मोदी-शाह के किले को भेदने आ रहीं मुमताज, रातों-रात सुर्खियों में

मोदी-शाह के किले को भेदने आ रहीं मुमताज, रातों-रात सुर्खियों में

गुजरात में कांटों के बीच से भी सफलता का रास्ता निकाल लेने वाले अहमद पटेल को कौन नहीं जानता। वे सोनिया गांधी के सलाहकार थे। अब उनकी बेटी मुमताज मैदान में।

गुजरात को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का किला माना जाता है, जहां पिछले 27 साल से उनका राज है। उसी गुजरात के थे अहमद पटेल, जो सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार थे। उन्हें दुर्गम रास्तों के बीच से भी सफलता का रास्ता निकाल लेने के लिए जाना जाता था। वे सिर्फ चाणक्य नहीं थे, बल्कि योद्धा भी थे। दो साल पहले कोनोना महामारी में उनका निधन हो गया था। उसके बाद से गुजरात में विपक्ष की राजनीति में एक खालीपन था, जिसे कांग्रेस ने भरने की तैयारी कर ली है।

अहमद पटेल की बेटी मुमताज पटेल मोदी-शाह के किले को भेदने के लिए मैदान में उतर रही हैं। वे महिला हैं, युवा हैं और अल्पसंख्यक वर्ग से हैं। पिता की मौत के बाद अहमद पटेल मेमोरियल नाम से संस्था बना कर पिता के कार्यों को संभाल रही हैं, आगे बढ़ा रही हैं। उनके पिता अहमद पटेल द्वारा स्थापित सरदार पटेल अस्पताल और हार्ट इंस्टीट्यूट सहित अन्य कार्यों के जरिये गुजरात में जनसेवा कर रही हैं।

मुमताज पटेल न सिर्फ सामाजिक कार्यों में सक्रिय हैं, बल्कि भाजपा और संघ की राजनीति के खिलाफ मुखर भी रही हैं। बिलकिस बानो के रेपिस्टों की सजा माफ करने, उन्हें मिठाई खिलाने पर मुमताज ने सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरा था। हाल में उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से मुलाकात की। इसके बाद अचानक रातों-रात मुमताज सुर्खियों में आ गई हैं। सोशल मीडिया में उनके बारे में लोग खूब अपनी राय दे रहे हैं।

गुजरात के राजनीतिक मैदान में मोदी-शाह के खिलाफ मुमताज पटेल का उतरना महज संयोग नहीं है, बल्कि कांग्रेस की रणनीति का हिस्सा है। खुद खड़गे राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद कह चुके हैं कि पार्टी आगामी चुनावों में 50 प्रतिशत टिकट युवाओं को दिया जाएगा।

गुजरात में भी कांग्रेस पुराने नेताओं के अलावा युवा नेताओं को सामने ला रही है। पार्टी ने दलित नेता जिग्नेश मेवानी को उसी सोच के साथ आगे किया है। अब कांग्रेस मेवानी के साथ ही मुमताज पटेल को भी आगे लाने की तैयारी कर चुकी है।

मुमताज सामाजिक कार्यों के साथ ही संघ-भाजपा के हिंदुत्व खिलाफ मुखर रही हैं। खड़गे से मुलाकात के बाद लगातार पत्रकार उनका इंटरव्यू ले रहे हैं। मुमताज पटेल ने भी शाह-मोदी के खिलाफ खुला मोर्चा खोल दिया है। हां, यह बताना भी जरूरी है कि वे मोदी-शाह के खिलाफ लड़ाई में अपने पिता की तरह भाषा का संयम नहीं खोतीं। एक इंटरव्यू में मुमताज ने कहा कि भाजपा-संघ गुजरात के कार्यों पर चुनाव लड़ने से भाग रहे हैं। वे प्रधानमंत्री मोदी के नाम पर चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी तो सबके प्रधानमंत्री हैं, भाजपा ने गुजरात में क्या किया, उसका हिसाब दे। रोजगार, शिक्षा, कृषि, आदिवासी हितों के मामले में उसने क्या किया, इसका जवाब दे। मुमताज महिला मुद्दों पर भी काफी मुखर हैं। उनके ट्विटर टाइम लाइन पर जा कर देखा जा सकता है।

बिहार को 7 करोड़, यूपी को 1988 करोड़, आगबबूला हुए तेजस्वी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*