एडिटोरियल कमेंट

मंडल मसीहा वीपी सिंह: बुद्ध की परम्परा का पालन करने वाला ऐसा राजपूत जिसने जाति की सीमा खारिज कर दी

कांग्रेस जैसी विशाल पार्टी से अलग होने का जोखिम उठाने वाले अधिकतर नेता सियासत में गुम हो जाया करते हैं लेकिन वीपी सिंह ने कांग्रेसी सत्ता की चूलें हिला दी और सत्ता पर काबिज भी हुए.इसके पीछे सामाजिक न्याय का नजरिया व मंडल कमीशन की सिफारिशें लागू करने की उनकी वचनबद्धता थी. पढ़िये जयंती पर विशेष आलेख-   जयंत जिज्ञासु ...

Read More »

राहुल-तेजस्वी मुलाकात: शब्दों के चयन से ले कर ठोस मुद्दों से आक्रमण तक की बन रही है रणनीति

कर्नाटक में भाजपा बेआबरू हो चुकी है. मोदी सरकार चार साला जश्न में सहयोगियों को मनुहारी भोज परोस रही है. पर कुछ सहयोगी शामिल होने से इनकार कर रहे हैं. ठीक इसी वक्त राहुल-तेजस्वी 2019 की एक वृहद रणनीति को आखिरी रूप दे रहे हैं.   तेजस्वी का आत्मविश्वास बुलंदियों पर है. मार्च और मई के उपचुनावों ने उनके दामन ...

Read More »

भाजपा व जहरीली मानसिकता वाले मीडिया के मुंह पर फिर तमाचा, अररिया वॉयरल विडियो निकला झूठा

अररिया देश विरोधी नारा लगाने के भाजपा नेताओं और उसके पोषित मीडिया के बेशर्म झूठ पर करारा तमाचा लगा है क्योंकि देश विरोधी नारे लगाने का षड्यंत्रकारी विडियो झूठा साबित हो गया है. (कुछ न्यूज वेबसाइट्स से ने भी अपनी जहरीली मानसिकता समाज में भरने की कोशिश की थी) मार्च में अररिया लोकसभा चुनाव में राजद के सरफराज आलम ने ...

Read More »

जब धरे गये पासवान तो याद आये मुसलमान: सम्पादकों की मिटिंग में कुछ ऐसे झुल्लाये, कि फिर..

पटना में सम्पादकों के साथ खास मुलाकात के लिए राम विलास पासवान मंगलवार को रू ब रू थे. वह मोदी सरकार की चार सालों की उपलब्धियों की चर्चा करने आये थे.  अनौपचारिक बात चीत काफी गर्मागर्म होती चली गयी. पत्रकारों ने उनसे तीखे सवाल किये और बस पासवान झुल्ला गये.   वह बता रहे थे कि कांग्रेस के जमाने में ...

Read More »

जोकीहाट उपचुनाव विश्लेषण: जीत हार के लिए नीतीश-तेजस्वी से भी बड़ा है यहां एक फैक्टर

अभी बीते मार्च की ही बात है. अररिया में उपचुनाव हुआ था. तस्लीमुद्दीन की मौत के बाद उनके बेटे सरफराज उनकी राजनीतिक विरासत के लिए लड़े थे. और जीते थे. फर्क यह था कि सरफराज जदयू छोड़ कर राजद से लड़े थे. तस्लीमुद्दीन  के जनाजे में उमड़ी भीड़ उनकी लोकप्रियता को दर्शाती है. सितम्बर 2017 में उनकी मौत हुई थी. ...

Read More »

नोटबंदी पर नीतीश का बदला बयान: स्वार्थ या कुछ और ? सिद्धांत-विचार कहाँ गए साहब

जब सारा देश नोटबंदी के हाहाकार का शिकार था, बीजेपी के अलावा सारी पार्टियों के नेता उसके विरोध में लामबंद हो गए थे, लेकिन तभी ये नीतीश कुमार थे जो बीजेपी  में नहीं रहते हुए भी नोटबंदी के समर्थन में कूद पड़े थे.   नीतीश के इस फैसले पर ज्यादा टार लोगों के होश उड़ गए थे. क्यूंकि सरे देश ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट: कर्नाटक में भाजपा ने गज भी हारा व थान भी गंवाया, क्या 2019 भयावह सपना बन जायेगा?

कर्नाटक में सारे कर्म-कुकर्म के बाद सरकार ना बना पाने के कारण भाजपा गज भी हार गयी और थान भी गंवा बैठी. लेकिन उसके लिए उससे भी पीड़ादायक कांग्रेस-जेडीएस का सरकार बनना और विपक्ष की एकजुटता है. इर्शादुल हक, एडिटर, नौकरशाही डॉट कॉम यह एकजुटता भाजपा के माथे पर चिंता की लकीरें खीचने वाली हैं. अगर कर्नाटक में भाजपा ने ...

Read More »

हम एक झूठे और फरेबी भारत की ओर बढ़ रहे हैं

 कर्नाटक के नाटक का क्लाइमॅक्स अभी बाकी है लेकिन इस नाटक का सबसे दुखद पहलू यह है कि राज्यपाल से लेकर न्यायिक व्यवस्था का  हर चेहरा बेनकाब होकर सामने आ चुका  हे.करनाटक के राज्यपाल ने कांग्रेस और जे डी एस को नजरअंदाज करके जिस तरह यदुरप्पा  को फ्लोर टैस्ट  के लिए पंद्रह दिन का समय  दिया , इससे मोदी के ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट:अल्पसंख्यक, दलित व पिछड़ों के लिए नीतीश का यह दाव विपक्ष व सहोयगियों का सरदर्द बढ़ा देगा

विश्लेषकों के लिए यह दिलचस्प रहा है कि बिना किसी मजबूत वोटबैंक के नीतीश कुमार डेढ दशक से सत्ता केंद्र कैसे बने हुए हैं. इस सवाल के अनेक जवाबों में से एक यह है कि नीतीश जबर्दस्त कलकुलेटिव दाव खेलने में माहिर हैं. हमारे एडिटर इर्शादुल हक का विश्लेषण पिछले तीन हफ्ते में नीतीश ने दलितों, अतिपिछ़ों और अल्पसंख्यकों के ...

Read More »

एडिटोरियल कमेंट: भाजपा को इशारो-इशारों में ललकारने लगे हैं नीतीश, तो क्या है उनकी अगली रणनीति ?

नीतीश कुमार के तेवर भाजपा के प्रति लगातार सख्त होते जा रहे हैं. वह कुछ दिनों से सार्वजनिक कार्यक्रमोॆ में भाजपा को इशारों में ललकारने लगे हैं. नीतीश की रणनीति पर ध्यान देने वालों को पता है कि वह गठबंधन सहयोगी के खिलाफ धीरे-धीरे ही माहौल बनाते हैं.   भाजपा को ललकारने का ताजातरीन उदाहरण कर्नाटक के चेन्नागिरी का है. ...

Read More »