NDA में चले जायेंगे मांझी, कह दी ये बात

NDA में चले जायेंगे मांझी, कह दी ये बात

 

हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी हाल ही में हुए उपचुनाव में गठबंधन दलों को सहयोग नहीं करने का आरोप लगाया. दूसरी तरफ उन्होंने साफ कह दिया है कि उनकी पार्टी का फिर से एनडीए में जाने से कोई एतराज नहीं है.

jitan ram manjhi

झारखंड का चुनाव स्वतंत्र लड़ने का निर्णय

 

मांझी ने आज गुरुवार को एक प्रेस कांफ्रेंस की. और घोषणा की कि उनकी पार्टी झारखंड में अकेल चुनाव लड़ेगी. मालूम हो कि झारखंड में घोषित विधानसभा चुनाव में राजद भी हिस्सा लेगा. ऐसे समय में जीतन राम मांझी ने कहा कि एनडीए से हम आरक्षण के मुद्दे पर अलग हुए थे. लेकिन आज भी नरेंद्र मोदी आरक्षण की हमारी शर्तों को माने लेते हैं तो पूरा दलित समाज उनके साथ हो जायेगा. हमारी पार्टी भी एनडीए में शामिल हो सकती है.

 

हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (से०) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और  बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री श्री जीतन राम मांझी की अध्यक्षता में 7 नवंबर 2019 (गुरुवार) को 11:30 बजे से जिला अध्यक्ष, केंद्रीय एवं राज्य कार्यकारिणी की बैठक राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी के आवास 12 एम स्ट्रैंड रोड पटना में संपन्न हुई । जिसमे उन्होंने साफ़ कहा कि झारखंड और 2020 बिहार विधानसभा चुनाव अकेले लड़ेगा हम.

पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी सह प्रवक्ता अमरेंद्र कुमार त्रिपाठी ने बैठक की जानकारी देते हुए बताया कि बैठक में सदस्यता अभियान चलाकर 30 दिसंबर 2019 तक हर हाल में बूथ स्तर की कमेटी बना लेने का निर्देश पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बीएल वैश्यन्त्री के द्वारा जिला अध्यक्षों को  दिया गया। ऐसा ना करने पर 30 दिसंबर के बाद वे जिला अध्यक्ष नहीं रह पाएंगे।

झारखंड का चुनाव स्वतंत्र लड़ने का निर्णय: हम

बैठक में विचारोपरांत निर्णय लिया गया कि झारखंड विधानसभा चुनाव में हम पार्टी  उम्मीदवार खड़ा करेगी। झारखंड का चुनाव स्वतंत्र लड़ने का निर्णय लिया गया। किन सीटों पर चुनाव लड़ेंगे या कौन-कौन उम्मीदवार होंगे 10 नवंबर 2019 को घोषणा कर दी जाएगी। झारखंड में होने वाले चुनाव के लिए पार्टी ने आगे निर्णय लेने के लिए राष्ट्रीय प्रधान महासचिव डॉ संतोष कुमार सुमन को अधिकृत किया है।

 

जीतन राम मांझी ने की अनुसुचित जाति आरक्षण को दो भागों में बाँटने की मांग

 

हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने बिहार विधानसभा 2020 के चुनाव स्वतंत्र रूप में लड़ने का अपना पुराना निर्णय को दोहराया है। महागठबंधन में कोआर्डिनेशन कमेटी का ना होने एवं सर्वसम्मति से निर्णय नहीं होने की स्थिति में ऐसा निर्णय लिया गया है।

आगे विचारोंपरन्त निर्णय लिया गया कि बिहार में एनआरसी लागू करने की आशंका के अंतर्गत दलित मुस्लिम एकता कायम करने पर जोर दिया गया । जिसके लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष को आगे की कार्यवाही करने हेतु अधिकृत किया गया।

माननीय बिहार विधान परिषद सदस्य श्री संजय पासवान छठ की प्रसाद एवं शुभकामना हेतु पूर्व मुख्यमंत्री श्री जीतन राम मांझी के आवास पर पहुंचे। माननीयविधान पार्षद 26 नवंबर 2019 को दिल्ली में संविधान दिवस मनाने के अवसर पर आमंत्रण देने आए थे। जिसे उन्होंने आमंत्रण को स्वीकार करते हुए कहा कि वह संविधान क्लब दिल्ली में भाग लेने की स्वीकृति भी दी ।

जीतन राम मांझी ने खोला राज कि कहां हैं तेजस्वी और क्या कर रहे हैं

 

यह मुलाकात राजनीति से परे थी ।  यह मुलाकात परसपरिक मिलन जुलन एवं दिल्ली में संविधान दिवस के अवसर पर आयोजित आयोजन में भाग लेने तक ही सीमित थी।

 

 

 

इस महत्वपूर्ण बैठक में राष्ट्रीय प्रधान महासचिव बिहार विधान परिषद सदस्य डॉ संतोष कुमार सुमन, प्रदेश अध्यक्ष बीएल वैश्यन्त्री, पूर्व मंत्री डॉ अनिल कुमार, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामेश्वर प्रसाद आलू यादव, श्री राजेश्वर मांझी, श्री रंजीत कुमार चंद्रवंशी, श्री धीरेंद्र कुमार सिन्हा, तौसीफ उर रहमान खान, श्री देवेंद्र मांझी, श्री रामविलास प्रसाद, श्री रत्नेश पटेल, श्री अजय कुमार राय, श्री रामचंद्र रावत, श्रीमती गीता पासवान, श्रीमती पूनम पासवान, टूटू खान, श्री संजय यादव, श्री मुकेश मांझी, श्री प्रफुल्ल मांझी, श्री अशोक मांझी, जावेद आलम, श्री अशोक रजक, शरीफुल हक, श्री अमित विक्रम, श्री किशोर कुमार मुन्ना, श्री महेश पासवान, सनाउल्लाह, श्री हरेंद्र सिंह, श्री शिव कुमार मांझी, श्री रमेश राम आदि नेता इस बैठक में मौजूद थे

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*