एडिटोरियल कमेंट

एडिटोरियल कमेंट: #NRC के नाम पर भारत के टुक़े मत करो, 40 लाख आबादी के तो दुनिया के दर्जनों देश हैं

#NRC यानी असम में नागिरकता की ताजातरीन लिस्ट का गहन अध्ययन किया जाना जरूरी है. सन 71 में पूर्वी पाकिस्तान के विभाजन के दौरान असम से लाखों बांग्ला देश चले गये. उसी तरह लाखों लोग असम आ गये. मुस्लिम बहुल देश बांग्लादेश से, भारत आने वालों में ज्यादातर हिंदू थे. इसी तरह असम के सीमावर्ती इलाकों से बांग्लादेश जाने वाले ज्यादातर ...

Read More »

मुख्यमंत्री जी!बिहार की 42 बेटियों के कस्टेडियल रेप पर आप चुप हैं, क्या आपका जमीर आपको नहीं धिक्कारता?

आदरणीय मुख्यमंत्री, बिहार सरकार  क्या आप रातों को चैन से सो पाते हैं? क्या आपको इन 42 बेटियों की चिंता नहीं है, जिन्हें महीनों तक मुजफ्फरपुर बालिका गृह में दरिंदे रेप का शिकार बनाते रहे. ये बिहार की बेटियां हैं. कई लावारिस, कुछ समाज द्वारा पहले से प्रताड़ित. कुछ नाइंसाफी की शिकार तो कुछ मुक बधिर. पूरा देश यह खबर ...

Read More »

CBI ने शुरू की जांच: क्या सृजन घोटाले की तरह फाइलों में दब जायेगा बालिका गृह बलात्कार मामला?

मुजफ्फरपुर बालिका गृह में 42 बेघर बच्चियों के साथ हुए रेप मामले पर सीबीआई ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. ठीक एक साल पहले राज्य सरकार ने सृजन घोटाले की जांच भी सीबीआई को सौंपी थीं. यह मामला ठंडे बस्ते में है. तो  बालिक गृह रेप मामले का क्या हस्र होगा. इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम  ...

Read More »

41 बच्चियों का महीनों तक नियमित रेप: क्या इस तरह से नीतीश सरकार अपने माथे का कलंक धो पायेगी?

मुजफ्फरपु बालिका गृह में महीनों तक 40 बच्चियों के साथ नियमित रेप मामले पर जहां नीतीश सरकार बचाव की मुद्रा में है वहीं विपक्ष आक्रामक है. इस जघन्य अपराध पर बड़े पैमाने पर लीपापोती की कोशिश हुई थी. इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम छिटपुट खबरें मीडिया में आयी और नियमित खबरों की तरह आंखों से ओझल हो चुकी थी. ...

Read More »

बालिका गृह की 40 बच्चियों का रिपिटेडली रेप से क्या संँबंध है इस अखबार के मालिक का ?

पिछले हफ्ते पटना मेडिकल कॉलेज के सुप्रिंटेंडेंट ने जब  इस बात की पुष्टि कर दी कि मुजफ्फरपुर के बालिका गृह की 29 बच्चियों के साथ महिनों से रिपिटेडली रेप होता रहा. तो खलबली मच गयी. लेकिन सरकार कुछ बोलने से कतरा रही है. बताया जा रहा है कि यहां की कुल चालीस बच्चियों के साथ महीनों -महीनों से नियमित रूप ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट:बेबस नीतीश के जबड़े से पप्पू छीनते जा रहे हैं विशेष राज्य का आंदोलन

जिस विशेष राज्य के दर्जे के आंदोलन ने परवान चढ़ाया था, उसे  पप्पू यादव नीतीश की झोली से झपटते जा रहे हैं. नीतीश इस मामले पर बेबस हैं और लगता है कि उनके हाथ से यह मुद्दा छूटता जा रहा है.   नीतीश कुमार ने 2008-09 तक इस मुद्दे को चरम पर पहुंचा दिया था. इसी क्रम में उन्होंने एक ...

Read More »

तोज प्रताप जी! अब पॉपुलर पॉलिटिक्स के दायरे से निकलिये,’सीरियस सियासत’ आपके इंतजार में है.. आइए चले आइए

 राज्य के अस्पतालों पर नजर रखने वालों को पता है कि दस महीने स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए तेज प्रताप ने महकमे में गतिशीलता लाई थी. डॉक्टर-नर्स सतर्क रहने लगे थे कि कब मंत्री किस अस्पताल में आ धमकें. निजाम बदला तो तेज अब सिर्फ दो कारणों से चर्चा में रहते हैं- एक विवादों के लिए, दूसरा- पॉपुलर पॉलिटक्स के लिए. ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट: भाजपा के खिलाफ जदयू की हवाई चाबुकबाजी के मरम को समझिये

अमित शाह की बिहार यात्रा से 72 घंटे पहले जदयू  द्वारा  कार्यकारिणी की बैठक में भाजपा के खिलाफ हवा में चाबुक चमकाना और लगे हाथों प्यार भी छलकाने की अंतर्कथा  अब दिलचस्प मोड़ पर पहुंचती जा रही है.   इर्शादुल हक, एडिटर नौकरशाही डॉट कॉम लेकिन हवा में उसकी इस चाबुकबाजी में कितनी चोट है और भाजपा पर इसका क्या ...

Read More »

जिला जज की बेटी हजारों लड़कियों की तरह प्यार में पड़ी पर हाईकोर्ट ने इतनी अतिसक्रियता तो कभी नहीं दिखाई!

खगड़िया जिला जज की बेटी का प्यार में पड़ना तिल का ताड़ बन गया है. सैकड़ों लड़कियां रोज प्रेम में पड़ती हैं. जुदाई के दंश और प्रताड़ना  सहती हैं. इस पर किसी की भंवे नहीं तनती. उलटे लड़की का पिता, प्रेमी पर अपहरण का केस ठोक देता है. पुलिस, प्रेमी को किडनेपर मानते हुए अरेस्ट करती है. मामला अदालत पहुंचता ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट:प्यार, प्यार है जज की बेटी करे या जनता की: खगड़िया जिला जज की बेटी के प्रेम प्रसंग का मामला

प्रेम का यह अनोखा मामाला है. बिहार के खगड़िया जिला जज की बेटी कथित तौर पर अंडर हाउस अरेस्ट है. वजह यह है कि वह दिल्ली के 25 वर्षीय वकील से प्रेम में पड़ा गयी. इस मामले में पटना हाई कोर्ट सख्त है और उसने पुलिस को आदेश दिया है की जज की बेटी को हाईकोर्ट में पेश किया जाये. ...

Read More »