तेजस्‍वी ने नीतीश सरकार को बताया चोरी व डकैती की सरकार

बिहार के पूर्व उपमुख्‍यमंत्री और राजद नेता तेजस्‍वी यादव ने नीतीश कुमार के नेतृत्‍व में राज्‍य में चल रही एनडीए की सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि बिहार में डकैतो, लुटेरों, हत्यारों और अपराधियों के हौसले सातवें आसमान पर है, क्योंकि सूबे का मुखिया ही ख़ुद डाका डाली हुई और चोरी की हुई सरकार चला रहे है. वो तो अपराधियों के आदर्श और प्रेरणास्त्रोत बन गए है. कहां है नैतिकता? कहां दुबक गयी अंतरात्मा? है जवाब? 

नौकरशाही डेस्‍क

बता दें कि बीते शुक्रवार को राजद विधायक उपेंद्र पासवान के घर पर आज शाम अपराधियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग की थी. इस घटना में आरजेडी विधायक उपेंद्र पासवान बाल-बाल बच गए थे, मगर उनके घर पर मौजूद दो लोगों को गोली लगी थी. जिसके बाद से तेजस्‍वी यादव ने नीतीश सरकार पर जमकर हमला बोला है. इसी क्रम में आज उन्‍होंने कहा कि बिहार में डकैतो, लुटेरों, हत्यारों और अपराधियों के हौसले सातवें आसमान पर है, क्योंकि सूबे का मुखिया ही ख़ुद डाका डाली हुई और चोरी की हुई सरकार चला रहे है.

तेजस्‍वी ने इससे पहले कहा था कि जिस सूबे के CM पर ख़ुद संगीन हत्या का गंभीर मामला हो, उससे आप दूसरो की सुरक्षा की उम्मीद क्या कर सकते है? विगत दशक मे विज्ञापन की blackmailing कर मीडिया से अपराध और लूट की ख़बरे दबवाकर सुशासन बाबू बने नीतीश कुमार अब सोशल मीडिया के जमाने मे सुशासन बाबू बनकर दिखाये ? उन्‍होंने कहा कि नीतीश कुमार ख़ुद बिहार सरकार द्वारा दिए गए 350 SSG गार्ड, 10 बुलेट प्रूफ़ कार, केंद्र द्वारा दी गई Z प्लस सुरक्षा, CRPF और विपक्ष की सारी सुरक्षा लिए हुए है. अच्छी बात है लेकिन विपक्षी नेताओं की सुरक्षा और उनपर हमले की ज़िम्मेवारी कौन लेगा नीतीश कुमार जी?

तेजस्‍वी ने आगे कहा कि नीतीश कुमार में कानून व्यवस्था की घटिया होती स्थिति सुधारने की काबिलियत नहीं तो नैतिकता और समाज सुधार की बात किस मुंह से करते हैं? ख़बर एडिट व कंट्रोल करने के बजाय अपने गुर्गों को कंट्रोल करें, विपक्ष पर गुंडे इस्तेमाल करने की हिम्मत ना करें, जनता मुर्ख नहीं. नीतीश जी, अगर आप सोचते है कि अपने पालतू और प्रशासन प्रायोजित गुंडो से राजद के विधायकों, कार्यकर्ताओ व समर्थको को मरवाकर आप तेजस्वी को न्याय यात्रा करने से रोक देंगे तो आप ख़ुद को धोखा दे रहे है. माना पुलिस तंत्र 13 साल से आपके कब्ज़े में है, लेकिन हिम्मत है तो चुनावी मैदान मे आकर लड़ो.

About Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*