कन्हैया, जिग्नेश व हार्दिक तीनों आएंगे बिहार, गरमाएगी राजनीति

कन्हैया, जिग्नेश व हार्दिक तीनों आएंगे बिहार, गरमाएगी राजनीति

दो दिनों से कांग्रेस के युवा नेता कन्हैया कुमार मंडी लोस उपचुनाव में धुआंधार प्रचार कर रहे हैं। कन्हैया, जिग्नेश और हार्दिक पटेल जल्द आएंगे बिहार।

कुमार अनिल

जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष और हाल में कांग्रेस में शामिल हुए कन्हैया कुमार हिमाचल प्रदेश में मंडी लोकसभा क्षेत्र में उपचुनाव में पार्टी प्रत्याशी के लिए जोरदार प्रचार कर रहे हैं। हिमाचल में कन्हैया ने अपने खास अंदाज में प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा के भीतर वंशवाद पर करारा हमला किया।

नई खबर यह है कि कन्हैया कुमार जल्द बिहार आनेवाले हैं। खास बात यह कि गुजरात के विधायक और दलित नेता जिग्नेश मेवानी तथा हार्दिक पटेल भी उनके साथ होंगे। कांग्रेस के सूत्रों ने बताया कि ये तीनों नेता 21 या 22 अक्टूबर को बिहार आएंगे। यहां तीनों नेता कुशेश्वरस्थान और तारापुर विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस के लिए सभाएं करेंगे। प्रचार करेंगे।

इन तीनों युवा नेताओं का एक साथ आना बिहार की राजनीति को गरमाने के लिए काफी है। कांग्रेस के लिए यो उपचुनाव प्रतिष्ठा के बन गए हैं। पहले बालेश्वर राम, उनके बेटे डॉ. अशोक राम कांग्रेस के विधायक रह चुके हैं। अब डॉ. अशोक कुमार के पुत्र अतिरेक कुमार यहां कुशेश्वरस्थान से कांग्रेस प्रत्याशी हैं। कुशेश्वरस्थान क्षेत्र पर 2020 चुनाव में कांग्रेस दूसरे स्थान पर थी। वह महज छह हजार वोटों से हारी। इसलिए कांग्रेस का दावा यहां स्वाभाविक लगता है। अगर कांग्रेस ने यह सीट छोड़ दी होती, भविष्य में उसकी यह सीट नहीं रहती। तारापुर से राजेश कुमार मिश्र प्रत्याशी हैं।

दो दिन पहले एआईसीसी की तरफ से बिहार कांग्रेस के प्रभारी भक्तचरण दास ने दोटूक लहते में कहा था कि राजद ने उसकी परंपरागत सीट पर प्रत्याशी देकर ठीक नहीं किया। कांग्रेस के दावे पर विचार किए बिना अपना प्रत्याशी दे दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस यहां सिर्फ अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए चुनाव नहीं लड़ रही, बल्कि जीतने के लिए लड़ रही है। अब कन्हैया, जिग्नेश और हार्दिक तीनों के आने से उनकी बात सही प्रतीत होती है।

कांग्रेस इन तीनों युवा नेताओं की दो विधानसभा क्षेत्रों में प्रचार के जरिये पूरे बिहार में संदेश देना चाहेगी कि किस प्रकार कांग्रेस ही सबसे आगे बढ़कर भाजपा और प्रधानमंत्री मोदी की नीतियों के खिलाफ सबसे आगे बढ़कर लड़ रही है। कांग्रेस बिहार के युवाओं में भी संदेश देना चाहेगी कि किस प्रकार युवाओं का आकर्षण कांग्रेस के प्रति बढ़ा है, ताकि अन्य जिलों में भी कांग्रेस संगठन को मजबूत किया जा सके, युवाओं को जोड़ा जा सके।

सांसद मनोज तिवारी का सिर फटा, मूत्र विभाग में भर्ती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*