नया नारा : मंदिर मांगोगे, हजार देंगे; रोजगार मांगोगे मार देंगे

नया नारा : मंदिर मांगोगे, हजार देंगे; रोजगार मांगोगे मार देंगे

रोजगार मांग रही महिला आंदोलनकारी के साथ पुलिस दुर्व्यवहार देख लेखक अशोक कुमार पांडेय ने लिखा- मंदिर मांगोगे, हजार देंगे; रोजगार मांगोगे मार देंगे।

मध्यप्रदेश, बिहार हो या यूपी, आजकल रोजगार मांगने पर पुलिस की लाठियां मिलनी आम हैं। आज कांग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष इमरान प्रतापगढ़ी ने यूपी में रोजगार मांग रही महिला आंदोलनकारी की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा- ये शर्मनाक तस्वीर उत्तर प्रदेश से आई है, जहां रोज़गार मांग रहे युवाओं के साथ ये सुलूक़ किया जा रहा है।

तस्वीर और ट्वीट पर ‘उसने गांधी को क्यों मारा’, ‘कश्मीर और कश्मीरी पंडित’ तथा ‘कश्मीरनामा’ जैसी पुस्तकों के लेखक और इतिहासकार अशोक कुमार पांडेय ने एक नया नारा ही दे दिया-मंदिर मांगोगे, हजार देंगे; रोजगार मांगोगे मार देंगे। इस नारे को पढ़कर नफरती ट्रोल्स का वह नारा याद आता है जिसमें वे कहते थे-दूध मांगोगे, खीर देंगे, कश्मीर मांगोगे, चीर देंगे। हाल में कांग्रेस नेता राहुल गांधी जब जम्मू-कश्मीर के दौरे पर गए, तब फिर एक बार ट्रोल्स ने यह चीर देनेवाले ट्वीट किए।

लेखक अशोक पांडेय ने मंदिर मांगोगे, हजार देंगे, रोजगार मांगोगे, मार डालेंगे नारे से आज की राजनीति का पर्दापाश कर दिया है। कहां तो दूध मांगने पर खीर दे रहे थे, अब रोजगार मांगने पर ही मार डालने पर उतारू हैं। YurInnerVoice ने ट्वीट किया-

मंदिर माँगोगे हज़ार देंगे

रोज़गार माँगोगे मार देंगे

और खबरदार जो महामहिम से कुछ माँगा

तो मांगते ही बीच से चीर देंगे

ऐसे कुविचारों को दिमाग से छील देंगे

जात धर्म में तुम्हे बाँट देंगे कसम से

मंदिर माँगोगे हज़ार देंगे, रोज़गार माँगोगे मार देंगे।

उधर सोशल मीडिया पर आज भी इन हैशटैग #रेल_ग्रुपD_परीक्षा_कराओ #रेल_ग्रुपD_परीक्षा_कराओ #StopPrivatization #StopSellingIndia के साथ बेरोजगार युवा अपनी पीड़ा बता रहे हैं। इसी बाच एनएमपी के नाम से भारत सरकार की जो नई पाइपलाइन आई है, उसके बाद रोजगार की क्या हालत होगी, इसे समझा जा सकता है।

सरकारी संपदा बेचने पर पीएम का पहला पुतला BYC ने फूंका

नरेंद्र अटल ने लिखा कि सरकार युवकों को बेवकूफ बना रही है। वर्षों से परीक्षा ही नहीं ले रही। बड़ी संख्या में बेरोजगार युवा #Rail_Apprentices के साथ ट्वीट कर रहे हैं कि वे वर्षों से न्याय की उम्मीद में हैं। #UP_आईटीआई_अनुदेशको_की_भर्ती_करो के साथ विपिन शुक्ला ने ट्वीट किया-मान्यवर आईटीआई में अनुदेशक की भर्ती पर भी ध्यान दीजिए। 7 साल हो गए भर्ती का इंतजार करते करते। हम लोगों की उम्र निकली जा रही है। आखिर कब होगी भर्ती???

गोल्ड मेडलिस्ट चोपड़ा ने ‘सांप्रदायिक खिलाड़ियों’ पर फेंका ‘भाला’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*