जल कर नहीं, इसबार डूब कर रावण मरेगा

साहित्य सम्मेलन में आचार्य धर्मेंद्र ब्रह्मचारी और कीर्त्यानंद सिंह की जयंती पर आयोजित हुआ कविसम्मेलन

पटना,२८ सितम्बर। भारी वर्षा से जलमगन हो रहे पटना पर आज कवियों ने भी छींटाकशी की और कहा – “जल कर नहींडूब कर रावण मरेगा अबके सालगांधी मैदान महा सागर बनेगा अबके साल। अवसर था,मूर्द्धन्य साहित्यकार आचार्य धर्मेंद्र ब्रह्मचारी शास्त्री और स्तुत्य कला और साहित्यसंरक्षक राजा बहादुर कीर्त्यानंद सिंह की जयंती पर आयोजित कविसम्मेलन का।

साहित्य सम्मेलन में आयोजित इस सारस्वत उत्सव का आरंभ जलदेवता के नमन से हुआजिसमें यह प्रार्थना की गई किनगर की स्थिति से आप अवगत हैं इंद्रदेव थोड़ा समझबूझ कर बरसिए!

वरिष्ठ कवि डा रमाकान्त पाण्डेय नेवर्षा पानी,पानीपानी/अंदर पानीबाहर पानीऊपर पानी,नीचे पानीपानी कहता राम कहानीदेखो दुनिया आनीजानी/नहीं था पानीआया पानीबिन बादल के बरसा पानी। 

आरंभ में अतिथियों का स्वागत करते हुए,सम्मेलन के उपाध्यक्ष नृपेंद्रनाथ गुप्त ने कहा किकीर्त्यांन्द सिंह स्वयं एक बड़े कवि थे। उनके परिसर में प्रायः हीं कविसम्मेलन और साहित्यिक गोष्ठियाँ होती थी। वे उदारता के साथ कवियों को सम्मानित और पुरस्कृत करते थे। वे एकएक कविता के लिए सोने की अशर्फ़ी दिया करते थे। 

आचार्य शास्त्री के पुत्र नरेंद्र कुमार ने अपने संस्मरणों के साथ पिता को श्रद्धांजलि दी और कहा किआचार्य जी का बिहार हिन्दी साहित्य सम्मेलन से बहुत हीं गहरा लगाव था। सम्मेलन के उत्थान के लिए सदैव तत्पर रहते थे। हमें भी प्रेरित करते थे और उनके हीं कारण हम सभी भाईबहन प्रायः ही सम्मेलन के आयोजनों में भाग लिया करते थे। शास्त्री जी गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और साहित्य के पक्षधर थे। वे एल एस कौलेज मुज़फ़्फ़रपुर के प्राचार्य, बिहार आर्य प्रतिनिधि सभा के प्रधान, विद्यालय निरीक्षक आदि अनेक पदों पर कार्य किया।

अपने अध्यक्षीय उद्गार में सम्मेलन अध्यक्ष डा अनिल सुलभ ने कहा कि साहित्य में शोध की दृष्टि से आचार्य धर्मेंद्र ब्रह्मचारी शास्त्री का योगदान अविस्मरणीय है। प्राचीन हस्तलिखित पांडुलिपियों पर किए गए उनके कार्यसाहित्यसंसार की धरोहर हैं। इस विषय पर,राष्ट्रभाषा परिषद द्वारा प्रकाशित उनकी शोधपुस्तक विश्व के ३० बड़े विश्वविद्यालयों के पुस्तकालयों में शोधार्थियों के लिए संदर्भग्रंथ के रूप में उपयोग में लाई जा रही है। 

उन्होंने राजा बहादुर कीर्त्यानंद सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुएउन्हें कला,संगीत और साहित्य का महान संरक्षक बताया। डा सुलभ ने कहा कि बनैली राज की कीर्ति दूरदूर तक उनके अवदानों के कारण फैली। उन्होंने साहित्य सम्मेलन भवन के निर्माण में दस हज़ार रूपए की राशि उस समय दी थी,जब यह देश स्वतंत्र भी नहीं हुआ था। वे एक सत्र के लिए सम्मेलन के अध्यक्ष भी बनाए गए थे। वे स्वयं एक कवि भी थे और उनका दरबार कवियों से सुशोभित होता था। आज उनके जैसे उदार दानियों और संस्कृतिसंरक्षकों का अकाल पड़ गया है। यही कारण है किआज ये सारस्वत प्रवृतियाँ समाज में हासिए पर चली जा रही है। 

डा सुलभ ने अपने अध्यक्षीय काव्यपाठ का आरंभ इस मुक्तक से किया कि जल कर नहीं डूब कर रावण मरेगा अबके सालगांधी मैदान महा सागर बनेगा अबके सालआँख में पानी कहाँयह तो है एक नरक निगम चूल्लू भर पानी या आँचल चुनेगा अबके साल। उन्होंने अपनी ग़ज़ल तड़प है कि तलब है कि ज़िद है बाक़ी/यह दिल भी धड़कता है कि उम्मीद है बाक़ी” का भी सस्वर पाठ किया। 

इस अवसर परकिशनगढ़,राजस्थान की आध्ययात्मिक संस्था ज्ञान मंदिरद्वारा अध्यात्म कल्पतरु‘ सम्मान से विभूषित किए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*