Latest

सीतामढ़ी में शराब माफिया ने की दारोगा की गोली मार हत्या

सीतामढ़ में शराब माफिया ने की दारोगा की गोली मार हत्या सीतामढ़ी में दिल दहलानेवाली घटना हुई है। शराब माफिया और पुलिस में मुठभेड़ हुई, जिसमें शराब माफियाओं ने एक दारोगा की गोली मार हत्या कर दी। आज सीतामढ़ी में दिन-दहाड़े एक दारोगा की गोली मार कर हत्या कर दी। शहीद होने वाले एसआई का नाम है दिनेश राम। मुठभेड़ ...

Read More »

तेजस्वी के हमले से पहली बार डिफेंसिव दिखे नीतीश

तेजस्वी के हमले से पहली बार डिफेंसिव दिखे नीतीश विधानसभा के बाहर और भीतर लगातार विरोध, आलोचना और राजनीतिक हमले के बाद पहली बार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार डिफेंसिव दिख रहे हैं। कुमार अनिल विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के लगातार हमले के बाद पहली बार मुख्यमंत्री रक्षात्मक मुद्रा में दिखे। मुख्यमंत्री ने कल विधानसभा में सरकार का पक्ष रखते हुए ...

Read More »

विस में मुख्यमंत्री को उन्हीं के एजेंडे पर तेजस्वी ने घेरा

विस में मुख्यमंत्री को उन्हीं के एजेंडे पर तेजस्वी ने घेरा विस में मुख्यमंत्री को उन्हीं के एजेंडे पर तेजस्वी यादव ने घेरा। आंकड़ों से बताया कि लालू राज से 101 प्रतिशत अपराध बढ़े हैं। इस आंकड़े पर पूरा सदन चुप रहा। कुमार अनिल आज बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव यादव मंझे हुए राजनीतिज्ञ की तरह कभी ...

Read More »

विपक्ष टैक्टर पर आक्रामक, जदयू का बंद कमरे में प्रशिक्षण

विपक्ष टैक्टर पर आक्रामक, जदयू का बंद कमरे में प्रशिक्षण आज तेजस्वी यादव ट्रैक्टर पर निकले। विपक्ष आक्रामक दिख रहा है, जबकि आज जदयू के सारे प्रमुख नेता बंद कमरे में प्रशिक्षण में व्यस्त रहे। किधर जा रहा बिहार? कुमार अनिल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपनी सबसे बड़ी पूंजी मानते रहे हैं-क्राइम, करप्शन और कम्युनलिज्म से कोई समझौता नहीं। ये तीन ...

Read More »

कोकीन तस्करी में पामेला के बयान पर भाजपा में गृहयुद्ध

कोकीन तस्करी में पामेला के बयान पर भाजपा में गृहयुद्ध पश्चिम बंगाल में भाजपा नेता पामेला गोस्वामी के कोकीन के साथ रंगे हाथों पकड़े जाने और इस मामले में कैलाश विजयवर्गीय के करीबी का नाम आने के बाद बवाल मच गया है. जेल की सलाखों में जाते जाते पामेला ने ऐसा बयान दिया है कि भाजपा के पश्चिम बंगाल प्रभारी ...

Read More »

ड्राई स्टेट बिहार में जहरीली शराब से मचा मौत का तांडव

ड्राई स्टेट बिहार में जहरीली शराब से मचा मौत का तांडव ड्राई स्टेट बिहार में जहरीली शराब ने मचाया मौत का तांडव शराब पर पूर्ण प्रतिबंध का मजाक तो बिहार में हर रोज उड़ता है लेकिन पिछले 48 घंटे में मुजफ्फरपुर में शराब ने तांडव मचा दिया है. मुजफ्फरपुर जिले 48 घंटे में पांच लोगों की मौत से पुलिस और ...

Read More »

ह्यूमन राइट्स वॉच: भारत मे अल्पसंख्यकों से भेदभाव सरकारी तंत्र की नीति

ह्यूमन राइट्स वॉच: भारत मे अल्पसंख्यकों से भेदभाव सरकारी तंत्र की नीति भारत: अल्पसंख्यकों को निशाना बनातीं सरकारी नीतियां, कार्रवाइयां  दिल्ली हिंसा का एक साल, जांच को प्रभावित करता मुस्लिम–विरोधी पूर्वाग्रह (न्यूयॉर्क, 19 फरवरी, 2021) – ह्यूमन राइट्स वॉच ने आज कहा कि भारत में सरकारी तंत्र ने मुसलमानों के खिलाफ सुव्यवस्थित रूप से भेदभाव करने और सरकार के आलोचकों को बदनाम करने वाले कानूनों और नीतियों को अपनाया है. सत्तारूढ़ हिंदू राष्ट्रवादी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार में अन्तर्निहित पूर्वाग्रहों ने पुलिस और अदालत जैसी स्वतंत्र संस्थाओं में पैठ बना ली है, यह बेख़ौफ़ होकर धार्मिक अल्पसंख्यकों को धमकाने, उन्हें हैरान-परेशान करने  और उनपर हमले करने की खातिर राष्ट्रवादी समूहों को लैस कर रही है. 23 फरवरी, 2021 को दिल्ली सांप्रदायिक हिंसा के एक साल पूरे हो रहे हैं जिसमें 53 लोग मारे गए थे. मृतकों में 40 मुस्लिम थे. भाजपा नेताओं द्वारा हिंसा भड़काने और हमलों में पुलिस अधिकारियों की संलिप्तता के आरोपों समेत पूरे मामले की विश्वसनीय और निष्पक्ष जांच करने के बजाय, सरकारी तंत्र ने कार्यकर्ताओं और विरोध प्रदर्शन के आयोजकों को निशाना बनाया है. सरकार ने हाल ही में एक अन्य जन प्रतिरोध, इस बार किसान आन्दोलन पर कार्रवाई की है.  इसने अल्पसंख्यक सिख प्रदर्शनकारियों को बदनाम किया है और अलगाववादी समूहों के साथ उनके कथित जुड़ाव की जांच शुरू कर दी है. ह्यूमन राइट्स वॉच की दक्षिण एशिया निदेशक मीनाक्षी गांगुली ने कहा, “भाजपा द्वारा अल्पसंख्यकों की कीमत पर हिंदू बहुसंख्यकों को आलिंगनबद्ध करने के प्रयासों का सरकारी संस्थानों पर भी असर हुआ है, जो बिना भेदभाव के कानून द्वारा समान संरक्षण की अनदेखी कर रहे हैं. सरकार न सिर्फ मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यकों को हमलों से सुरक्षा प्रदान करने में नाकामयाब हुई है, बल्कि वह कट्टरपंथियों को राजनीतिक संरक्षण प्रदान कर रही है और उनका बचाव कर रही है.” सरकार के भेदभावपूर्ण नागरिकता कानून और प्रस्तावित नीतियों के खिलाफ सभी धर्मों के भारतीयों द्वारा महीनों तक चलाए गए शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शनों के बाद, फरवरी 2020 में दिल्ली में हमले हुए. भाजपा नेताओं और समर्थकों ने राष्ट्रीय हितों के खिलाफ साजिश का आरोप लगाकर प्रदर्शनकारियों, खास तौर से मुसलमानों को बदनाम करने की कोशिश की. इसी तरह, विभिन्न धर्मों के हजारों-हजार किसानों द्वारा नवंबर 2020 में सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन शुरू किए जाने के बाद भाजपा के वरिष्ठ नेताओं, सोशल मीडिया पर उनके समर्थकों और सरकार परस्त मीडिया ने एक अन्य धार्मिक अल्पसंख्यक, सिखों को बदनाम करना शुरू कर दिया. उन्होंने 1980 और 90 के दशक में पंजाब के सिख अलगाववादी विद्रोह का हवाला देते हुए सिखों पर यह आरोप लगाया कि उनका “खालिस्तानी” एजेंडा है. 8 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में विभिन्न शांतिपूर्ण प्रदर्शनों में भाग लेने वाले लोगों को “परजीवी” बताया और भारत में बढ़ते सर्वसत्तावाद की अंतर्राष्ट्रीय आलोचना को “विदेशी विनाशकारी विचारधारा” कहा. 26 जनवरी को पुलिस और प्रदर्शनकारी किसानों, जिन्होंने दिल्ली में प्रवेश करने के लिए पुलिस बैरिकेड्स तोड़ डाले थे, के बीच हिंसक झड़पों के बाद सरकार ने पत्रकारों के खिलाफ निराधार आपराधिक मामले दर्ज किए, कई जगहों पर इंटरनेट बंद कर दिया, ट्विटर को पत्रकारों और समाचार संस्थानों सहित लगभग 1,200

Read More »

आप भी जीत सकते हैं पंचायत चुनाव, ये हैं जीत के चार नुस्खे

आप भी जीत सकते हैं पंचायत चुनाव, ये हैं जीत के चार नुस्खे आप मुखिया, पंसस, जिला परिषद सदस्य के लिए चुनाव लड़ना व जीतना चाहते हैं, तो सिर्फ गांव के चक्कर लगाने से काम नहीं चलेगा। ठोस रणनीति बनानी होगी। कुमार अनिल बिहार में पंचायत चुनाव का बिगुल बज चुका है। 2 लाख 98 हजार से ज्यादा पदों के ...

Read More »

शहीद किसानों को श्रद्धांजलि न देने पर तेजस्वी ने सरकार को घेरा

शहीद किसानों को श्रद्धांजलि न देने पर तेजस्वी ने सरकार को घेरा आज विस में तेजस्वी यादव ने शहीद किसानों को श्रद्धांजलि देने की मांग की, लेकिन सत्तापक्ष तैयार नहीं हुआ। इसे तेजस्वी ने बड़ा मुद्दा बनाया। घेरा सरकार को। कुमार अनिल कुछ दिन पहले लोकसभा में राहुल गांधी ने शहीद किसानों को श्रद्धांजलि देते हुए मौन रखा, तो उनका ...

Read More »

ईवीएम सुरक्षित होने के दावे पर पूर्व आईएएस ने उठाया सवाल

ईवीएम सुरक्षित होने के दावे पर पूर्व आईएएस ने उठाया सवाल बिहार में पंचायत चुनाव भी ईवीएम से होनेवाले है। इस बीच पूर्व आईएएस अधिकारी ने ईवीएम के सुरक्षित होने के दावे परबड़ा सवाल उठा दिया है। जानिए क्या है सवाल। कुमार अनिल पूर्व आईएएस अधिकारी कन्नन गोपीनाथन ने एक बड़ा सवाल उठा दिया है। उन्होंने ईवीएम सुरक्षित होने के ...

Read More »