रघुबर सरकार की पिटी भद्द, झारखंड हाईकोर्ट ने PFI से प्रतिबंध हटा दिया

झारखंड की रघुबर दास सरकार की भद्द पिट गयी है. झारखंड हाईकोर्ट ने PFI पर लगाये गये प्रतिबंध को हटा दिया है. पीएफआई बिहार के प्रदेश उपाध्यक्ष ने नौकरशाही डॉट कॉम को यह खबर दी है.

PFI, ban lifted, Jharkhand High Court,

पीएफआई पर लगे पत्रिबंध को झारखंड सरकार ने खारिज कर दिया है

ज्ञात हो कि झारखंड की रघुबर सरकार ने पिछले फरवरी 2018 में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया(PFI) पर प्रतिबंध लगा दिया था. रघुबसरकार का दावा था कि पीएफआई  का सबंध अतिवादी संगठन आएस है. सरकार ने दावा किया था कि पीएफआई के अनेक नेता सीरिया जा चुके हैं.

अप्रैल महीने में इस संगठन पर प्रतिबंध लगाने के मुद्दे को मेनस्ट्रीम मीडिया ने अभियान के तौर पर लिया था और पीएफआई को आतंकी संगठन के रूप में पेश किया था.

PFI पर प्रतिबंध फरवरी में लगा था

लेकिन इस मामले को पीएफआई के लिगल विंग ने झारखंड हाईकोर्ट में चुनौती दी थी.  इस माले की लगातार सुनवाई के बाद झारखंड सरकार ने उस पर लगाये आरोप को अदालत में साबित नहीं कर सकी. पीएफआई के प्रदेश उपाध्यक्ष शमीम अख्तर ने बताया कि झारखंड हाई कोर्ट ने झारखंड सरकार द्वारा लगाये गये तमाम आरोपों को बेबुनियाद बताया और इस बेबुनियाद आरोप के कारण रघुबर सरकार की फटकार भी लगायी है.

Related देश जलाऊ पत्रकारों ने PFI जिंदाबाद को पाकिस्तान जिंदाबाद बना दिया

उधर पीएफआई के अध्यक्ष ईंजीनियर अबुबकर ने झारखंड हाई कोर्ट के इस फैसले का शुक्रिया अदा किया है और उन्होंने सोशल मीडिया पर अपने समर्थकों को शुभकामनायें दी हैं.

गौरतलब है कि इस मामले में लॉ डिपार्टमेंट की सहमति के बाद PFI को सीएलए एक्ट 1968 की धारा 16 के तहत प्रतिबंधित किया गया था. झारखंड में यह संगठन पाकुड़ और साहिबगंज जिले में सक्रिय है. संथाल परगना के ये जिले बांग्लादेश की सीमा से सटे हुए हैं. पुलिस फाइल के मुताबिक पीएफआई पर यह आरोप लगाया गया था कि  यहां राष्ट्र विरोधी गतिविधियां सुनने को मिलती हैं. हालांकि राज्य सरकार ने अपने आरोपों को अदालत में नहीं साबित कर सकी है.

क्या है PFI का उद्देश्य

PFI का गठन 2006 में हुआ था. इस संगठन का उद्देश्य नये हिंदुस्तान के निर्माण है. पीएफआई नेशनल कंफेडरेशन आफ ह्यूमेन राइट आर्गनाइजेशन के साथ मिल कर काम करता रहा है. इस तरह मानव अधिकार के क्षेत्र में काम करने का यह संगठन दावा करता है. संगठन पर अतिवादी होने के कई बार आरोप लगे हैं लेकिन इसका दावा है कि वह सोशल डेमोक्रेटिक मूल्यों और समता आधारित समाज के निर्माण के लिए काम करता है.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*