया? प्रेसिडेंट चुन लिये गये तो गुजरात चुनाव परिणाम आने से पहले ही प्रेसिडेंट की कुर्सी संभाल लेने का जोखिम क्यों उठाया? खास कर तब जब कांग्राेस लगातार चुनाव हारती रही हो. इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम   राहुल के कांग्रेस प्रेसिडेंट बनाये जाने के ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट: गुजरात में अपने ही बोये कांटों की चुभन से बेचैन भाजपा

14 दिसम्बर को यह तय हो जाना है कि गुजरात में 22 वर्षों का भाजपा राज चलता रहेगा या उसके एक क्षत्र राज पर विराम लगेगा. नतीजा जो भी हो लेकिन यह तय है कि गत 22 वर्षों में भाजपा को इस राज्य में  सबसे कठिनतम चुनाव से साबका पड़ा है     इर्शादुल हक, एडिटर,नौकरशाही डॉट कॉम   22 ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट: गुजरात में नर्वस हो चुके मोदी दोहरा रहे हैं बिहार में की गयी गलतियां

गुजरात चुनाव के पहले चरण के बाद मोदी वैसे बयानों पर उतर आये हैं जैसे वह बिहार विधानसभा चुनावों में देते फिरते थे. क्या मोदी गुजरात में ठीक वैसे ही नर्वस हो गये हैं जैसे बिहार में हो गये थे? इर्शादुल हक,  एडिटर, नौकरशाही डॉट कॉम   कभी गुजरात मॉडल के विकास को भारत के लिए अनुकरणीय कहने वाले मोदी ...

Read More »

नौकरशाही डॉट कॉम का अध्ययन: ट्विटर पर राहलु गांधी के सामने हांफ रहें हैं नरेंद्र मोदी

गुजरात चुनावों के दौरान नौकरशाही डॉट कॉम ने  बीते एक हफ्ते में राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी के चुनावी ट्विट्स का अध्ययन किया जिससे पता चलता है कि राहुल के ट्विट्स की लोकप्रियता के सामने मोदी के पसीने छूट गये हैं. इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम यह स्थिति तब है जब मिस्टर मोदी के ट्विटर अकाउंट के फॉलोअर्स की ...

Read More »

बाबरी विध्वंस: आडवाणी की अगलगुआ टोली और लालू का सामाजिक सौहार्द

जिस बाबरी मस्जिद को ढहाने जा रहे आडवाणी को लालू प्रसाद ने अपने राजनीतिक मेंटर कर्पूरी ठाकुर के गृह ज़िले समस्तीपुर में 29 अक्टूबर 1990 को गिरफ़्तार किया था, उस मस्जिद को भाजपा के तीन धरोहर, अटल-आडवाणी-मुरली मनोहर के साथ कल्याण सिंह, अशोक सिंघल, उमा भारती, आदि की अगलगुआ टोली ने 6 दिसंबर 1992 को गिरा दिया। जयंत जिज्ञासु   ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट:जब उपमुख्यमंत्री, विधायक की धमकी से डरें तो शासन के ऐसे इकबाल पर लानत है

जब राज्य का उपमुख्यमंत्री एक विधायक के ‘घर में घुसके मारने’ की धमकी से डर जाये और बेटे की शादी का स्थान बदल दे ऐसे शासन और शासन के ऐसे इकबाल पर लानत है. और अगर डर के पीछे कोई राजनीति है तो ऐसी राजनीति भी शर्मनाक है.   इर्शादुल हक, एडिटर, नौकरशाही डॉट कॉम उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने, ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट:राष्ट्रपति कोविंद के साहसिक बयान ने सत्ता, संघ व संघी मीडिया में खलबली मचा दी

सत्ता और सरकार का मुखौटा बने रहने की बेबस परम्परा को राष्ट्रपति कोविंद ने जिस साहस से चुनौती दे डाली है उसकी उम्मीद आरएसएस, सत्ताशीर्ष पर बैठे महारथियों और सामंतवाद के सारथी मीडिया को भी नहीं थी. इर्शादुल हक, एडिटर, नौकरशाही डॉट कॉम  कुछ महीने पहले जब बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति चुना गया तो कुछ लोगों ने ...

Read More »