जीतन राम मांझी ने खोला राज कि कहां हैं तेजस्वी और क्या कर रहे हैं

जीतन राम मांझी ने खोला राज कि कहां हैं तेजस्वी और क्या कर रहे हैं

तेजस्वी यादव कहां हैं और चमकी बुखार से मचे हाहाकार जैसे ज्वलंत मुद्दे पर भी क्यों खामोश हैं. यह या ऐसे ही कई गंभीर सवाल तेजस्वी यादव के परिदृश्य से गायब रहने पर किये जा रहे हैं. आधिकारिक रूप से राजद का कोई भी नेता यह नहीं बता पा रहा है कि आखिर तेजस्वी हैं, तो कहां हैं. लेकिन सिर्फ एक व्यक्ति है जो दावे से कहा रहा है कि तेजस्वी क्या कर रहे हैं और परिदृश्य से क्यों गायब हैं. ये हैं- जीतन राम मांझी.

मांझी ने कहा है कि लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद तेजस्वी यादव गहन आत्म समीक्षा में व्यस्त हैं. वह हार के कारणों पर अनेक विशेषज्ञों से राय-मश्विरा कर रहे हैं. वह आत्मसमीक्षा के जिस दौर से गुजर रहे हैं उस में समय लग रहा है.

हिंदुस्तान अवाम मोर्चा के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने यहां तक दावा किया है कि तेजस्वी यादव 28 जून से शुरू होने वाले विधानसभा सत्र में विपक्ष की भूमिका निभाने के लिए मौजूद रहेंगे.

नौकरशाही डॉ कॉम से सम्पर्क

आप को बता दें किनौकरशाही डॉट  कॉम को यह पक्की जानकारी मिली थी कि तेजस्वी यादव दो हफ्ते पहले दिल्ली में थे. लेकिन फिलहाल वह कहां हैं इसकी जानकारी नहीं मिली है

याद रहे कि 2019 लोकसभा चुनाव परिणाम 23 मई को आया था. राजद की इस चुनाव में करारी हार हुई थी और उसे 40 में से एक भी सीट नहीं मिली थी. इसके बाद तेजस्वी यादव ने कुछ औपचारिक बयान ( किसी के जन्म दिन पर शुभकामना या किसी की मृत्यु पर शोक संदेश) के अलावा कोई बयान जारी नहीं किया.

देखें जीतन मांझी ने क्या कहा

लोगों की नाराजगी इस बात को ले कर है कि बिहार में चमकी या दिमागी बुखार महामारी के रूप में फैल गयी , नतीजे में 160 से ज्यादा बच्चों की मौत हो गयी लेकिन तेजस्वी यादव ने इस पर ना तो कोई बयान दिया और ना ही वह महामारीग्रस्त इलाकों में गये. हां, इतना जरूर है कि पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने चमकी से हुई मौतों पर संवेदना व्यक्त की और नीतीश सरकार पर निशाना साधा, लेकिन राबड़ी का बयान आने में काफी वक्त लगा.

उधर जिस तरह से जीतन राम मांझी दावा कर रहे हैं कि 28 जून से शुरू होने वाले विधानसभा सत्र में तेजस्वी मौजूद रहेंगे और विपक्ष के नेता की भूमिका निभायेंगे, तो ऐसे में राजद व तेजस्वी यादव से सहानुभूति रखने वालों के लिए यह एक संतोष की खबर है.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*