मसान डैम प्रोजेक्ट अधूरा, भयावह तबाही, फिर से काम शुरू करे सरकार

मसान डैम प्रोजेक्ट अधूरा, भयावह तबाही, फिर से काम शुरू करे सरकार

Manju Bala Pathak
Manju Bala Pathak

कांग्रेस की नेता मंजु बाला पाठक ने कहा है कि पश्चिम चम्पारण के रामनगर में मसान नदी से लाखों एकड़ भूमि तबाह हो गयी है. जबकि मसान डैम प्रोजेक्ट पर करोड़ों रुपये खर्च करके काम रोक देने के काण भारी आर्थिक क्षति हो चुकी है.

मंजु बाला पाठक ने सरकार से मांग की है कि मसान डैम प्रोजेक्ट के काम को सिंगल विंडो द्वारा प्राथमिकता के आधार पर शुरू किया जाये.

उन्होंने कहा कि यह नदी पहाड़ी स्थानों से निकलती है तो इस नदी के पानी में वेग बहुत होता है फलस्वरूप कटाव भी बहुत तेजी से होता है। दर्जनों गांव इसके चपेट में रहते है तथा लाखों जनसंख्या इससे प्रभावित होती है।


दूसरा पहलू देखा जाए तो इसके पानी के वेग से बिजली पैदा की जा सकती है।हालांकि कुछ जगहों पे इससे हल्की बिजली पैदा की जाती है,परन्तु इसको व्यापक स्तर पर परियोजना लाकर सरकार को चाहिए कि इसके जल का उचित मात्रा में दोहन किया जा सकें। जिससे स्थानिय लोगों को रोजगार भी मिलेगा।


मंजु बाला पाठक ने कहा मसान डैम जो सरकार की बहुप्रतक्षित योजना थी , अरबों रुपया खर्च करके कई मशीनों को सरकार द्वारा खरीददारी करके ,ऑर करोड़ों रुपए का भवन बना के परियोजना को रोक दी गई। मेरा मानना है कि सिंगल विंडो सिस्टम के तहत सरकार को इस पर पुनर्विचार करना चाहिए ऑर काम करनेवाली एजेंसियों को अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी कर इस परियोजना को पुनः शुरू करवाने का प्रयास करना चाहिए।


पाठक ने कहा कि इसके जल का भंडारण करने ऑर छोटे छोटे नहरों का निर्माण करा कर उस जल का कृषि क्षेत्र में समुचित उपयोग करवाने का प्रयत्न करना चाहिए।


पर्यावरण मंत्रालय से भी समन्वय स्थापित कर मसान डैम के किनारे लाखों पेड़ लगाने का सरकार को प्रयत्न करनी चाहिए।


मंजुबला पाठक ने केंद्र और बिहार सरकार से ये मांग मांग की कि दशकों से ठंडे बस्ते में पड़े अरबों रुपए की मसान डैम परियोजना को पुनः चालू किया जाये और लाखों जनसंख्या जो इससे प्रभावित है उसे बचाया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*