5540 करोड़ की लागत से पीएमसीएच का होगा जीर्णोद्धार  

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने आज बताया कि 5540.07 करोड़ रुपये के निवेश से पांच हजार बेड क्षमता के साथ तीन चरण में पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल को विश्ववस्तरीय अस्पताल बनाया जाएगा।

श्री पांडेय ने विधानसभा में वित्त वर्ष 2019-20 के लिए स्वास्थ्य विभाग की बजट मांग पर हुई चर्चा का जवाब देते हुये बताया कि सरकार ने पीएमसीएच को 5000 बेड क्षमता के साथ तीन चरण में विश्ववस्तरीय अस्पताल बनाने का निर्णय लिया है। पीएमसीएच को विश्वस्तरीय अस्पताल बनाने के लिए 5540.07 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा। उन्होंने बताया कि राज्य में 11 मेडिकल कॉलेज खोलने की प्रक्रिया भी शुरू की जाएगी।

मंत्री ने बताया कि पटना के इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (आईजीआईएमएस) की भी बेड क्षमता बढ़ाई जाएगी और इसकी विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार कर ली गई है। उन्होंने बताया कि आईजीआईएमएस परिसर में 500 बेड क्षमता वाले नये भवन का निर्माण कराया जा रहा है। पुराने भवन में 150 बेड की सुविधा आज से शुरू की गई है तथा 150 और बेड की सुविधा इस वर्ष 22 जुलाई तक शुरू हो जाएगी।

श्री पांडेय ने बताया कि 128.96 करोड़ रुपये की लागत से कोइलवर में मानसिक आरोग्यशाला का निर्माण कराया जा रहा है। पहले चरण में इस अस्पताल को 272 बेड की क्षमता के साथ शुरू कर दिया जाएगा । उन्होंने बताया कि 14 अनुमंडलों में 209.78 करोड़ रुपये के निवेश से 50 और 100 बेड की क्षमता वाले अस्पताल खोले जाएंगे।

मंत्री ने बताया कि बिहार में मरीजों को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने के लिए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), पटना के अलावा अन्य एम्स की स्थापना की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। उन्होंने बताया कि मुजफ्फरपुर के श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज अस्पताल (एसकेएमसीएच) परिसर में 200 करोड़ रुपये की लागत से कैंसर अस्पताल की स्थापना की जाएगी।
श्री पांडेय ने बताया कि आईजीआईएमएस परिसर में अन्य कैंसर अस्पताल के निर्माण का कार्य चल रहा है। इसकी क्षमता 100 बेड की होगा। उन्होंने बताया कि पीएमसीएच में किडनी प्रत्यारोपण इकाई शुरू करने के लिए बुनियादी ढांचा तैयार किया जा रहा है ।
मंत्री ने बताया कि अस्थि संबंधी बीमारी के इलाज के लिए राजधानी पटना के राजवंशी नगर स्थित लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल को सुपर स्पेशिएलिटी अस्पातल में अपग्रेड किया जाएगा। इसकी क्षमता 400 बेड की होगी। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार ने केंद्र प्रायोजित योजना के तहत बिहार में नौ ट्रॉमा सेंटर स्थापित करने की प्रशासनिक स्वीकृति दी है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने मोकामा प्रखंड के रेफरल अस्पताल परिसर में तृतीय स्तर के ट्रॉमा सेंटर खोलने का निर्णय लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*