कल भास्कर पर छापा, आज The Wire के दफ्तर पहुंची पुलिस

कल भास्कर पर छापा, आज The Wire के दफ्तर पहुंची पुलिस

कल दैनिक भास्कर व भारत समाचार पर छापा और आज पुलिस The Wire के दफ्तर पहुंची। पेगासस जासूसी मामले को उजागर करने में इसकी खास भूमिका रही है।

कल दैनिक भास्कर और यूपी के न्यूज चैनल भारत समाचार पर छापा पड़ा। भारत समाचार पर तो आज तक आयकर विभाग का छापा जारी था। दैनिक भास्कर के नेशनल एडिटर ने क्या कहा, इस पर हम आगे चर्चा करेंगे। पहले यह जान लीजिए कि 24 घंटे के भीतर पुलिस दूसरे मीडिया संस्थान के दफ्तर पहुंची। पुलिस द वायर के दफ्तर पहुंची और पूछा कि आपके दफ्तर का रेंट एग्रीमेंट हुआ है?

द वायर के फाउंडिंग एडिटर सिद्धार्थ ने ट्वीट करके जानकारी दी कि आज पुलिस उनके दफ्तर पहुंची। द वायर की पेगासस जासूसी मामले को उजागर करने में खास भूमिका रही है। उसने हर जानकारी को विस्तार के साथ छापा है। सिद्धार्थ ने बताया कि पुलिस ने दफ्तर में पहुंच कर पूछा कि विनोद दुआ कौन हैं? स्वरा भास्कर कौन हैं? इसके अलावा पुलिस ने दफ्तर का रेंट एग्रीमेंट पेपर दिखाने को कहा। जब पुलिसवालों से सवाल किया गया कि आप यह सब क्यों पूछ रहे हैं, तो उनका जवाब था यह 15 अगस्त से पहले की रूटीन पूछताछ है।

सिद्धार्थ के ट्वीट करते ही सोशल मीडिया पर यूजर्स द वायर के दफ्तर में पुलिस के प्रवेश की आलोचना कर रहे हैं। एनडीटीवी के पत्रकार उमाशंकर सिंह ने तंज कसते हुए ट्वीट किया- पुलिस कल विजय चौक पर विपक्ष के सांसदों से ‘जानकारी’ जुटाने की कोशिश कर रही थी, आज फिर मीडिया दफ़्तर पहुंच ‘जानकारी’ जुटा रही है! सरकार इस क़दर डरी हुई है!

इस बीच दैनिक भास्कर के नेशनल एडिटर ओम गौड़ ने कहा कि इनकम टैक्स छापे के दौरान अधिकारी कह रहे थे कि आपलोग ऑनलाइन एडिशन की खबरें ठीक से प्रकाशित नहीं कर रहे। ओम गौड़ ने यह बात एक टीवी चैनल से बात करते हुए कही। यूजर्स कह रहे हैं कि अब इनकम टैक्स के अफसर बताएंगे कि खबर कैसे लिखी जाए, उसकी हेडिंग क्या हो !

चंद्रशेखर आजाद को तिवारी जनेऊधारी कहने पर तीखी प्रतिक्रिया

उधर, भारत समाचार से जुड़ीं प्रज्ञा मिश्रा, जिन्होंने हाथरस कांड को लोगों के सामने लाया था, ने कहा- कल सुबह 8 बजे से आज दूसरे दिन की दोपहर हो चुकी है…आयकर विभाग की छापेमारी भारत समाचार के दफ्तर, संपादक और डायरेक्टर्स के घरों पर चल रही है..आयकर विभाग को अभी तक कुछ नहीं मिला..सच परेशान हो सकता है पराजित नहीं।

किसानों को मवाली कहने के खिलाफ मंत्री के घर के सामने प्रदर्शन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*