इजराइल जाने के लिए लखनऊ में युवाओं की लगी लंबी कतार

इजराइल जाने के लिए लखनऊ में युवाओं की लगी लंबी कतार

इजराइल जाने के लिए लखनऊ में युवाओं की लगी लंबी कतार। बेरोजगारी का आलम ऐसा कि वहां जान जाने का खतरा, फिर भी जाने को तैयार।

उत्तर प्रदेश में भयानक ठंड के बावजूद युवा कतार में खड़े हैं। ये युवा रोजगार के लिए इजराइल जाने को तैयार हैं। लखनऊ में कल से इन युवाओं की स्क्रिनिंग चल रही है। सोशल में कम ही चर्चा है, लेकिन अलजजीरा ने इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया है। अखबार ने लिखा है कि हमास से जारी युद्ध के कारण इजराइल में जान को खतरा है, इसके बावजूद उप्र के युवा वहां जाने को तैयार हैं। कुछ दिनों पहले ऐसे ही एक युवा का वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वह कह रहा था कि यहां देश में भूखे मरने से अच्छा है रोटी कमाते हुए इजराइल में मरना।

पत्रकार पियूष राय ने एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें सैकड़ों की संख्या में युवा कतारबद्ध दिख रहे हैं। वे अपनी बारी की प्रतीक्षा कर रहे हैं। पत्रकार ने ट्वीट किया ये इजराइल में मजदूरी के लिए जाने वालों की कतार है। 23 जनवरी को आईटीआई, लखनऊ में इन युवाओं का निबंधन तथा स्क्रिनिंग शुरू हुई। इसमें युवाओं की भारी भीड़ देखी जा सकती है। एक हफ्ता पहले हिंदुस्तान की खबर थी कि इजराइल जाने के इच्छुक युवाओं की 29 जनवरी से स्क्रिनिंग होगी। हालांकि अब सोशल मीडिया से जानकारी मिल रही है कि 23 जनवरी से ही प्रक्रिया शुरू हो गई है। अखबार ने लिखा था कि ऐसे सभी युवाओं के स्वास्थ्य की भी जांच की जाएगी।

दैनिक भास्कर के पत्रकार सचिन गुप्ता ने भी लखनऊ में युवाओं की लगी कतार का वीडियो शेयर करते हुए लिखा-ये लंबी कतार इजराइल जाने वालों की है। काम की तलाश और अच्छे पैसों की चाह में उत्तर प्रदेश, बिहार सहित कई राज्यों के ये मजदूर इजराइल जाना चाहते हैं। इनकी स्क्रीनिंग लखनऊ में चल रही है। यूपी सरकार 10 हजार मजदूरों को इजराइल भेजने जा रही है।

अल-जजीरा ने लिखा है कि जनवरी की ठंडी सुबह है। सूरज भी नहीं उगा है। लेकिन हरियाणा के रोहतक में युवक लाइन लगा कर खड़े हैं। ये इजराइल में जान को खतरे में डाल कर मजदूरी करने जाना चाहते हैं। सोशल मीडिया में कई लोगों ने बोरोजगारी पर चिंता जताई है।

राहुल गांधी ने अग्निवीरों का मसला उठाया। उन्होंने सेना की तैयारी करने वाले युवाओं से बातचीत के बाद कहा अग्निपथ घोटाले ने भारत के देशभक्तों के साथ धोखा किया है – 1.5 लाख युवाओं को पुरानी भर्ती से नियुक्ति का वादा कर बदले में बेरोज़गारी और हताशा दी है। सरकार उन्हें या तो भर्ती दे या मुआवज़ा – हम रुकेंगे नहीं जब तक नहीं मिलेगा ‘युवा न्याय’।