एडिटोरियल कमेंट

बिहार उपचुनाव:इन आंकड़ों को देखिए और सतर्क हो जाइए, यह नया नेतृत्व स्थापित होने का दौर है

2014 में नरेंद्र मोदी नामक सुनामी ने अररिया के 9 लाख 76 हजार वोटरों को घर से खीच कर पोलिंग बूथों तक पहुंचाया था. तेजस्वी यादव के नेतृत्व ने 2018 में 10 लाख 37 हजार मतदाताओं से वोट दिलवा दिया. यानी 60 हजार अधिक मतदाता तेजस्वी के आह्वान पर निकल पड़े.   बिहार उपचुनाव के तेजस्वी के नेतृत्व की स्थापना ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट:बताइए नित्यानंद साबह क्या जनता ने अररिया को ISI का गढ़ बनाने के लिए वोट किया?

लोकतंत्र में कोई चुनावी हार- जीत अंतिम नहीं होती. हर जीत के बाद उम्मीदों की एक नयी इमारत खड़ी होती है. यह इमारत विकास की, अमन की और भाईचारे की कामना की होती है.पर बिहार इकाई के अध्यक्ष नित्यानंद राय यह समझ नहीं सके. उनकी नफरत हार गयी और राजद के सरफराज जीत गये   जनता शांति और इंसाफ के ...

Read More »

अशफाक करीम: एक योद्धा जो दशक तक लालू सरकार से लड़ा और जिन्हें लालू ने ही देश के शिखर सदन तक पहुंचाया

अहमद अशफाक करीम नाम है इनका. एक बागी. जो लड़-भिड़ जाने का जुनून रखता है. लड़ जाता है सिस्टम से. लड़ाई मोल ले लेता है सियासत के सिंहासन पर बैठे लोगों से. और खुद के लिए मुसीबतों का पहाड़ उठा लेता है, लेकिन लडना नहीं छोड़ता. अपनी जिद्द  से अशफाक निजी क्षेत्र में पूर्वी भारत का विशालतम अलकरीम युनिवर्सिटी बना ...

Read More »

नित्यानंद राय साहब! आप एक ऐसे कायर व बुजदिल हैं जिससे निर्लज्जता भी लजा जाये, सुबूत खुद गिन लीजिए

आप हैं जनाब नित्यानंद राय साहब. भाजपा के बिहार प्रदेश के अध्यक्ष.उजियारपुर के सांसद. इनकी प्रोफाइल की आगे की कड़ियां हम बाद में डिसकस करेंगे पर पहले उनके उस कायरना और बुजदिली के चित्थड़े उधेड़ना जरूरी है जिसने बिहार की जनता को शर्मशार कर दिया है. नित्यानंद राय ने एक चुनावी रैली में कहा है कि अगर अररिया (लोकसभा उपचुनाव) ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट: नीतीश सरकार के सबसे बड़े व प्रिय नौकरशाह पर अदालती शिकंजा, तूफान की आहट तो नहीं?

नीतीश सरकार के सबसे बड़े और सबसे प्रिय अधिकारी अंजनी कुमार सिंह चारा घोटाले में फंसने का कुछ तो मतलब है. अंजनी मुख्यसचिव हैं. उन्हें पिछले दिनों राज्य सरकार ने रिटायरमेंट के बाद तीन महीने का एक्सटेंशन दिया था. अंजनी कुमार सिंह को सीबीआई की स्पेशल अदलात के उन्हीं जज शिवपाल सिंह ने चारा घोटाला मामले में  आरोपित घोषित किया ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट:13 वर्षों में पहली बार अल्पसंख्यकों के बजट में 26 पर्सेंट की कमी, नीतीशजी इतने बदल गये आप?

बिहार बजट पेश करते समय वित्त मंत्री सुशील मोदी की छपी तस्वीर में जो उनकी मुस्कान है, उसके पीछे नीतीश सरकार की, अल्पसंख्यकों के साथ ऐसी नाइंसाफी छिपी है जिसकी मिसाल खुद  नीतीश के 13 साल के शासन में  पहले कभी नहीं देखी गयी. अचानक इतने क्यों बदल गये हैं नीतीश?   वित्त मंत्री ने 27 फरवरी को बजट पेश ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट: कांग्रेस में हाशिये पर धकेल दिये गये अशोक चौधरी खुद हैं अपनी इस हालत के जिम्मेदार

अशोक चौधरी. कांग्रेस का एक उभरता चेहरा, जिनके पास राजनीति के लिए पूरा आकाश था अब कहीं अंधकार में गुम न होने के लिए संघर्ष कर रहे हैं. हमारे सम्पादक इर्शादुल हक चौधरी की उपलब्धियों और ब्लंडर की तहें खंगाल रहे हैं.  बिहार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक चौधरी कल रात पटना गोल्फ क्लब में आयोजित विधायक दल (सीएलपी) से ...

Read More »

सुनिये जनरल रावत.. ‘अजमल ने वोट से 18 विधायकों की ताकत हासिल की है फोजी टैंक से नहीं’

 देश की सेना का कमांडर एक राजनेता के दमदार उभार से डर गया  है.बदरुद्दीन अजमल की राजनीति रसूख ने असम में कांग्रेस की लोटिया डुबो दी तो अब भाजपा की नींद हराम है. 2005 से 2018 तक अजमल ने जितनी लोकतांत्रिक शक्ति बटोरी है वह किसी फौजी टैंक के बूते संभव नहीं है. समझे रावत साहब. इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही ...

Read More »

सोशल मीडिया पर धूम मचा रहा है तबस्सुम फातिमा का कहानी संग्रह ‘जुर्म व अन्य कहानियां’

महिला शोषण के खिलाफ मुखर आवाज की प्रतिनिधि के रूप में उभरी उपन्यासकार व लेखिका तबस्सुम फातिमा के नये कहानी संग्रह  ‘जुर्म व अन्य कहानियां’ ने सोशल मीडिया पर धूम मचा दी है. इस पुस्तक की डिमांड आनलाइन शापिंग स्टोर अमेजन डॉट इन पर लगाता बढ़ती जा रही है.   नौकरशाही डेस्क ई-कल्पना किताब प्रकाशन  द्वारा इस कहानी संग्रह को ...

Read More »

‘माई’ का आंचल फैलाना चाहते हैं तेजस्‍वी, पर एजेंडा नहीं

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव अपने जनाधार को मजबूत करने के लिए यात्रा पर निकले हैं। यात्रा का नाम रखा है संविधान बचाओ न्‍याय यात्रा। अभी सीमांचल की यात्रा पर हैं। भौगोलिक और सामाजिक समीकरण की लिहाज से महत्‍वपूर्ण है। इस इलाके में 2014 में नरेंद्र मोदी की लहर में भी भाजपा का खाता नहीं खुल पाया था। वीरेंद्र ...

Read More »