एडिटोरियल कमेंट

एडिटोरियल कमेंट: बिहार दिवस में तेजस्वी का न शामिल होना ! कुछ तो है जिसकी परदादारी है

पिछले कुछ महीनों में यह दूसरा सार्वजनिक आयोजन है जिसमें राजद व जद यू के बीच  मनमुटाव दिखा है.पहला प्रकाश पर्व और अब बिहार दिवस समारोह. इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम सवाल उठाये जा रहे हैं कि  इस आयोजन से राजद की तर फर से उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव नदारद रहे. सीएम नीतीश कुमार और गठबंधन की दूसरी सहयोगी कांग्रेस ...

Read More »

एडिटोरियल: नालंदा युनिवर्सिटी के सारे पुरोधाओं को ध्वस्त कर संघ लॉबी ने ऐसे जमाया कब्जा

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विख्यात नालंद युनिवर्सिटी पर भगवा ध्वज लहराने के लिए एनडीए सरकार का दो वर्षीय अभियान पूरा हो चुका है. यह अभियान आरएसएस प्रचारक डा. विजय भटकर को युनिवर्सिटी का चांसलर नियुक्त करने के साथ पूरा हुआ. इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने युनिवर्सिटी के विजिटर की हैसियत से डा. भट्कर की नियुक्ति 25 ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट: खेल नहीं है आईएएस अफसर को सस्पेंड करके भ्रष्टाचारी साबित कर देना

यह कोई साधाराण खबर नहीं है. भ्रष्टाचार के आरोप में किसी आईएएस अफसर को सस्पेंंड किया जाना यह साबित करता है कि हमारा सिस्टम कितना सड़ियल है.वह भी बिहार के   अनुुुुसूचित जाति के छात्रों की स्कॉलरशिप के घोटाले के मामले में. इर्शादुल हक, एडिटर, नौकरशाही डॉट कॉम कहने की बात नहीं कि  अनुसूचित जाति के छात्र समाज के सबसे ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट: नोटबंदी के सियासी नुकसान की भरपाई पटेल आंदोलन से करेंगे नीतीश

 यह तय हो चुका है कि नीतीश कुमार गुजरात के पटेल आंदोलन में शिरकत करेंगे. वह वहां मोदी हटाओ, देश बचाओ का बिगुल फूकेंगे. इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम हार्दिक पटेल द्वारा आयोजित 28 जनवरी को किसान सभा में शामिल हो कर नीतीश, मोदी विरोध की अपनी छवि को मजबूत करने की कोशिश करेंगे. विरोध की उस छवि को ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट: लालू से मिले मांझी.. तो किस्सा ए मुलाकात क्या है?

बीते दिन राजद अध्यक्ष से जीतन राम मांझी की मुलाकात यकीनन सिर्फ कुशलक्षेम पूछने तक सीमित नहीं थी. पर सवाल यह है कि मांझी ने लालू प्रसाद से मिल कर क्या बात की?   इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम कभी-कभी सार्वजनिक जीवन में कुछ फैसलों की आंच लम्बे समय तक बनी रहती है. मांझी उसी आंच की तपिश को ...

Read More »

तो इस तरह हो रही है शराबबंदी पर तीन ध्रुवीय सियासत

बिहार में शराबबंदी पर तीन ध्रुवी सियासत हो रही है. एक सियासत पक्ष-विपक्ष कर रहा है, तो दूसरी सत्ता पक्ष के अंदर राजद- जदयू कर रहे हैं जबकि तीसरी सियासत मीडिया का एक हिस्सा कर रहा है. इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम शराब बंदी पर समाज के लाभ-हानि का मुद्दा अपनी जगह है. बड़े पैमाने पर लोग इस्का समर्थन कर रहे ...

Read More »

यह तो सरासर बेशर्मी और बेअदबी है!

बिहार के शिक्षा विभाग की यह बेअदबी भी है और बशर्मी भी. उसने अपने एक अधिकारी को रिटायरमेंट के दिन सम्मानित करने के बजाये उनका पद घटा दिया. बिहार राज्य पुस्तकालय एवं सूचना प्राधिकार केन्द्र के निदेशक श्याम नारायण कुंवर 31 जनवरी को रिटायर कर गये. लेकिन शिक्षा विभाग ने उन्हें रिटायरमेंट के साथ डिमोट भी कर दिया. किसी अधिकारी ...

Read More »

दीवार पर लिखी इबारतें कुछ तो कहती हैं !

हाजीपुर के दिग्घी रेलवे क्रॉसिंग पर एक हॉर्डिंग में राबड़ी देवी दोनों हाथों से आंचल फैला कर जनता से मुखातिब हैं- कह रही हैं ‘फैसला आप करें’! बैकग्राउंड में लालू प्रसाद जेल की सलाखों से जनता की तरफ उम्मीद भरी नजरों से एक टक निहार रहे हैं. इर्शादुल हक, सम्पादक नौकरशाही डॉट इन दिग्घी क्रॉसिंग पर सोनपुर की दो महिलायें ...

Read More »

यौन उत्पीड़न: तेजपाल बनाम ‘साहब’ का ऐंगल

इस मामले में सबके दामन दागदार हैं. चाहे वह राजनीतिक पार्टियां हों, मीडिया हो, कार्पोरेट हो या बॉलिवुड. मतलब जहां सत्ता है वहां शोषण है. यह शोषण आर्थिक भी है और शारीरिक भी. अगर मामला महिलाओं का है तो यौन उत्पीड़न भी इसमें शामिल है. इर्शादुल हक, सम्पादक नौकरशाही डॉट इन पर तुरूण तेजपाल की घटना ने कुछ राजनीतिक दलों ...

Read More »

पटना ब्लास्ट: चिंढ़ारने वाला मीडिया आज चुप क्यों है?

पटना ब्लास्ट पर चिंढ़ारें मारने वाले चैनल व कलम तोड़ कर लिखने वाले अखबार आज चुप हैं. पुलिस संय्यमित हैं.उन्हें शायद सममझ आ गयी कि आतंकवादियों का कोई धर्म नहीं होता. इर्शादुल हक, सम्पादक नौकरशाही डॉट इन आप कह सकते हैं कि मैं मुगालते में हूं. और मीडिया की यह चुप्पी एक रणनीतिक चुप्पी है. क्योंकि 10 नवम्बर को लखीसराय ...

Read More »