मुन्ववर राणा मुसलमानों को सियासी यतीम बनाने पर तुले हैं

मुन्ववर राणा मुसलमानों को सियासी यतीम बनाने पर तुले हैं

Irshadul Haque

उर्दू शायर मुन्ववर राणा ने यूपी में Asaduddin Owaisi के चुनाव लड़ने के विरोध पर उन्हें MIM ने करारा जवाब देते हुए कहा है कि वह मुसलमानों को सियासी रूप से यतीम बनाना चाहते हैं.

एक टीवी इंटर्व्यू में Munawwar Rana ने कहा है कि “यूपी में असदुद्दीन ओवैसी के उतरने के बाद फिर से बीजेपी सरकार बनती है और योगी मुख्यमंत्री बनते हैं तो वो प्रदेश छोड़कर चले जाएंगे.ओवैसी के बाप तो मामूली आदमी थे. बंगाल के मुसलमानों ने इनको नंगा करके भगाया है बिहार के कुछ बेवकूफों ने गलती कर दी है”.’

मुन्वर की इस टिप्पणी पर आल इंडिया मज्लिस ए इत्तेहादुल मुसलेमीन के बिहार प्रदेश अध्यक्ष अख्तरुल ईमान ने कहा है कि उनकी यह टिप्पणी गुलाम मानसिकता से भरे व्यक्ति की टिप्पणी है. वह नहीं चाहते कि असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़े. ओवैसी इस देश के मिल्लत को नयी कयादत दे रहे हैं.

Munawwar Rana के घर पुलिस छापेमारी, परिवार आक्रोशित

अख्तरुल ईमान ने कहा कि याद रखिए कि एक बच्चे के पिता की मौत से बच्चा यतीम हो जाता है और अगर एक मिल्लत को आप अपने कायद से महरूम कर देंगे तो पूरी मिल्लत ( समाज) यतीम हो जायेगी.

आप किसी सियासी पार्टी के लोकतांत्रिक अधिकार को खत्म करने की बात कह रहे हैं. आप कह रहे हैं कि आप हैदराबाद के हैं वहीं चुनाव लड़िये. क्या कोई मुन्ववर राणा से यह कहता है कि आप लखनऊ के मुशायरे में शामिल होइए हैदराबाद नहीं जाइए?

गुलनाज हत्या मामला:AIMIM ने कहा जालिमों को गिरफ्तार करो नहीं तो होगा आंदोलन

AIMIM के बिहार प्रदेश अध्यक्ष व विधायक अख्तरुल ईमान कहते हैं कि यह नहीं भूलना चाहिए कि ओवैसी ने भारतीय मुसलमानों के कायद हैं. कई शख्स अपने वालिद की मौत पर यतीम होता है तो अपने कायद से महरूम हो कर एक एक समाज महरूम हो जाता है. अख्तरुल ईमान कहते हैं कि मुन्वर राणा साहब बड़े शायर हैं हम उनकी शायराना सलाहियत की कद्र करते हैं लेकि उन्हें सियासत की समझ नहीं है. अगर वह ओवैसी साहब के चुनाव लड़ने भर से डरते हैं तो उन्हें लॉकडाउन की तबाही क्यों नहीं याद आयी और गंगा में बहती और रेत में गड़ी लाशों को देख कर उन्होंने यूपी से चले जाने का फैसला क्यों नहीं लिया?

अख्तरुल ईमान ने कहा कि मुन्ववर राणा साहब कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं. उन्हें कांग्रेस पसंद हैं. तो वह यूपी की जनता पर अपनी पसंद क्यों थोपना चाहते हैं.

दूसरा पहलु

मुन्वर राणा ने न्यूज चैनल एबीपी से कहा कि बंगाल के मुसलमानों ने ओवैसी को नंगा करके भगा दिया. तो ऐसे में वह यूपी के मुसलमानों को जागरूक कर सकते है. उन्हें इस काम के लिए किसने रोका है. लेकिन यह कहना कि ओवैसी को हैदराबद में चुनाव लड़ें. यूपी में न लड़ें यह कुतर्क है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*